Tuesday, July 31, 2012

‘Gulshan Me Mere Thi Bahaar ’- Datta Dawjekar



'Gulshan Me Mere Thi Bahaar ’ 
                                         - Datta Dawjekar 
                             .....................Shishir Krishna Sharma

English write up edited by Ms. Aksher Apoorva
Datta Dawjekar’s filmography provided by Shri Harish Raghuwanshi
All other photos provided by Shri S.M.M.Ausaja
‘Golconda Ka Qaidi’ song taken with thanks from http://www.shamshadbegum.com 

No one can ignore the contribution of Marathi speaking artistes towards the enrichment of Hindi Cinema and music. Among stalwarts like Dadasahab Phalke, Jagtap Brothers, Bhalji Pendharkar, Master Vinayak, Vasant Rao Joglekar, V.Shantaram, Pandit Gobind Rao Tembe, Vasant Desai, Snehal Bhatkar, C.Ramchandra, Lata Mangeshkar and Asha Bhonsle, there is an almost unheard name that of Music DirectorDatta Dawjekar, who, with complete dedication, contributed to film Music and then with changing times chose to lead a retired life.

Partition had also left an everlasting impression on Hindi Film Music. Gifted artistes like Noorjehan and Ghulam Hyder had migrated to Pakistan. Newcomers like S.D.Burman, C.Ramchandra, Mukesh and Rafi were fast gaining recognition. At the same time there came a young singer with a very thin, soft and sweet voice whose style of singing was very different from that of well-established singers like Shamshad Begum, Zohrabai Ambalewali and Amirbai Karnatki from that era. And in no time did this new singer named Lata Mangeshkar dominated the film world and completely changed the face of the film music scenario. The credit to introduce Lata to playback singing goes to the composer Datta Dawjekar. Lata’s debut film as a playback singer was a 1947 release Aapki Sewa Me whose music director was Datta Dawjekar.

Datta Dawjekar was born in Pune. His father Babu Rao Dawjekar was a Tabla player with the theatre companyAryasubodhiniwhich was owned by Sohrab Modi’s brother K.K.Modi. Just by watching his father and his students playing, Datta Dawjekar too started playing Tabla. He learnt classical singing from Suresh Bhai Mane, the brother of well-known classical singer Hira Bai Barodkar and eventually started writing and composing songs for Ganpati celebrations.  He toured the entire country as a Piano player for the well-known actress Shanta Apte’s Ballet Group and whenever he would get time he learnt to play the Jaltarang from Pandit Dattopant mangal Vedekar. In the year 1935 Datta Dawjekar joined the Music Director Suresh Bhai Mane as his assistant at Pune based film company Saraswati Cinetone.

Ramchandra Gopal Torne, who was the owner of Saraswati Cinetone, is also known as the producer-director of the first film made in India titled Pundalikwhich was released on 18th May 1912 in Mumbai. But ‘Pundalik’ did not attain the title of being the First Indian Filmbecause this was a recording of a popular Marathi play and also because it’s cameraman was a Britisher and hence the film was processed out of country i.e. in London. Thus the honor of the ‘First Indian Film’ is given to Dadasahab Phalke’s filmRaja Harishchandrawhich was released a year later than Pundalikon 3rd May 1913. The first talkie film made under the banner of ‘Saraswati Cinetonewas a Hindi-Marathi bilingual Shyam Sunder which was made in the year 1932. This was also the debut film of actor Shahu Modak’s as well. Apart from a dozen of Marathi films, Hindi films like Awara Shehzada’ (1933), ‘Bhakt Prahlad’, ‘Bhedi Rajkumar’ (both 1934), ‘Krishna Shishtai’ (1935), ‘Raja Gopichand’ (1938), ‘Sach hai’ (1939) andAwaaz’ (1942) were also made under the banner ofSaraswati Cinetone.

master vinayak
After some time Datta Dawjekar resigned from Saraswati Cinetoneand joined Music Director Pandit Gobind Rao Tembe as his assistant for Navyug Studios underproduction Marathi filmSavangadi. Meanwhile he used to often come to Mumbai from Pune to give singing lessons to Durga Khote and Naseem. Datta Dawjekar was also very quick in writing down notations of any song and this quality had Sohrab Modi quite impressed. After the completion of the filmSavangadi,  Sohrab Modi offered a job to Datta Dawjekar at his production company Minerva Movietone which was to look after its music department and Datta Dawjekar spent a few years there as well. The first film Datta Dawjekar got as an independent Music Director wasNavyug StudiosMunicipalitywhich was released in the year 1941.  In the year 1942 Datta’s second filmSarkari Pahunewas made under the same banner and both these films proved to be big hits. In the year 1942, Master Vinayak, one of the partners of Navyug Studioleft this company and shifted to Kolhapur where he founded Prafull Pictures.  Datta Dawjekar was once again made the in charge of ‘Prafull Pictures’s music department. 

lata
It was at Prafull Picturesthat Lata met Datta Dawjekar. During a meeting at his residence at Four Bunglows-Lokhandwala area of Andheri (West) a few years back Datta Dawjekar said, Lata met me there because she was searching for a job. She was around 14 years old at that time. I liked her voice and singing and helped her get a job at Prafull Picturesat a monthly salary of Rs.80.  And then later when Master Vinayak informed me that Lata was the daughter of late vocalist Dinanath Mangeshkar my inclination towards her grew because Master Dinanath Mangeshkar who had died very young was a very respectable name among musicians at that time. Lata was very young when she was forced to shoulder the responsibilities of a big family, but still she was very witty and spirited.  Her favorite prank was to mimic the people around thus making everybody laugh in the process.  I used to bribe her with chocolates to make her sing her father’s compositions which were no less than a precious treasure for me.”   

mahipal
Datta Dawjekar composed music for 3 films forPrafull Picturesviz. Majha Baal’, ‘Chimukla Sansar’ (both 1943) and Gajabhau’ (1944). In the year 1945 ‘Prafull Picturesshifted from Kolhapur to Mumbai, and Datta Dawjekar also came down to Mumbai where he got a job with Young India Gramophone Companyto give lessons to singers apart from just looking after the recording work. Chandrama Pictures’ (Mumbai)’s Vasant Joglekar directed film Aapki Sewa Me was Datta Dawjekar’s first Hindi film as a Music Director. Lata Mangeshkar’s debut song as playback singer paa lagoon kar jori re shyaam mose na khelo hori was from the same film. It was a Thumri which was posturized on actress Rohini Bhate. There were 2 more solos of  Lata’s in the filmAapki Sewa Meviz. ek naye rang me dooje umang meandab kaun sunega mere mann ki baat. The remaining 5 songs weredesh me sankat aaya hai’ (Rafi, Sajan), ‘meri ankhon ke taare’ (Rafi), ‘Gulshan Me Mere Thi bahaar’ (Sajan), ‘phulbagiya lehraaye’ (Mohantara Talpade) andmai teri tu mera’ (Rafi, Mohantara). All these songs were penned by renowned actor Mahipal who was also a very good poet.

Apart from Aapki Sewa Me,  Datta Dawjekar composed music for 4 more Hindi films. These were, Mangal Pictures’ ‘Adaalat’ (1948) & Jeet Kiski’ (1952), ‘P.N.Films’ ‘Golconda Ka Qaidi’ OR ‘The Prisoner Of Golconda’ (1954) and C.F.S.IndiasBaal Shivaji’ (1982). The filmGolconda Ka Qaidiwas produced and directed by actor Prem Nath.  This was his younger brother and actor Rajinder Nath’s debut film as well. Jagannath and Kundanlal were Datta Dawjekar’s Co-Music Directors in the film. Among a total of 8 songs which were sung by Sudha Malhotra, Rafi, Madhubala Zaveri, Geeta Dutt, Prem Nath and Shamshad Begum, dhad dam chak lag rahi jungle me(Shamshad Begum) was a big hit.

Datta Dawjekar was based in Pune till that time but in the year 1952, on Lata’s persuasion, he permanently shifted base to Mumbai and joined Music Director C.Ramchandra as his chief assistant. He worked with him for 10 years but simultaneously also kept on composing for Marathi films, plays and documentaries as an independent music director. According to Datta Dawjekar, “ I wrote and composed a song ‘ina mina mona bass’ for a Marathi children play which eventually turned into the hit song ‘ina mina dika’ from C.Ramchandra’s film ‘Asha’ which released in the year 1957”.   

Datta Dawjekar composed more than a 1000 songs in a total of 5 Hindi, 51 Marathi and around 500 Documentary films. Playback singer Anuradha Podwal was also introduced by Datta Dawjekar whose debut song ghumla hridayi ninad hain the Marathi filmYashoda’ (1974) was again a big hit. Datta Dawjekar won Maharashtra Government’s Best Music Director award for 5 consecutive years since 1962. He also won Maharashtra Government’s Lata Mangeshkar Puraskarand Sur Singar Puraskar. But his greatest honor remains in introducing the legend, Lata Mangeshkar, to Hindi Film Music’ for which the Hindi film industry will always be grateful to him.

Fondly called DD, Music Director Datta Dawjekar was born on 15.11.1917 in Pune and passed away in Mumbai on 19.09.2007 at the age of 90 years.  

Acknowledgements : We are thankful to Shri D.B.Samant, Shri Harmandir Singh ‘Hamraz’, Shri Harish Raghuvanshi, Shri Biren Kothari and Shri S.M.M.Ausaja for their valuable suggestions, guidance and help.
......................................................................................................................

Few links :

Lata songs/Gajabhau/1944

Paa lagoon kar jori re/Aapki Sewa Me/1947

dhad dam chak lag rahi/ Golconda Ka Qaidi /1954

ghumla hridayi ninad ha/Yashoda /1974
.....................................................................................................................


गुलशन में मेरे थी बहार’-दत्ता डावजेकर 
                             ................................शिशिर कृष्ण शर्मा

हिंदी सिनेमा और सिने-संगीत को समृद्ध बनाने में मराठीभाषी संगीतकारों और गायक-गायिकाओं के योगदान को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता। दादासाहब फाल्के, जगताप बंधु, भालजी पेंढारकर, मास्टर विनायक, वसंतराव जोगलेकर, वी.शांताराम, पंडित गोबिंदराव टेंबे, वसंत देसाई, स्नेहल भाटकर, सी.रामचन्द्र, लता मंगेशकर, आशा भोंसले और सुरेश वाडकर जैसी हस्तियों की श्रृंखला में एक अनसुना सा नाम था संगीतकारदत्ता डावजेकरका, जिन्होंने पूरे समर्पण के साथ फ़िल्म संगीत के क्षेत्र में अपना योगदान दिया और फिर ख़ामोशी के साथ सेवानिवृत्त हो गए।

देश के बंटवारे से हिंदी फ़िल्म संगीत भी प्रभावित हुआ था। नूरजहां और ग़ुलाम हैदर जैसे गुणी कलाकार भारत छोड़कर जा चुके थे। एस.डी.बर्मन, सी.रामचन्द्र, मुकेश और रफ़ी जैसे अपेक्षाकृत नए कलाकार तेज़ी से अपनी पहचान बना रहे थे। उन्हीं दिनों शमशाद बेगम, जोहराबाई अंबालेवाली और अमीरबाई कर्नाटकी जैसी स्थापित गायिकाओं की गायन-परंपरा के विपरीत बेहद कोमल, पतली और मीठी आवाज़ वाली लता मंगेशकर का आगमन हुआ, जिन्होंने देखते ही देखते अपनी गायन-शैली से फ़िल्म संगीत के चेहरे को ही बदल डाला था। लता को बतौर पार्श्वगायिका दर्शकों के सामने लाने का श्रेय दत्ता डावजेकर को जाता है। साल 1947 में बनी फ़िल्मआपकी सेवा मेंलता की बतौर पार्श्वगायिका पहली फ़िल्म थी जिसके संगीतकार थे दत्ता डावजेकर।

दत्ता डावजेकर का जन्म पुणे में हुआ था। उनके पिता बाबूराव डावजेकर सोहराब मोदी के भाई के.के.मोदी की नाटक कंपनीआर्यसुबोधिनीमें तबलावादक थे। पिता और उनके शिष्यों को देख-देखकर दता डावजेकर भी तबला बजाने लगे थे। मशहूर शास्त्रीय गायिका हीराबाई बड़ौदकर के भाई सुरेशभाई माने से उन्होंने गायन की शिक्षा ली और फिर गणपति उत्सव के दौरान गीत लिखकर उनकी धुनें बनाने लगे। अभिनेत्री शांता आप्टे केबैले ग्रुपके साथ बतौर प्यानो वादक वो देश भर में घूमे तो फ़ुरसत मिलते ही पंडित दत्तोपंत मंगल वेडेकर से जलतरंग बजाना भी सीख लिया। और फिर साल 1935 में दत्ता डावजेकर ने संगीतकार सुरेशभाई माने के सहायक के तौर पर पुणे की कंपनीसरस्वती सिनेटोनमें नौकरी कर ली।

येसरस्वती सिनेटोनके मालिक रामचन्द्र गोपाल तोरणे ही थे जिन्होंने 18 मई 1912 को मुंबई में प्रदर्शित हुई और भारत में बनी पहली फ़िल्मपुंडलिकका निर्माण किया था। लेकिनपहली भारतीय फ़िल्मका तमगा हासिल करने से ये फ़िल्म सिर्फ़ इसलिए चूक गयी थी क्योंकि एक तो ये एक मशहूर मराठी नाटक का फ़िल्मांकन थी, दूसरे इसका कैमरामैन ग़ैरभारतीय (ब्रिटिश) था और इसकी प्रोसेसिंग भी विदेश (लंदन) में हुई थी। इसलिए पहली भारतीय फ़िल्मका सम्मान हासिल हुआ दादासाहब फाल्के की फ़िल्मराजा हरिश्चन्द्रको जोपुंडलिकसे क़रीब एक साल बाद 3 मई 1913 को प्रदर्शित हुई थी।सरस्वती सिनेटोनके बैनर की पहली टॉकी हिंदी और मराठी, दो भाषाओं में बनीश्यामसुंदरथी जो साल 1932 में प्रदर्शित हुई थी। अभिनेता शाहू मोडक के करियर की ये पहली फ़िल्म थी।आवारा शहज़ादा’ (1933), ‘भक्त प्रह्लाद’, ‘भेदी राजकुमार’ (दोनों 1934), ‘कृष्ण शिष्टई’ (1935), ‘राजा गोपीचंद’ (1938), ‘सच है’ (1939) औरआवाज़’ (1942) जैसी फ़िल्मेंसरस्वती सिनेटोनके बैनर में ही बनी थीं। इसके अलावा इस बैनर में क़रीब एक दर्जन मराठी फ़िल्मों का भी निर्माण किया गया था।

कुछ समय बाद दत्ता डावजेकरसरस्वती सिनेटोनसे इस्तीफ़ा देकरनवयुग स्टूडियोकी मराठी फ़िल्मसवंगड़ीमें संगीतकार पंडित गोबिंदराव टेंबेके सहायक बन गए। उस दौरान दुर्गा खोटे और नसीम को गाना सिखाने के लिए वो अक्सर पुणे से मुंबई आते थे। किसी भी गीत की धुन को सुनते समय तेज़ी से उसकी स्वरलिपी को कागज़ पर उतारते जाना दत्ता डावजेकर की ख़ासियत थी जिससे सोहराब मोदी बेहद प्रभावित थे। फ़िल्मसवंगड़ीके पूरा होते ही सोहराब मोदी ने दत्ता डावजेकर कोमिनर्वा मूवीटोनमें बुलवा लिया, जहां उन्होंने काफ़ी समय तक म्यूज़िक डिपार्टमेंट संभाला। दत्ता डावजेकर को बतौर स्वतंत्र संगीतकार पहली जो फ़िल्म मिली, वो थीनवयुग स्टूडियोकीम्यूनिसपैलिटीजो साल 1941 में रिलीज़ हुई थी। साल 1942 में इसी बैनर में दत्ता की दूसरी फ़िल्मसरकारी पाहुणेबनी और ये दोनों ही अपने समय की सफलतम फ़िल्में साबित हुईं। साल 1942 मेंनवयुग स्टूडियोसे अलग होकर उसके भागीदारों में से एक मास्टर विनायक कोल्हापुर चले गए जहां उन्होंनेप्रफुल्ल पिक्चर्सकी नींव रखी और उसके म्यूज़िक डिपार्टमेंट की ज़िम्मेदारी दत्ता डावजेकर को सौंप दी।

लता से दत्ता डावजेकर की मुलाक़ातप्रफुल्ल पिक्चर्समें हुई थी। अंधेरी (पश्चिम) के चार बंगला-लोखंडवाला क्षेत्र स्थित अपने निवास पर हुई एक मुलाक़ात के दौरान दत्ता डावजेकर ने बताया था, “लता नौकरी की तलाश में थीं और मुझसे वो इसी सिलसिले में मिली थीं। उस समय उनकी उम्र क़रीब 14 बरस की रही होगी। उनके गायन और आवाज़ से प्रभावित होकर मैंने उन्हें 80 रूपए प्रतिमाह परप्रफुल्ल पिक्चर्समें रखवा दिया था। कुछ समय बाद मास्टर विनायक से पता चला कि लता स्वर्गीय दीनानाथ मंगेशकर की बेटी हैं, तो उनके प्रति झुकाव और भी बढ़ गया क्योंकि युवावस्था में ही चल बसे मास्टर दीनानाथ मंगेशकर संगीत के क्षेत्र का एक सम्मानित नाम थे। बहुत कम उम्र में ही परिवार की तमाम ज़िम्मेदारियों का बोझ कंधों पर जाने के बावजूद लता बेहद ही मज़ाकिया और चंचल थीं। लोगों की नक़ल उतारकर हंसने हंसाने का उन्हें बेहद शौक़ था। चॉकलेट का लालच देकर मैं उनसे उनके पिता की बंदिशें सुनता था जो मेरे लिए किसी अनमोल ख़ज़ाने से कम नहीं थीं।“ 

दत्ता डावजेकर नेप्रफुल्ल पिक्चर्सकी 3 फ़िल्मोंमाझा बाळ’, ‘चिमुकला संसार’ (दोनों 1943) औरगजाभाऊ’ (1944) में संगीत दिया। साल 1945 मेंप्रफुल्ल पिक्चर्सकोल्हापुर से मुंबई स्थानांतरित हुई तो दत्ता डावजेकर भी मुंबई चले आए औरयंग इंडिया ग्रामोफ़ोन कंपनीमें गायकों को संगीत सिखाने के अलावा रेकॉर्डिंग का भी काम देखने लगे।चन्द्रमा पिक्चर्स’ (मुंबई) की वसंत जोगलेकर द्वारा निर्देशित फ़िल्मआपकी सेवा मेंदत्ता डावजेकर की भी बतौर संगीतकार पहली हिंदी फ़िल्म थी। लता मंगेशकर का बतौर पार्श्वगायिका सबसे पहले रेकॉर्ड कराया गया गीत इसी फ़िल्म का था, ‘पा लागूं करजोरी रे श्याम मोसे ना खेलो होरी ये एक ठुमरी थी जो रोहिणी भाटे पर फ़िल्मायी गयी थी। फ़िल्मआपकी सेवा मेंमें लता के दो और सोलोगीत थे, ‘एक नए रंग में दूजे उमंग मेंऔरअब कौन सुनेगा मेरे मन की बात बाक़ी 5 गीत थेदेश में संकट आया है’ (रफ़ी, साजन), ‘मेरी आंखों के तारे’ (रफ़ी), ‘गुलशन में मेरे थी बहार’ (साजन), ‘फुलबगिया लहराए’ (मोहनतारा तलपडे) और ‘’मैं तेरी तू मेरा’ (रफ़ी, मोहनतारा) ये सभी गीत मशहूर अभिनेता महिपाल ने लिखे थे, जो एक बेहतरीन कवि भी थे।

आपकी सेवा मेंके अलावा दत्ता डावजेकर ने 4 और हिंदी फ़िल्मों में संगीत दिया। ये फ़िल्में थीं, ‘मंगल पिक्चर्सकीअदालत’ (1948) औरजीत किसकी’ (1952), ‘पी.एन.फ़िल्म्सकीगोलकुण्डा का क़ैदी’ (1954) औरसी.एफ़.एस.इंडियाकीबाल शिवाजी’ (1982) फ़िल्मगोलकुंडा का क़ैदीके निर्माता-निर्देशक अभिनेता प्रेमनाथ थे। उनके छोटे भाई अभिनेता राजिंदरनाथ ने इसी फ़िल्म से अपने अभिनय करियर की शुरूआत की थी। जगन्नाथ और कुंदनलाल इस फ़िल्म में दत्ता डावजेकर के सह-संगीतकार थे। सुधा मल्होत्रा, रफ़ी, मधुबाला ज़वेरी, गीतादत्त, प्रेमनाथ और शमशाद बेगम के गाए इस फ़िल्म के 8 गीतों में से शमशाद बेगम का गायाधड़ धम चक लग रही जंगल मेंख़ासतौर से उस ज़माने में काफ़ी लोकप्रिय हुआ था।

दत्ता डावजेकर का ठिकाना अभी तक पुणे में ही था लेकिन लता मंगेशकर के कहने पर साल 1952 में वो स्थायी रूप से मुंबई चले आए और संगीतकार सी.रामचन्द्र के साथ बतौर मुख्य सहायक काम करने लगे। क़रीब दस साल वो सी.रामचन्द्र के साथ रहे। लेकिन मराठी फ़िल्मों, नाटकों और डॉक्यूमेंटरी फ़िल्मों में उनका स्वतंत्र रूप से संगीत देना बदस्तूर जारी रहा। उनका कहना था, “एक मराठी बाल नाटक में मैंने एक गीत लिखा था और संगीतबद्ध भी किया थाइना मीना मोना बस मेरे उसी गीत पर सी.रामचन्द्र की फ़िल्मआशा’ (1957) का हिट गीतइना मीना डीकाबना था।

दत्ता डावजेकर ने कुल 5 हिंदी, 51 मराठी और क़रीब 500 डॉक्यूमेंटरी फ़िल्मों में संगीत देकर एक हज़ार से भी ज़्यादा गीतों की धुनें बनाईं। पार्श्वगायिका अनुराधा पोडवाल को ब्रेक देने का श्रेय भी दत्ता डावजेकर को ही जाता है। अनुराधा पोडवाल का दत्ता डावजेकर के संगीत में गाया पहला पार्श्वगीत, मराठी फ़िल्मयशोदा’ (1974) काघुमला हृदयी निनाद हाआज भी उतना ही लोकप्रिय है। दत्ता डावजेकर ने साल 1962 से लगातार 5 सालों तक महाराष्ट्र सरकार कासर्वश्रेष्ठ संगीतकारका पुरस्कार जीता तो उन्हें महाराष्ट्र सरकार के हीलता मंगेशकर पुरस्कारऔरसुर सिंगार पुरस्कारजैसे कई सम्मान भी हासिल हुए। लेकिन उन्हें मिला सबसे बड़ा सम्मान है, ‘मिथक बन चुकीं लता मंगेशकर को हिंदी फ़िल्म संगीत से परिचित कराना’, जिसके लिए हिंदी फ़िल्मोद्योग को उनका आभारी होना चाहिए।

दिनांक 15.11.1917 को पुणे में जन्मे, औरडीडीके नाम से मशहूर संगीतकार दत्ता डावजेकर का देहांत 90 साल की उम्र में दिनांक 19.09.2007 को मुंबई में हुआ।

आभार : बहुमूल्य मार्गदर्शन और सहायता के लिए हम श्री डी.बी.सामंतश्री हरमंदिर सिंह हमराज़, श्री हरीश रघुवंशी, श्री बिरेन कोठारी और श्री एस.एम.एम.औसजा के आभारी हैं।
..........................................................................................................

2 comments:

  1. bahut achha lekh hai,
    is prakar ke lekh kam hi milte hain
    dhanyawad

    Muveen
    09971748099

    ReplyDelete