Saturday, June 30, 2012

‘Jhoothe Hain Sab Sapne Suhaane’ - Manju & Balakram


Jhoothe Hain Sab Sapne Suhaane
   - Manju & Balakram

.......................Shishir Krishna Sharma

(Translated from original Hindi to English by Ms. Akhsher Apoorva) 
(Balakram's family photographs clicked by Mr. Manaswi Sharma)
(Poster provided by Mr.S.M.M.Ausaja)

Manju
The annals of the history of Hindi cinema display names of some women who despite having conquered the heady heights of success gave up everything in a heartbeat for domestic bliss like the true Indian woman, and chose marriage and household over the glitz and glamour of the show world. One such name is of singer-actress Manju who started her career with the bilingual (Hindi and Marathi) film ‘Aadmi’ (‘Manus’ in Marathi) made under the banner of ‘Prabhat Film Company’ in 1939 and after a short spanning career of just 6 years after the film ‘Rattan’, made in 1944, she got married and bid farewell to the glamour word. Just like Manju, her younger brother Balakram had also made a name for himself as a singer-actor at a very young age. Unfortunately Balakram passed away at the ripe age of 41, but it’s some consolation that Manju is still with us and stays with her wholesome family comprising of her son and daughter in law at South Mumbai’s Bhulabhai Desai Road.

Balakram
Daughter of Gangaram Bapu, a well-known Marathi theater singer of his times and an active member of ‘Anand Vilas Sangeet Natak Mandali’, Manju was born to him in the year 1928 in Nagpur. Manju says, “My father had got a job at ‘Prabhat Film Company’ so we shifted from Nagpur to Pune. Other than my parents, the family comprised of my elder sister Vijaymala and two younger brothers Trayambak and Balakram. All my brother sisters, we studied at home and never attended a formal school. Meanwhile I started learning Indian Classical Music from ‘Prabhat Film Company’s’ Music Director Pandit Keshav Rao Bhole. During this time I got a chance to work under the same banner, for the film ‘Aadmi’, as a child artist. My real name is ‘Manjula’, and was shortened to just ‘Manju’ for films.  In those days, playback had not established properly as yet and we had to sing songs for ourselves on screen. In the film ‘Aadmi’ I sang the song ‘mai jaan gai pehchaan gai tumre mann ki baat’ and it was also filmed on me. I was 11 years old at that time.”

L-R Balakram, Vijaymala and Trayambak
Manju also sang a song for film ‘Aadmi’s’ Marathi version titled ‘Manus’ and both the films were released in the year 1939. Manju just acted for the film ‘Sant Gyaneshwar’ made under the banner of ‘Prabhat Film Company’ in 1940. The youngest in the family, Balakram was about 5 years younger to Manju. His career had started a year before with ‘Prabhat Film Company’s’ film ‘Mera Ladka’. This bilingual film made in Marathi as ‘Majha Mulga’ was released in 1938. Balakram not only acted in this film but also sang a song ‘mauj badi ho jaldi laakar mujhe dila do wrist watch…’ under the music of Pandit Keshav Rao Bhole. At that time he was around 5 years old.


Recently during a meeting with Balakram’s sons and daughters I obtained a lot of information on Balakram. Born on 24th February, 1933, Balakram following the tradition of the family had started learning classical vocal from Pandit Gunidass and then from Pandit Jagannath Purohit at a very early age. After ‘Mera Ladka’, he was seen in an important role in ‘Prabhat Film Company’s’ film  ‘Padosi’ made in 1941. This film’s director was V.Shantaram, Music Director Master Krishna Rao and songwriter was Pandit Sudarshan. Balakram, along with Balwant Singh and Gopal, also sang a song ‘kaka abba bade khiladi, ek dooje se rahe agaadi’ under the music of Master Krishna Rao. In ‘Prabhat Film Company’s’ film ‘Nai Kahani’, made in 1943, in a song sung by  G.M.Durrani and filmed on B. Nandrekar, ‘neend hamari khwaab tumhare, kitne meethe kitne pyaare’, Balakram was seen professing his classical vocal finesse. The films Music Director was Shyam Sunder. Manju was also seen acting in the film ‘Nai Kahani’ and had sung a duet with Leela Mehta ‘aai aai udankhatole par ud kar saawan ki rani’.
L-R : Chandrakant, Seema and Kalpana

Manju says, “While in ‘Prabhat Film Company’, I got to learn a lot from veterans like Sheikh Fattelal, Seetaram Kulkarni, Babu Rao Pai and V.Shantaram, and the foremost thing I learned was value of time. In those days, the trend of freelancing was not there, all artists and technicians would be employed on a monthly salary by one studio or film company. Because I worked with ‘Prabhat Film Company’, later on I got a chance to sing for the banner’s movies like ‘Chaand’ and ‘Ram Shastri’.”

Made in 1944, film ‘Chaand’ marked the beginning of not only the first Music Director Duo ‘Husnlal Bhagatram’ but also marked the beginning of actress Begumpara’s career. At this time playback had become a trend and Manju had sung two songs for the film ‘do dilon ko ye duniya milne hi nahin deti’ and ‘aai aai museebat aai’ which were filmed on Balakram. Also made in 1944, manju had sung a song for the film ‘Ram Shastri’, ‘kaise kheloon mai khel nahin bhaaye’, which was filmed on Baby Shakuntala. In the film’s Marathi version, Manju had sung a duet with Suresh Wadkar’s father Ajit Wadkar.

(As per Manju, she had sung the ‘kaise kheloon mai khel nahin bhaaye along with Anant Marathe. The same information has been compiled by Shri Harmandir Singh ‘Hamraz’ in ‘Hindi Film Geet Kosh’. But, it’s come to light, by the audio-link provided at the end of the write-up, that it is a solo song.)

           Manju says, “This was during the time when my age was such that I couldn’t be counted as a child or as an adult and that’s why I wasn’t getting any opportunities to act. Where songs were concerned, I would do rehearsals for the songs in Pune and those very songs would be recorded in Mumbai in the voice of Rajkumari or Shamshad Begum. If I was getting any work it would be the one odd song for children. In such circumstances, along with frustration and restlessness, my anger towards ‘Prabhat Film Company’ was building. But I was bound by the comditions of the contract. Actor B. Nandrekar was privy to my state of mind since the time he had come to Pune for the shooting of the film ‘Nai Kahani’. One day he called me to Mumbai from Pune where in relation to a Faazli brother’s film, he introduced me, along with my screen test, to Mazhar khan. But as soon they got to know, ‘Prabhat Film Company’s’ Babu Rao Pai said that I was bound by a contract with ‘Prabhat Film Company’ and threatened to take legal action and thus the contract I was going to sign with Faazli Brothers got canceled. Producer Chimanbhai desai also wanted to sign me for his next film. He went to meet Babu Rao Pai in his office and somehow managed to convince him. And hence the first film I got outside the banner of ‘Prabhat Film Company’ was ‘Gaali’, which was released in 1944. Made under the banner of ‘N.R.Desai Productions’ (Mumbai), this film’s director was R.S.Choudhary, music was by Hanuman Prasad & Sajjaad Hussain and the main actors were Karan Dewan, Nirmala, Yaqoob, Kanhaiyalal and Jillobai. Along with acting in the movie I also sang a few songs one of which was ‘holi mai kheloongi unn sang dat ke’, this song was also filmed on me.”

Balakram with Durga Khote in 'Seeta Swayamvar'
Balakram’s son Chandrakant Jadhav tells us, “Once freed from Prabhat Film Company’s contract, Manju came to Mumbai and hence the family too had to come with her. In such a way, after film ‘Chaand’, Balakram’s ties with ‘Prabhat Film Company’ also broke. Because Balakram was going through such an age where he couldn’t be counted within the younger or the older generation, he found it very difficult to get work in Mumbai. But at that time Manju definitely got a big opportunity. Karan Dewan, the main lead of film ‘Gaali’, his elder brother Producer Jaimini Dewan was making the film ‘Rattan’. The film’s director was M.Sadiq and the main leads were Karan Dewan and Swarnalata. Manju was chosen to play the part of second hero Wasti’s sister. All 10 Songs like ‘ankhiyaan mila ke jiarma ke chale nahin jaana’, ‘sawan ke baadlon unse ye ja kaho’, ‘rumjhum barse badarwa, mast ghatayein chhaayeen’, ‘o jaane waale balamwa laut kea a laut ke aa’, ‘milke bichhad gayeen ankhiyaan’, ‘jab tum hi chale pardes laga kar thes’ sung by the likes of Johra Bai Ambalewali, Ameer Bai Karnatki, Manju, Karan Dewan and Shyam Kumar became very popular at that time. Released in the year 1944, one can gage the popularity of the songs of this film by the fact that Producer Jaiminin Dewan had made the film in just 75,000/ rupees and the money recovered, by just the song royalties, was more than three and a half lakh rupees. This was also the first hit film of Music Director Naushad’s career. Manju had sung two solos ‘angdai teri hai bahana saaf keh do hame to jaana jaana’ and ‘jhoothe hain sab sapne suhaane’ for the film both of which had been filmed on her.

Balakram's family
Manju too reaped the benefits of the fabulous success of ‘Rattan’ and was flooded with acting and singing offers. However ‘Rattan’ proved to be her last film. Manju says, “Right after the film’s release, I got married to Karan Dewan and I had to say goodbye to the film world as my mother-in-law didn’t want her daughter-in-law to work in films. This was the reason that I had to annul all contracts of the films that were about to go on floor, one of which was singer-actress Noorjehan and her Producer-director husband Shauqat Hussain Rizvi’s film ‘Zeenat’ which was released in 1945.”
 
On the other hand Balakram was also struggling to find work in Mumbai. After about 3 years of struggle he finally found supporting roles in films ‘Krishna Sudama’ and ‘Naiya’ which were released in 1947. In ‘Krishna Sudama’ he also sang a song under Shyambabu Pathak’s music ‘jag hai darshan ka mela...’ In the coming years, Balakram was seen in films like ‘Seeta Swayamvar’ (1948), ‘Lahore’, ‘Sati Ahilya’, ‘Maya Bazar’ and  ‘Sant Janabai’  (all 1949), ‘Kamal Ke Phool’ (1950), ‘Malti Madhav’ (1951) and ‘Shiv Leela’ (1952). In film ‘Maya Bazar’, under the music of Sudhir Phadke, he sung two duets with Lalita (Deoolkar) Phadke viz. ‘bachpan mera bachpan tera’ and ‘aaj ki raat nirali hai’. He once again joined hands with ‘Prabhat Film Company’ through the moive ‘Sant Janabai’  but this proved to be ‘Prabhat Film Company’s’ last film. Balakram was not very happy with his career graph and hence turned towards Marathi films, plays and classical vocal where he found much fame and success. His Marathi films like ‘Kela Ishara Jata Jata’, ‘Shevagyachya Shenga’, ‘Kshan Ala Bhagyacha’, ‘Swayamvar Jhale Seeteche’, ‘Sawal Majha Aaika’, ‘Vavtal’ and ‘Saubhagyakankshini’ as well as songs sung by him and his programs of classical vocal were much appreciated. For film ‘Vavtal’, Balakram was honored with the ‘Best Singer’s Award’ by the Maharashtra Government. His Hindi qawwali ‘naazuk si kalaai ho jinki, wo teer chalana kya jaanein’ sung for a Marathi drama ‘Katiyar Kaaljaat Ghusli’ had become very famous in its time. By then his elder sister Vijaymala had made her mark as a Marathi actress and his elder brother Trayambak as a tabla player & sitarist. In 1968, Balakram was once again seen essaying Lord Vishnu in a hindi film ‘Balram Shri Krishna’. On the other hand, Manju was managing the responsibilities of the Dewan household.

The Dewan family basically hailed from Gujranwala (now Pakistan). Karan Dewan had worked with Ragini and Manorama in the Panjabi film ‘Mera Mahi’ made in 1941 in Lahore. During those days B.R.Chopra was working as a film journalist in Lahore and had sent Karan Dewan’s pictures to Devika Rani who later called Karan Dewan to Mumbai, however due to the ongoing internal politics at Bombay Talkies, Devika Rani could not do much to help Karan Dewan. Hence Karan Dewan started teaching Urdu pronunciation to actors and actresses. The first film that he got in Mumbai was ‘School Master’ directed by C.M.Lohar and made under the banner of ‘Sun Art Pictures’ in 1943 and his heroine in the film was Maya Banerjee. Of the three brothers of the Dewan family, the eldest Bheeshm Dewan had settled down in Kanpur and middle brother Jaimini Dewan and the youngest Karan Dewan were in Mumbai. After ‘Rattan’, other than producing two Hindi films ‘Do Dil’(1947) and ‘Lahore’ (1949), Jaimini also produced a Punjabi film ‘Chaman’ (1948). Later on Karan Dewan did almost 3 dozen films like Duniya, Pardes, Dahej, Ek Nazar, Bahaar, Teen Batti Chaar Raasta, Bahu, Musafirkhana, Chhoomantar, Chandan, Shaheed, Aamne Saamne, Jeene Ki Raah, Nadaan, Shehzada, Himalay Se Ooncha, and Kala Sona, of which he was seen playing character roles later on. With the passing of Karan Dewan in August 1979, Manju lost her last few ties with the glamour world as well. 

Smt. Vasumati Jadhav with Dilip Kumar
Balakram’s programs of classical vocal were highly favored. During the 70’s due to an illness of the liver, his mobility got restricted and he started spending most of his time in music practice. In Dadar at Pandit Yashwant Dev’s house, he established the ‘Gunidass Sangeet Vidyalay’ and started tutoring children in music. But his condition rapidly deteriorated and just 8 days after his liver operation, at the age of 41 he passed away on 2nd march 1974. His wife Smt. Vasumati Jadhav used to work at the Mumbai Port Trust. She also used to sing in Laxmikant-Pyarelal and Kalyanji Anandji’s orchestra as well as for the radio. She passed away in 2008. At present, Balakram’s eldest daughter Smt.Kalpana Patankar and son Chandrakant Jadhav live at Thane’s Ghodbandar Road and another daughter Smt.Seema Kulkarni lives in Lonavla. Balakram’s youngest daughter Smt.Chhaya Kulkarni is in Canada. On the other hand, mother to 5 daughters and 2 sons, Manju is now 84 years old and other than Mumbai she spends most of her time either in Dehradoon with her daughter or with her younger son who stays in Sharjah. Her elder son Deepak Dewan stays in Mumbai.

Neither Manju’s family nor Balakram’s family have any ties with the cinematic world. Those ties were severed years back with the deaths of Karan Dewan and Balakram.



Acknowledgements : We are thankful to Shri D.B.Samant, Shri Harmandir Singh ‘Hamraz’ and Shri harish Raghuvanshi for their valuable suggestions and guidance. We are also thankful to Shri Balakram’s daughter Smt. Kalpana Patankar, son Shri Chandrakant Jadhav and Smt. Manju Dewan’s daughter-S/L Smt. Jayshri - Shri Kishore Mathur and son Shri Deepak Dewan for providing various information & photographs.We are also thankful to well known film historian and posters & booklets collector Shri S.M.M.Ausaja for providing the poster used with the write up.
.................................................................................................
Few links :

kaka abba bade khiladi/padosi/1941

neend hamari khwab tumhare/nai kahani/1943

aai aai udankhatole par uddkar /nai kahani/1943

do dilon ko ye duniya/chaand/1944

aai aai museebat aai/chaand/1944

jhoothe hain sab sapne suhaane/rattan/1944

angdai teri hai bahana/chaand/1944

kaise kheloon mai khel/ramshastri/1944
……………………………………………………………………..

झूठे हैं सब सपने सुहाने
           - मंजु और बालकराम

.................................शिशिर कृष्ण शर्मा

हिन्दी सिनेमा के इतिहास में कई ऐसी महिलाओं के नाम दर्ज हैं जिन्होंने शोहरत की बुलंदियों पर पहुंचकर अचानक ही अपने फलते-फूलते करियर का मोह त्यागा, एक आम हिंदुस्तानी औरत की तरह घर-गृहस्थी को प्राथमिकता देते हुए शादी की और ख़ुद को सिनेमाई चमक-दमक से अलग कर लिया। इन्हीं में से एक नाम है गायिका-अभिनेत्री मंजु का जिन्होंने प्रभात फ़िल्म कंपनीकी साल 1939 में हिंदी और मराठी में बनी फ़िल्म आदमी’ (मराठी में माणुस) से करियर की शुरूआत की थी, लेकिन महज़ छह साल के अपने करियर में  साल 1944 में बनी रतनके बाद शादी करके फ़िल्म-जगत को अलविदा कह दिया था। मंजु की ही तरह उनके छोटे भाई बालकराम ने भी बहुत कम उम्र में बतौर गायक-अभिनेता अपनी पहचान बना ली थी। बदक़िस्मती से बालकराम तो महज़ 41 साल की उम्र में ही चल बसे, लेकिन ये देखकर अच्छा लगता है कि मंजु आज भी हमारे बीच हैं और दक्षिण मुंबई के भूलाभाई देसाई रोड पर बेटे-बहू के भरे-पूरे परिवार के साथ रहती हैं।

अपने वक़्त के मशहूर मराठी रंगकर्मी-गायक और आनंद विलास संगीत नाटक मंडलीके सक्रिय सदस्य गंगाराम बापू की बेटी मंजु का जन्म साल 1928 में नागपुर में हुआ था। मंजु बताती हैं, “मेरे पिता को प्रभात फ़िल्म कंपनीमें नौकरी मिली तो हम नागपुर से पुणे चले आए। परिवार में माता-पिता के अलावा मेरी एक बड़ी बहन विजयमाला और दो छोटे भाई त्रयंबक और बालकराम भी थे। हम चारों भाई-बहन कभी भी स्कूल नहीं गए, हमने सारी पढ़ाई घर पर ही रहकर की। साथ ही मैं प्रभात फ़िल्म कंपनीके संगीतकार पण्डित केशवराव भोले से हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत भी सीखने लगी। उसी दौरान मुझे इसी बैनर की फ़िल्म आदमीमें बतौर बाल-कलाकार अभिनय करने का मौक़ा मिला। मेरा असली नाम मंजुलाहै, जो फ़िल्मों में सिर्फ़ मंजुरह गया। उन दिनों पार्श्वगायन की विधिवत शुरूआत नहीं हुई थी और हमें पर्दे पर खुद ही गाना पड़ता था। फ़िल्म आदमीमें मैंने ख़ुद पर फ़िल्माया गया गीत मैं जान गयी पहचान गयी तुमरे मन की बातभी गाया था। उस वक़्त मेरी उम्र 11 बरस की थी।

फ़िल्म आदमीके मराठी वर्शन माणुसमें भी मंजु ने एक गीत गाया था और ये दोनों ही फ़िल्में साल 1939 में रिलीज़ हुई थीं। उधर प्रभात की ही साल 1940 में बनी फ़िल्म संत ज्ञानेश्वरमें मंजु ने सिर्फ़ अभिनय किया। बहन-भाईयों में सबसे छोटे बालकराम मंजु से क़रीब 5 साल छोटे थे। उनका करियर मंजु से एक साल पहले, ‘प्रभात फ़िल्म कंपनीकी ही फ़िल्म मेरा लड़कासे शुरू हुआ था। मराठी में माझा मुलगा’ नाम से बनी ये द्विभाषी फ़िल्म साल 1938 में रिलीज़ हुई थी। इस फ़िल्म में अभिनय के साथ साथ बालकराम ने पंडित केशवराव भोले के संगीत में एक गीत मौज बड़ी हो लाकर जल्दी मुझे दिला दो रिस्ट वॉच...भी गाया था। उस वक़्त उनकी उम्र क़रीब 5 साल की थी। 
 
हाल ही में बालकराम के बेटे-बेटियों से हुई मुलाक़ात के दौरान बालकराम के विषय में बहुत सी जानकारियां हासिल हुईं। 24 फ़रवरी 1933 को जन्मे बालकराम भी परिवार की परंपरा पर चलते हुए बहुत कम उम्र से पंडित गुणीदास और फिर पंडित जगन्नाथ पुरोहित से शास्त्रीय गायन सीखने लगे थे। मेरा लड़काके बाद वो प्रभात फ़िल्म कंपनी की ही साल 1941 में बनी फ़िल्म पड़ोसीमें एक अहम भूमिका में नज़र आए। इस फ़िल्म के निर्देशक थे वी.शांताराम, संगीतकार मास्टर कृष्णराव और गीतकार थे पंडित सुदर्शन। बालकराम ने बलवंतसिंह और गोपाल के साथ मिलकर इस फ़िल्म में मास्टर कृष्णराव के संगीत में एक गीत काका अब्बा बड़े खिलाड़ी, एक दूजे से रहे अगाड़ीभी गाया था। प्रभात फ़िल्म कंपनी की ही, साल 1943 में बनी फ़िल्म नई कहानीमें जी.एम.दुर्रानी के गाए और नांद्रेकर पर फ़िल्माए गए गीत नींद हमारी ख़्वाब तुम्हारे, कितने मीठे कितने प्यारेमें बालकराम शास्त्रीयगायन के अपने जौहर दिखाते नज़र आए थे। इस फ़िल्म के संगीतकार थे श्यामसुंदर। फ़िल्म नयी कहानीमें मंजु ने भी अभिनय के अलावा लीला मेहता के साथ मिलकर ख़ुद के लिए एक युगलगीत आयी आयी उड़नखटोले पर उड़कर सावन की रानीगाया था।

मंजु कहती हैं, “प्रभात में रहते हुए मुझे शेख फत्तेलाल, सीताराम कुलकर्णी, बाबूराव पै और वी.शांताराम जैसे दिग्गजों से बहुत कुछ सीखने को मिला, और उसमें सबसे पहली चीज़ थी, वक़्त की पाबंदी। उस ज़माने में फ़्रीलांसिंग का चलन नहीं था और सभी कलाकार और तकनीशियन किसी एक ही स्टूडियो या फ़िल्म कंपनी में मासिक वेतन पर नौकरी किया करते थे। चूंकि मैं प्रभात फ़िल्म कंपनी में नौकरी करती थी इसलिए आगे चलकर मुझे उस बैनर की चांदऔर रामशास्त्रीजैसी फ़िल्मों में भी गाने का मौक़ा मिला।

1944 में बनी फ़िल्म चांदसे सिर्फ़ हिंदी सिनेमा की पहली संगीतकार जोड़ी हुस्नलाल भगतरामने, बल्कि अभिनेत्री बेगमपारा ने भी अपने करियर की शुरूआत की थी। तब तक पार्श्वगायन पूरी तरह से प्रचलन में चुका था और मंजु ने इस फ़िल्म में दो गीत दो दिलों को ये दुनिया मिलने ही नहीं देतीऔर आयी आयी मुसीबत आयीगाए थे जो बालकराम पर फ़िल्माए गए थे। साल 1944 में ही बनी फ़िल्म रामशास्त्रीमें मंजु ने एक गीत कैसे खेलूं मैं खेल नहीं भाएगाया था जिसे बेबी शकुंतला पर फ़िल्माया गया था। इस फ़िल्म के मराठी वर्शन में भी मंजु ने गायक सुरेश वाडकर के पिता अजीत वाडकर के साथ एक युगल गीत गाया था।

(मंजु के अनुसार गीत, ‘कैसे खेलूं मैं खेल नहीं भाएमें उनका साथ अनंत मराठे ने दिया था। यही सूचना श्री हरमंदिर सिंह हमराजद्वारा संकलित हिंदी फ़िल्म गीतकोशमें भी दी गयी है। लेकिन इस आलेख के अंत में दिए गए ऑडियो-लिंक से पता चलता है कि ये एक सोलोगीत था।

मंजु कहती हैं, “ये वो दौर था जब मेरी उम्र तो छोटों में थी और बड़ों में इसलिए अभिनय के मौक़े नहीं मिल रहे थे। जहां तक सवाल था गाने का तो पुणे में रिहर्सल मुझसे करवाई जाती थी और वोही गीत मुम्बई में राजकुमारी या शमशाद बेगम की आवाज़ में रेकॉर्ड करा लिए जाते थे। मेरे हिस्से में अगर कुछ रहा था तो वो थे सिर्फ़ बच्चों के गिने-चुने गाने। ऐसे में निराशा और छटपटाहट के साथ साथ मन में प्रभात फ़िल्म कंपनी के प्रति ग़ुस्सा भी बढ़ता जा रहा था। लेकिन मैं कॉण्ट्रेक्ट की शर्तों में बंधी हुई थी। मेरी इस हालत से अभिनेता बी.नांद्रेकर तब से वाक़िफ़ थे जब वो फ़िल्म नयी कहानीकी शूटिंग के सिलसिले में पुणे आए थे। एक रोज़ उन्होंने मुझे पुणे से मुम्बई बुलाया जहां फ़ाज़ली ब्रदर्स की किसी फ़िल्म के लिए मेरा स्क्रीन टेस्ट लेकर मुझे मज़हर ख़ान से मिलवाया गया। लेकिन इस बात का पता चलते ही प्रभात के बाबूराव पै ने यह कहते हुए कि मैं प्रभात के कॉण्ट्रेक्ट से बंधी हुई हूं, कानूनी कार्रवाही की धमकी देकर फ़ाज़ली ब्रदर्स के साथ होने जा रहा मेरा कॉण्ट्रेक्ट रद्द करवा दिया। उधर निर्माता चिमनभाई देसाई भी मुझे अगली अपनी फ़िल्म में लेना चाहते थे। वो बाबूराव पै से उनके ऑफ़िस में जाकर मिले और किसी तरह से उन्हें मना ही लिया। इस तरह प्रभात के बैनर से बाहर मुझे जो पहली फ़िल्म मिली वो थी गाली’, जो साल 1944 में रिलीज़ हुई थी। एन.आर.देसाई प्रोडक्शंस (मुम्बई) के बैनर में बनी इस फ़िल्म के निर्देशक थे आर.एस.चौधरी, संगीत हनुमान प्रसाद और सज्जाद हुसैन का था और मुख्य कलाकार थे करण दीवान, निर्मला, याक़ूब, कन्हैयालाल और जिल्लोबाई। इस फ़िल्म में मैंने अभिनय करने के साथ ही कुछ गीत भी गाए थे जिनमें से एक होली मैं खेलूंगी उन संग डट केमुझ पर ही फ़िल्माया गया था।“ 

उधर बालकराम के बेटे चन्द्रकांत जाधव बताते हैं, प्रभात फ़िल्म कंपनी के कॉण्ट्रेक्ट से आज़ाद होकर मंजु मुंबई आयीं तो परिवार को भी साथ में आना पड़ा। ऐसे में फ़िल्म चांदके बाद प्रभात फ़िल्म कंपनी के साथ बालकराम का रिश्ता भी टूट गया। चूंकि बालकराम भी उस वक़्त उम्र के ऐसे दौर में थे कि तो वो छोटे थे बड़े, इसलिए मुंबई में उनके लिए काम हासिल कर पाना मुश्किल हो चला था। लेकिन उन्हीं दिनों मंजु को ज़रूर एक बेहतरीन मौक़ा हाथ लगा। फ़िल्म गालीके नायक करण दीवान के बड़े भाई निर्माता जैमिनी दीवान फ़िल्म रतनबना रहे थे। इस फ़िल्म के निर्देशक थे एम.सादिक़ और मुख्य भूमिकाओं में करण दीवान और स्वर्णलता थे। मंजु को इस फ़िल्म के सहनायक वास्ती की बहन की भूमिका के लिए चुन लिया गया। अंखियां मिला के जिया भरमा के चले नहीं जाना’, ‘सावन के बादलों उनसे ये जा कहो’, ‘रूमझुम बरसे बादरवा मस्त घटाएं छाईं’, ‘ जाने वाले बालमवा लौट के लौट के ’, ‘मिल के बिछड़ गयीं अंखियां’, ‘जब तुम ही चले परदेस लगा कर ठेसजैसे जोहराबाई अंबालावाली, अमीरबाई कर्नाटकी, मंजु, करण दीवान और श्याम कुमार के गाए इस फ़िल्म के सभी दस गीत उस ज़माने में बेहद लोकप्रिय हुए थे। साल 1944 में रिलीज़ हुई इस फ़िल्म के गीतों की लोकप्रियता का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि निर्माता जैमिनी दीवान को महज़ 75,000/ रूपयों की लागत से बनी इस फ़िल्म के सिर्फ़ गीतों की रॉयल्टी से ही साढ़े तीन लाख रूपये से ज़्यादा की आमदनी हुई थी। संगीतकार नौशाद के करियर की भी ये पहली हिट फ़िल्म थी। मंजु ने इस फ़िल्म में दो सोलो गीत अंगड़ाई तेरी है बहाना, साफ़ कह दो हमें तो जाना जानाऔर झूठे हैं सब सपने सुहानेगाए थे जो ख़ुद उन्हीं पर फ़िल्माए गए थे।

फ़िल्म रतन की ज़बर्दस्त कामयाबी का लाभ मंजु को भी मिला और उनके सामने अभिनय और गायन के बेशुमार ऑफ़र्स आने लगे। लेकिन रतनउनकी आख़िरी फ़िल्म साबित हुई। मंजु बताती हैं, “इस फ़िल्म की रिलीज़ के तुरंत बाद करण दीवान से मेरी शादी हुई और मुझे फ़िल्म जगत को अलविदा कह देना पड़ा क्योंकि मेरी सास नहीं चाहती थीं कि उनकी बहू फ़िल्मों में काम करे। यही वजह है कि उस दौर में शुरू होने जा रही अपनी सभी फ़िल्मों के कॉण्ट्रेक्ट मुझे रद्द करवा देने पड़े जिनमें से एक गायिका-अभिनेत्री नूरजहां और उनके निर्माता-निर्देशक शौहर शौक़त हुसैन रिजवी की 1945 में रिलीज़ हुई फ़िल्म ज़ीनतभी थी।

उधर बालकराम भी मुंबई में बनने वाली हिंदी फ़िल्मों में काम पाने की जद्दोज़हद में जुटे हुए थे। क़रीब 3 सालों के संघर्ष के बाद उन्हें 1947 में रिलीज़ हुई फ़िल्मों कृष्णसुदामाऔर नैयामें सहायक भूमिकाएं मिलीं। कृष्णसुदामामें उन्होंने श्यामबाबू पाठक के संगीत में एक गीत जग है दर्शन का मेला...भी गाया था। आने वाले सालों में बालकराम सीता स्वयंवर’ (1948), ‘लाहौर’, ‘सती अहिल्या’, ‘माया बाज़ारऔर संत जनाबाई’ (सभी 1949), ‘कमल के फूल’ (1950), ‘मालती माधव’ (1951) और शिव लीला’ (1952) जैसी फ़िल्मों में नज़र आए। फ़िल्म माया बाज़ारमें उन्होंने सुधीर फड़के के संगीत में ललिता (देऊलकर) फड़के के साथ दो युगलगीत बचपन मेरा बचपन तेराऔर आज की रात निराली हैगाए थे। उधर संत जनाबाईसे प्रभात फ़िल्म कंपनीके साथ उनका एक बार फिर से जुड़ाव हुआ लेकिन संत जनाबाई’ ‘प्रभात फ़िल्म कंपनीकी आख़िरी फ़िल्म साबित हुई। हिंदी सिनेमा में अपने करियर के ग्राफ़ से बालकराम ख़ुश नहीं थे इसलिए उन्होंने मराठी फ़िल्मों, नाटकों और शास्त्रीय गायन की तरफ़ रूख कर लिया जिसमें उन्हें भरपूर कामयाबी भी मिली। केला इशारा जाता जाता’, शेवग्याच्या शेंगा’, क्षण आला भाग्याचा’, स्वयंवर झाले सीतेचे’, ‘सवाल माझा आईका’, ‘वावटळऔर सौभाग्याकांक्षिणीजैसी उनकी कई मराठी फ़िल्में, उनके गाए गीत और शास्त्रीय गायन के उनके कार्यक्रम बेहद पसंद किए गए। फ़िल्म वावटळके लिए बालकराम को महाराष्ट्र शासन द्वारा सर्वश्रेष्ठ गायन पुरस्कारसे सम्मानित किया गया था। मराठी नाटक कटियार काळजात घुसलीमें उनकी गायी हिंदी क़व्वाली नाज़ुक़ सी कलाई हो जिनकी, वो तीर चलाना क्या जानेंअपने ज़माने में बेहद मशहूर हुई थी। तब तक उनकी सबसे बड़ी बहन विजयमाला भी मराठी नाटकों की अभिनेत्री के तौर पर और बड़े भाई त्रयंबक बतौर तबला और सितारवादक अपनी ख़ासी पहचान बना चुके थे। साल 1968 में बालकराम एक बार फिर से हिंदी फ़िल्म बलराम श्रीकृष्णमें भगवान विष्णु की भूमिका में नजर आए थे। उधर मंजु, दीवान परिवार की बहू बनकर घर-गृहस्थी संभाल रही थीं।    

दीवान परिवार मूल रूप से गुजरांवाला का रहने वाला था। करण दीवान ने साल 1941 में लाहौर में बनी पंजाबी फ़िल्म मेरा माहीमें रागिनी और मनोरमा के साथ काम किया था। उस ज़माने में लाहौर में बतौर फ़िल्म पत्रकार काम कर रहे बी.आर.चोपड़ा ने करण दीवान की फ़ोटोज़ देविका रानी को भेजीं, जिनके बुलावे पर करण मुम्बई चले आए, हालांकि बॉम्बे टॉकीज़ के भीतर चल रही उठापटक की वजह से देविका रानी, करण दीवान की ख़ास मदद नहीं कर पायीं। ऐसे में करण दीवान अभिनेता-अभिनेत्रियों को उर्दू का उच्चारण सिखाने के काम में जुट गए। मुम्बई में उन्हें जो पहली फ़िल्म मिली, वो थी साल 1943 में बनी सन आर्ट पिक्चर्स की सी.एम.लोहार द्वारा निर्देशित स्कूल मास्टरजिसमें उनकी हिरोईन माया बनर्जी थीं। दीवान परिवार के तीन भाईयों में सबसे बड़े भीष्म दीवान कानपुर में जा बसे थे तो मंझले भाई जैमिनी दीवान और सबसे छोटे करण दीवान मुम्बई चले आए थे। जैमिनी ने रतनके बाद दो दिल’(1947) और लाहौर’ (1949) के अलावा एक पंजाबी फ़िल्म चमन’ (1948) का भी निर्माण किया था। करण दीवान ने आगे चलकर दुनिया, परदेस, दहेज, एक नज़र, बहार, तीन बत्ती चार रास्ता, बहू, मुसाफ़िरखाना, छूमंतर, चंदन, शहीद, आमने सामने, जीने की राह, नादान, शहज़ादा, हिमालय से ऊंचा, और काला सोना जैसी क़रीब तीन दर्जन फ़िल्मों में अभिनय किया जिनमें से बाद की फ़िल्मों में वो चरित्र भूमिकाओं में नज़र आए। और फिर अगस्त 1979 में करण दीवान के गुज़रने के बाद मंजु का फिल्म जगत से रहा-सहा रिश्ता भी पूरी तरह से टूट गया।

बालकराम के शास्त्रीय गायन के कार्यक्रम बेहद पसंद किए जाते थे। 70 के दशक की शुरूआत में लीवर की बीमारी की वजह से बाहर आना-जाना सीमित हुआ तो वो अपना ज़्यादातर वक़्त संगीत साधना में बिताने लगे। दादर में उन्होंने पंडित यशवंत देव के घर पर गुणीदास संगीत विद्यालयकी स्थापना की और बच्चों को शास्त्रीय संगीत सिखाने लगे। लेकिन उनकी हालत बहुत तेज़ी से बिगड़ती चली गयी और लीवर का ऑपरेशन कराने के 8 दिनों बाद 2 मार्च 1974 को महज़ 41 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। उनकी पत्नी श्रीमती वसुमति जाधव मुंबई पोर्ट ट्रस्ट में नौकरी करती थीं। साथ ही वो लक्ष्मी-प्यारे और कल्याणजी-आनंदजी के ऑर्केस्ट्रा में और रेडियो पर गाती भी थीं। उनका निधन साल 2008 में हुआ। वर्तमान में बालकराम की बड़ी बेटी श्रीमती कल्पना पाटणकर और बेटा चन्द्रकांत जाधव ठाणे के घोड़बंदर रोड पर और दूसरी बेटी श्रीमती सीमा कुलकर्णी लोनावला में रहती हैं। उनकी सबसे छोटी बेटी श्रीमती छाया कुलकर्णी कनाडा में हैं। उधर 5 बेटियों और 2 बेटों की मां मंजु अब 84 बरस की हो चुकी हैं और मुंबई के अलावा उनका ज़्यादातर वक़्त देहरादून में अपनी बेटी के और शारजाह में रहने वाले छोटे बेटे के साथ गुज़रता है। उनके बड़े बेटे दीपक दीवान मुंबई में ही रहते हैं।

मंजु और बालकराम के परिवारों का अब सिनेमा से कोई भी रिश्ता नहीं रहा। वो रिश्ता तो करण दीवान और बालकराम के गुज़रने के साथ ही बरसों पहले टूट चुका था।  

आभार : बहुमूल्य मार्गदर्शन और सहायता के लिए हम श्री डी.बी.सामंतश्री हरमंदिर सिंह हमराज़और श्री हरीश रघुवंशी के आभारी हैं। सभी आवश्यक जानकारियां और विभिन्न फ़ोटोज़ उपलब्ध कराने के लिए हम श्री बालकराम की बेटी श्रीमती कल्पना पाटणकर, बेटे श्री चन्द्रकांत जाधव और श्रीमती मंजु दीवान के बेटी-दामाद श्रीमती जयश्री-श्री किशोर माथुर और बेटे श्री दीपक दीवान के भी आभारी हैं। इस आलेख में प्रयुक्त पोस्टर उपलब्ध कराने के लिए हम जाने-माने फ़िल्म इतिहासकार और पोस्टर और बुकलेट संग्रहकर्ता श्री एस.एम.एम.औसजा के विशेषरूप से आभारी हैं।
.......................................................................................................................  

9 comments:

  1. sach much beeti hui galiyo se moti chun late hain aap... padhkar aanandit ho gaya...sadhuvaad!!!

    ReplyDelete
  2. What an interesting information about the whole family! Many thanx.

    ReplyDelete
  3. ShishirJi:
    I read all your blogs with great interest but found now only how to post a comment.

    You have done a fabulous job.
    I had played Mnaju's famous song once "do dilo ko ye duniya"..and even after giving a hint of MD, most veterans could not place her name...all knew the SONG.
    Forge ahead with your good work.
    Vinayak Vaidya

    ReplyDelete
  4. prashant, biren ji aur vinayak ji : utsaahvardhan ke liye aap sabhi ka haardik dhanyawaad !!!

    ReplyDelete
  5. Shishirji,
    Oh my God, What a great family charactorisation of yester years. TEN DIVASAHA GATAHA.. , when such struggle for an artist , though with full of telent made the more great. The movies all narrated in artical reminds the two early decades of the movies.
    Thanks for growing the lotus from the old passed years.
    Sumant VAshi Chicago.

    ReplyDelete
  6. thanx for such an excellent upload! i have no words to express my feelings..
    karan dewan saab was always one of my favorite singers. (among them lahore and rattan is my very favorite.)
    it always fascinated me to know what once famous celebrities lead their lives....
    thank you very much, boss!

    ReplyDelete
  7. Very interesting reading.
    Thank you for discovering and sharing this snippet of history, every link shows the future.
    Deeply Touched.

    ReplyDelete