Friday, March 27, 2015

“Meri Veena Tum Bin Roye” – Ameeta

मेरी वीणा तुम बिन रोए” – अमीता

            ..............शिशिर कृष्ण शर्मा

फ़िल्मिस्तान की साल 1957 में बनी हिट फ़िल्म तुमसा नहीं देखासे सिर्फ़ शम्मी कपूर को डांसिंग हीरो की नयी इमेज मिली, बल्कि अभी तक महत्वहीन और अपेक्षाकृत गंभीर भूमिकाओं में नज़र आने वाली अमीता को भी तुमसा नहीं देखाने ही स्टार बनाया था। 22 साल के अपने करियर के दौरान अमीता ने क़रीब 50 फ़िल्मों में अभिनय किया और फिर ख़ामोशी से फ़िल्मी दुनिया को अलविदा कह दिया। बरसों बाद अमीता एक बार फिर से सार्वजनिक तौर पर लोगों के बीच आयीं जब 20 नवम्बर 2005 को सिने एण्ड टी.वी. आर्टिस्ट एसोसिएशन’ (सिंटा) की वार्षिक आमसभा में उन्हें लाईफ़टाईम अचीवमेंट अवार्डसे सम्मानित किया गया। सिंटा की इसी आमसभा में मशहूर अभिनेत्री बीना राय भी कई दशकों बाद पहली बार बाहरी लोगों के बीच आयी थीं। इन दोनों ही अभिनेत्रियों से मेरी मुलाक़ात इसी आमसभा में ही हुई थी। मैंने अमीता जी से इंटरव्यू का समय लिया और कुछ ही दिनों बाद तय समय के अनुसार मैं उनके घर पर था।

अमीता ने अपने करियर की शुरूआत निर्माता-निर्देशक लेखराज भाखड़ी की फ़िल्म ठोकरसे की थी, जो साल 1953 में प्रदर्शित हुई थी। अभिनय उन्हें विरासत में मिला था। मूलत: लाहौर की रहने वाली उनकी मां पाकिस्तान के मशहूर अभिनेता असलम परवेज़ की बहन थीं। वो कोलकाता में अपने दौर के मशहूर रंगकर्मी माणिकलाल डांगी की कारिंथियन नाटक कम्पनी में काम करती थीं और शकुंतला देवी के नाम से जानी जाती थीं। अमीता का जन्म 11 अप्रैल 1940 को कोलकाता में हुआ था। वो सिर्फ़ डेढ़ साल की थीं जब उनके पिता चौधरी रियाज़ अहमद गुज़र गए थे, जिसके बाद मां उन्हें साथ लेकर मुम्बई चली आयीं। अमीता की पढ़ाई-लिखाई बोर्डिंग स्कूल में हुई।

अमीता बताती हैं, “मधुबाला मेरी पसन्दीदा अभिनेत्री थीं, जिनकी फ़िल्में देख-देखकर मैं उनके किरदारों की नक़ल करती थी। ऐसी ही एक फ़िल्म थी बादलजिसमें मधुबाला की तलवारबाज़ी ने मुझे बेहद प्रभावित किया था। ये फ़िल्म साल 1951 में बनी थी। उस वक़्त मेरी उम्र क़रीब 11 साल थी। एक रोज़ मैं घर के बाहर तलवारबाज़ी का खेल खेल रही थी कि वहां से गुज़र रहे लेखराज भाखड़ी की नज़र मुझ पर पड़ी। उन्होंने पहली ही नज़र में मुझे फ़िल्म ठोकरकी सहनायिका की भूमिका के लिए पसन्द कर लिया। फ़िल्म ठोकरके नायक-नायिका शम्मी कपूर और श्यामा और संगीतकार सरदार मलिक थे। साल 1953 में ही बनी श्री चैतन्य महाप्रभुअमीता की बतौर नायिका पहली फ़िल्म थी प्रकाश पिक्चर्सकी, विजय भट्ट द्वारा निर्देशित इस फ़िल्म के नायक भारतभूषण थे (चित्र में)

अमीता कहती हैं, “मेरा असली नाम क़मर सुल्ताना है, मां प्यार से मुझे इन्दिरा कहकर पुकारती थीं, मेरी सहेलियां मुझे इंदु कहती हैं, जबकि फ़िल्म ठोकरमें मुझे जयजयवंती के नाम से प्रस्तुत किया गया था। फ़िल्म श्री चैतन्य महाप्रभुके लिए विजय भट्ट ने अख़बारों में विज्ञापन के ज़रिए आम दर्शकों से पूछा था कि नायिका को क्या नाम दिया जाए तो मुझे ये नाम अमीता मिला     

(अमीता जी के अनुसार साल 1953 में प्रदर्शित हुई ठोकरउनकी पहली फ़िल्म थी। लेकिन वरिष्ठ फ़िल्म इतिहासकार श्री हरीश रघुवंशी द्वारा उपलब्ध कराई गयी अमीता की फ़िल्मोग्राफ़ी और श्री हरमन्दिर सिंह हमराज़द्वारा संकलित हिंदी फ़िल्म गीतकोष’ : खण्ड-3 के अनुसार वो साल 1952 में प्रदर्शित हुईं दो फ़िल्मों क़ाफ़िलाऔर अनमोल सहारामें भी नज़र आयी थीं। चूंकि इन दोनों ही फ़िल्मों में उन्होंने अमीता के नाम से काम किया इसलिए ऐसा प्रतीत होता है कि ये फ़िल्में उन्होंने श्री चैतन्य महाप्रभुके बाद साईन की होंगी, जबकि ये प्रदर्शित सबसे पहले हुईं।)

फ़िल्म श्री चैतन्य महाप्रभुके चल पाने का अमीता के करियर पर भी बुरा असर पड़ा। उन्हें मजबूरन अमर कीर्तन’, ‘बादल और बिजली’, ‘बाग़ी सरदारऔर इन्द्रसभाजैसी बी-सी ग्रेड फ़िल्मों में छोटी-मोटी भूमिकाएं करनी पड़ीं। लेकिन सायरा बानो की मां और अपने ज़माने की सुपरस्टार नसीम बानो के ज़रिए फ़िल्मिस्तान फ़िल्म कम्पनी के मुखिया शशधर मुकर्जी से हुई मुलाक़ात अमीता के लिए बेहद अहम साबित हुई। अमीता बताती हैं, “फ़िल्मिस्तान की आब--हयात’, मुनीमजी (दोनों 1955) और हम सब चोर हैं(1956) जैसी फ़िल्मों में सह-भूमिकाएं करने के बाद अभिमानमें मैं नायिका बनी जिसके नायक शेखर थे। ये फ़िल्म साल 1957 में प्रदर्शित हुई थी। उसी साल फ़िल्म ज़मानामें मैंने कमलजीत की नायिका की भूमिका की और फिर साल 1957 में ही प्रदर्शित फ़िल्म तुमसा नहीं देखाकी ज़बर्दस्त कामयाबी ने मुझे स्टार बना दिया

अमीता को अपनी पसंदीदा अभिनेत्री मधुबाला के साथ काम करने का मौक़ा निर्माता-निर्देशक अस्पी ईरानी की फ़िल्म शीरीं फ़रहादमें मिला था। ये फ़िल्म साल 1956 में बनी थी और अमीता आज भी इसे अपने जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि मानती हैं। उधर साल 1957 उनके करियर के लिए बेहद अहम साबित हुआ क्योंकि उस साल तुमसा नहीं देखाके बाद अमेय चक्रवर्ती द्वारा निर्मित और निर्देशित उनकी फ़िल्म देख कबीरा रोयाभी बेहद कामयाब रही। तलाश’, ‘संस्कार’, ‘राज सिंहासनऔर आंगनजैसी कुछ फ़िल्मों में नायिका की भूमिका करने के बाद फ़िल्म गूंज उठी शहनाई(1959) की ज़बर्दस्त कामयाबी ने उनके करियर को नयी ऊंचाईयों पर पहुंचाया। लेकिन ये कामयाबी ज़्यादा दिनों तक नहीं रह पायी।

अमीता कहती हैं, “नायिकाओं की नयी पीढ़ी फ़िल्मों में कदम रख रही थी। प्रतिस्पर्धा में टिके रहना मुश्किल होता जा रहा था। ऐसे में सावन’, ‘छोटे नवाब’, ‘राजनन्दिनी’, ‘पिया मिलन की आस’, ‘प्यार की दास्तान’, ‘प्यासे पंछीऔर हम सब उस्ताद हैंजैसी कुछ फ़िल्में बतौर नायिका करने के बाद मुझे चरित्र भूमिकाओं का रूख़ कर लेना पड़ा। मैंने राखी’, ‘मेरे महबूब’, ‘रिश्तेनाते’, ‘आसराऔर अराऊण्ड वर्ल्डजैसी कुछ फ़िल्में बतौर चरित्र अभिनेत्री कीं और फिर साल 1968 में प्रदर्शित हुई हसीना मान जाएगीके बाद फ़िल्मी दुनिया को अलविदा कह दिया

(अमीता जी के अनुसार उनकी आख़िरी फ़िल्म हसीना मान जाएगीथी। लेकिन इस फ़िल्म के बाद भी वो तीन फ़िल्मों कभी धूप कभी छांव(1971),मेरा शिकार(1973) और किसान और भगवान(1974) में नज़र आयीं। अत: किसान और भगवानको उनकी आख़िरी प्रदर्शित फ़िल्म कहा जाएगा।)

अमीता जी से मेरी ये बातचीत अंधेरी (पश्चिम) के सात बंगला क्षेत्र स्थित उनके फ़्लैट में हुई थी। उस मुलाक़ात के दौरान उनकी मां शकुंतला देवी (चित्र में) और बेटी सबीहा भी मौजूद थीं। सबीहा ने 1980 और 90 के दशक में अनोखा रिश्ता’, ‘बाप नम्बरी बेटा दस नम्बरी’, ‘जय विक्रांत’, ‘खिलाड़ीऔर ज़ालिमजैसी फ़िल्मों में काम किया था। लेकिन जल्द ही उन्होंने फ़िल्मी दुनिया को अलविदा कहा और एक बेहतरीन ज्वैलरी डिज़ाईनर के तौर पर अपनी पहचान बना ली।

अमीता जी आज भी उसी फ़्लैट में रहती हैं। उनके क़रीबी सूत्रों के अनुसार शकुंतला देवी का निधन हो चुका है और सबीहा खाड़ी के किसी देश की एयरलाईन में नौकरी करती हैं। अपडेट लेने के लिए मैं एक बार फिर से अमीता जी से सम्पर्क करना चाहता था। लेकिन ये पता चलने के बाद कि अब वो मीडिया से बात करने में कतराती हैं, मैंने उनसे सम्पर्क करना उचित नहीं समझा।

आने वाले 11 अप्रैल को अमीता जी 75 साल की होने जा रही हैं। 


We are thankful to

Mr. Harish Raghuvanshi & Mr. Harmandir Singh ‘Hamraz’ for their valuable suggestion, guidance and support.

Mr. S.M.M.Ausaja for providing movies’ posters & pictures.

Mr. Manaswi Sharma for the technical support including video editing.


Meri Veena Tum Bin Roye” – Ameeta

           ..........Shishir Krishna Sharma

Filmistan’s 1957 release hit film ‘Tumsa Nahin Dekha’ not only gave a new ‘The Dancing Hero’ image to Shammi Kapoor, but also made Ameeta a star, who was seen in comparatively serious and not so important roles before the release of ‘Tumsa Nahin Dekha’.  In a career spanning 22 years Ameeta acted in 50 films and then gracefully bid adieu to the film world. Years later, Ameeta once again came out in public when she was honoured with the Lifetime Achievement Award by the ‘Cine & TV Artistes Association’ (CINTAA) on 20 November 2005. Another star who was seen socializing with people on a public platform viz. the same CINTAA annual general meeting after decades was Beena Rai. I had chance to meet both these actresses in the same AGM. I requested Ameeta ji for an appointment and few days later I was at her home at the right time that was fixed for the interview.

Ameeta started her career with producer-director Lekhraj Bhakhri’s ‘Thokar’ which released in the year 1953. She got this acting talent from her mother who was originally from Lahore and was the sister of Pakistan’s well-known actor Aslam Parvez. She worked with Corinthian Theatre Company of Kolkata which was owned by the famous theatre director-actor Maniklal Dangi and was known with the name Shakuntala Devi. Ameeta was born on 11 April 1940 in Kolkata. She was one and half years old when her father Choudhary Riaz Ahmed died. Later Shakuntala Devi shifted to Mumbai along with her daughter. Ameeta did her schooling at a boarding school. 

Ameeta says, “Madhubala was my favorite actress. I liked watching her movies and then copying her characters. I was very impressed with her sword fight in one such film ‘Baadal’ which released in the year 1951. I was 11 years old at that time. One day I was playing sword fight outside my home when producer-director Lekharaj Bhakhri saw me. He liked me so much that he instantly signed me for the character of the side heroine for his under-production film ‘Thokar’. The main lead pair in ‘Thokar’ was Shammi Kapoor and Shyama and the composer was Sardar Malik”.

Ameeta’s debut movie as heroine was again a 1953 release ‘Shri Chaitanya Mahaprabhu’ which was produced by ‘Prakash Pictures’ and directed by Vijay Bhatt. Ameeta’s hero in this movie was Bharat Bhushan. Ameeta says, “My real name is Qamar Sultana, my mother fondly called me Indira, my friends call me Indu whereas in ‘Thokar’ I was introduced with the screen name ‘Jayjaywanti’. The screen name ‘Ameeta’ was given to me after Vijay Bhatt published an advertisement in newspapers and asked readers to suggest a name for the heroine for his upcoming movie ‘Shri Chaitanya Mahaprabhu’.

(According to Ameeta ji, her debut movie as an actress was 1953 release ‘Thokar’. But as per her filmography provided by well-known film historian Shri Harish Raghuwanshi ji (of Surat) and the ‘Hindi Film Geet Kosh’ : part-2 compiled by Shri Harmandir Singh ‘Hamraz’ ji (of Kanpur), she had already acted in 2 films ‘Kaafila’ and ‘Anmol Sahara’ in the year 1952 i.e. even before the release of ‘Thokar’. Since her name in the credits of these films appears as Ameeta, it seems that she signed these movies after signing ‘Shri Chaitanya Mahaprabhu’ but they released first.)

The failure of ‘Shri Chaitanya Mahaprabhu’ adversely affected Ameeta career. Constrainedly she had to accept some B and C graders like ‘Amar Kirtan’, ‘Badal Aur Bijli’, ‘Baaghi Sardar’ and ‘Indrasabha’. But her career took a positive turn after Saira Bano’s mother and a star of her times Naseem Bano introduced her to Filmistan Film Company’s head Shashadhar Mukherjee. Ameeta says, “After playing side roles in Filmistan’s ‘Aab-E-Hayat’, ‘Munim ji’ (both 1955) and ‘Hum Sab Chor Hain’ (1956), I was chosen for the lead role opposite Shekhar in ‘Abhimaan’.  This was a 1957 release. Then I did ‘Zamana’ opposite Kamaljeet and then in the same year i.e. 1957, ‘Tumsa Nahin Dekha’s record success made me a star”.

Ameeta got a chance to act with her favorite actress Mashubala in producer-director Aspi Irani’s movie ‘Shirin Farhad’. This was made in the year 1956 and Ameeta always considers it the biggest achievement of her life. On the other hand, the year 1957 proved to be the most important year of her career as besides ‘Tumsa Nahin Dekha’, producer-director Amey Chakravorty’s ‘Dekh Kabira Roya’ also became a big hit. After playing the main lead in movies like ‘Talaash’, ‘Sanskar’, ‘Raj Sinhasan’ and ‘Aangan’, she witnessed another great success in ‘Goonj Uthi Shehnai’ (1959) which took her career to the new heights. But this success didn’t last very long.

Ameeta says, “That was the time when a new generation of actresses was entering the film world. To stay in the competition had become very hard. In such circumstances I had no other option than to turn to character roles after playing main lead in the movies ‘Saawan’, ‘Chhote Nawab’, ‘Raj Nandini’, ‘Piya Milan Ki Aas’, ‘Pyar Ki Dastaan’, ‘Pyaase Panchhi’ and ‘HumSab Ustaad Hain’. I did a couple of films like ‘Rakhi’, ‘Mere Mehboob’, ‘Rishte Naate’, ‘Aasra’ and ‘Around the World’ as a character artist and after ‘Haseena Maan Jayegi’, a 1968 release, I bid adieu to the film world”.

(According to Ameeta ji her last film was ‘Haseena Maan Jayegi’. But as per her filmography she was again seen in 3 movies ‘Kabhi Dhoop Kabhi Chhaon’ (1971), ‘Mera Shikaar’ (1973) and ‘Kisan Aur Bhagwan’ (1974). Therefore ‘Kisan Aur Bhagwan’ should be treated as her last release film.)

Ameeta ji’s interview took place at her flat at the Seven Bungalows area at Andheri (West). Her mother Shakuntala Devi and daughter Sabeeha were present during our conversation. Sabeeha also acted in a couple of movies viz. ‘Anokha Rishta’, ‘Baap Numbari Beta Dus Numbari’, ‘Jay Vikrant’, ‘Khiladi’ and ‘Zaalim’ in the 1980’s and 90’s. But soon she bid adieu to the films and made a respectable place for herself in the field of jewellery designing.

Ameeta ji still resides at the same place. According to the sources close to her, Shakuntala Devi passed away a couple of years back and Sabeeha is serving with an airline in some Gulf country. I wanted to contact Ameeta ji once again to get the updates but after I came to know that she avoids talking to media now, I decided not to bother her.

Ameeta ji is going to complete 75 on coming 11 April.