Tuesday, May 8, 2012

‘Mother India’ – Pramila





Mother India’ – Pramila
................................... Shishir Krishna Sharma

(Translated from original Hindi to English by Ms. Akhsher Apoorva)

For today’s Hi-Tech generation the name Pramila maybe unheard of but, this name is enough to transport aficionados of Hindi cinema back to the golden memories of the 30’s to the 50’s era. Pramila was not only a well-known actress and producer of her time; she also had the privilege of being crowned as the very first Miss India. Born on 30th December 1916 and raised in a wealthy Jewish family of Kolkata, Pramila came about her film career by sheer coincidence in the year 1935 with Ardeshir Irani’s Imperial Film Companys Return Of Toofan Mail. She used to teach in a school in Kolkata and during one of her vacations she had come to Mumbai to spend time with her sister, actress Romila and cousin, actor Rose. One day Ardeshir Irani and Director R.S.Chaudhury happened to see Pramila and they persuaded her for the main role in the film Return of Toofan Mail’. In a meeting with her, sometime before her death, Pramila said that her experience of working in that film was not very pleasant. She said, “I might have been raised in an open and modern environment but I was still an Indian woman at heart. It was not possible for me to compromise with my culture, my self-resect or my integrity. And hence, for the same reason, when I heard the director’s unnecessary chatter I had to tell him on his face that as an actress it was my duty to follow his directives but other than shooting, I would not indulge in any of his trivialities. On seeing my no-nonsense attitude he got so irritated that on the pretext of shooting, on the first day itself, he made me climb up and down the Qutub Meenar three times. It was only later that I came to know that there was no such scene in the script and that; there wasn’t any reel in the camera either. For various reasons, the film could never be completed.” A disappointed Pramila was about to return to Kolkata when Producer Ardeshir Irani tried to convince her otherwise and signed a 5 film contract with her just to persuade her to stay, however, Pramila was first seen on screen in Kolhapur Cinetones film Bhikharan’ (1935).

Directed by Premankur Atorthi and musically composed by Harish Chandra Bali, the main leads of filmBhikharan were Master Vinayak and Ratan Bai. Pramila had played an important character called ‘Chandra’ in the film. Pramila’s real name was ‘Esther Victoria Abrahm’. The movie Bhikharan’ featured a comedy song ‘tilchatta haye tilchatta chhipkali ne pakad liya’ that was filmed on her. Many big names like Master Vinayak, Baburao Pendharkar and Bhalji Pendharkar were assocated withKolhapur Cinetone and Baburao Pendharkar was the one who gave Esther her screen name Pramila.

According to Pramila, the films Ardeshir Irani had signed her on with ‘Imperial’ were ‘Mahamaya’, ‘Our Darling Daughters’ (Hamari Betiyaan) & ‘Sarla’ (all-1936), ‘Mere Laal (1937) andMother India(1938). In Pramila’s biography, published by a Versova, Mumbai based organization ‘Sparrow’ that works for woman’s right, Imperial film Company's name is mentioned as the Producer for Mother India, but, as per ‘Hindi film Geetkosh’, compiled by Shri Harmandir Singh ‘Hamraaz, and ‘A to Z Film Directory’ compiled by Shri Javed Mohammad Zaidi, this film was produced by ‘India Cine Pictures’. At the same time Hindi Cinema Ka Sunehra Safar’, written by Shri Badri Prasad Joshi, claims ‘Cine Color’ as the producer for Mother India.

Mijjan Kumar was the main male lead of ‘Mahamaya’, ‘Our Darling Daughters’ (Hamari Betiyaan) & ‘Sarla’. Mahamayawas directed by Gunjal and its music director was Anna Sahib Mainkara, who also composed for ‘Our Darling Daughters’. While R.S.Chaudhury directed ‘Our Darling Daughters’, Premankur Atorthi directed ‘Sarla’ and ‘Sarla’s’ Music Director was Harish Chandra Bali. Gunjal directed the film ‘Mere Laal’ whose hero was Ram Marathe and its Music Directors were Harish Chandra Bali & Ram Gopal.

 Made in 1938, the film Mother India will always be known in the history of Indian Cinema as first successfully made color film. The film’s director was Gunjal and its Music Director was Ram Gopal. Along with Pramila, important characters were essayed in the film by Shrifa, Wazir Mohammad Khan, Ghulam Mohammad, Ghulam Rasool and Ashiq Hussain. Prior to Mother India, there had been three attempts to make a color film in India, but, due to technical reasons, they remained unsuccessful. These films were ‘Bilva mangal’ (1932) ofMadan Theatres-Kolkata’, ‘Sairandhri’ (1933) of ‘Prabhata film Company-Pune’ and ‘Kisan Kanya’ (1937) of Imperial film Company-Mumbai.

1939 saw four films of Pramila of which BijliandHuqum Ka Ikkawere produced by Prakash Pictures and Jungle King& ‘Kahan Hai Manzil Teri’ was produced under the banner of Wadia Movietone.  Shankar Rao Vyas & Lallubhai Nayak were the Music Directors for both of Prakash Pictures films. Bijliwas directed by Balwant Bhatt and Jairaj, Pramila, Ghulab, Shyam Sunder and Shirin played important charaters in it. Producer-Director Mahesh Bhatt is actress Shirin’s son. Shanti J.Dave directed the movie Huqum Ka Ikkawhich saw Pramila along with actors like Umakant, M.Zahoor, Kumudini and Shyam Sunder.  Pramila did her very first stunt role in Jungle King. Also this was Wadia Movietones first film to feature another actress under their banner other than ‘Nadia’ who was their permanent actress. 

Director Nari Ghadiyali started his career with this film and its hero was John Kawas. Written by Munshi Shyam and composed by Madhulal Damodar Master, 3 out of the 6 songs in the film ‘mere sajan ab tak nahin jaage dekho ho gai bhor’, ‘prem nadi lehrati hai madhur swaron me gaati hai’ and ‘hook uthat hai mera jiya ghabraaye were picturised on Pramila. Madhulal Damodar Master composed for the film ‘Kahan Hai Manzil Teri’ as well and its lyricist was Wahid Quraishi and along with Pramila the main roles saw Ila Devi, Harishchandra, Agha, Dalpat and Minoo The Mistic. In the year 1940, Pramila was once again seen in ‘Prakash Picturess’ film ‘Sardar’ and Jayant was seen opposite her. Rest of the cast comprised of M.Nazir,  Nirmala and Amir Bai Karnatki. The composer was Shankar Rao Vyas and the lyrics were penned by ‘Balam’ & ‘Anuj’.  This movie was directed by Dwarka Khosla. In 1939 Pramila married Mijjan Kumar, hero of films like ‘Mahamaya’, ‘Our Darling Daughters’ and ‘Sarla’. He was the same Mijjan Kumar who later on played The Sculptor in the movie ‘Mughal-E-Azam’ and on whom the famous song ‘aye mohabbat zindabad’ was filmed. Originally from Lucknow, Kumar’s real name was ‘Sayyad Hassan Ali Zaidi’. The story behind his second name Kumaris also quite interesting. According to Pramila, Sayyad Hassan Ali Zaidi, who used to work in Kolkata’s ‘New Theatres’ early in his career,  was playing the main lead under the same banner in its 1933’s  ‘Pooran Bhagat’. The film was ready for release when communal riots broke out in Bengal. Due to the sensitive atmosphere around, the distributers were hesitant to print a non-Hindu hero’s real name on the posters of a devotional film and Director ‘Kumar Devki Bose’, who hailed from a royal family, saw the distributers hesitation and said “from today on I give you an important part of my name”. And actually, after this, he never used the word ‘Kumar’ before his name ever again which was a norm for males in royal families.  

The 40’s bought with itself a period of great change for Pramila. In 1941, she essayed important characters in ‘Chitra Productions’s’ film ‘Kanchan’ and in ‘Mohan Pictures’s’ film ‘Shehzadi’. Gyan Dutt was the music composer for the film ‘Kanchan’ and it was also the first film of music director Naushad’s career where he got a chance to compose just one song ‘bata do koi kaun gali more shyam’ which was written by D.N.Madhok and sung by Leela Chinis, however his first film as independent music director ‘Premnagar’, signed later, had already been released in the year 1940. Trilok Kapoor was Pramila’s hero in Director J.P.Adwani and music director Ram Gopal’s film ‘Shehzadi’. She also acted in Bombay Talkies’ film ‘Basant’ (1942). The song ‘hua kya qusoor jo humse ho door’ from Basantwas filmed on her and had become very popular at that time. ‘Baby Mumtaz’ entered the field of acting with the film Basant and later on came to be known as Madhubala.

Kumar was working with ‘Ranjit Studio’ at that time and had already done few films like ‘Nadi Kinare’ and ‘Thokar’ under that banner. And suddenly one day he was given a termination notice from the job. On the other side his close friend actor Chandra Mohan was very angry with his CompanyMinerva Movietone because in spite of the companies promise to increase his salary after the huge success of the film ‘Pukar’ (1939) they hadn’t lived up to their promise.  Hence the two friends decided to turn producers themselves and established their very own banner Silver Films in 16th March 1942. As Pramila was Kumar’s wife, she became a very important part of this banner. The muhurat shot of their banner’s first movie ‘Jhankaar’ was done by Devika Rani. Its Director was S.Khalil, music director was Basheer Dehalvi and the main roles were played by Chandra Mohan, Kumar, Pramila, Ajoori, Shehzadi and Gope. Pramila sang 3 songs in this film, Panjabi solo ‘raat haneri mahi ve vach chamkan taare’ & a duet with Kumar ‘is dil ka thikana kaun, jeene ka bahaana kaun’, both penned by D.N .Madhok and solo ‘hum to do bol keh ke hare hain’ penned by Saaliq Lucknowi. But this film flopped miserably.

Over the next two decades, Pramila and Kumar together produced ‘Bhalai’ (1943), ‘Bade Nawab Sahab’ (1944), ‘Naseeb’ (1945), ‘Devar’ (1946), ‘Dhun’ (1953) and ‘Bahana’ (1960) under the banner of Silver Films’, ‘Nehle Pe dehla’, (1946), ‘Dhoom Dhaam’ (1949) and ‘Dilbar’ (1951) under the banner of  Shama Productions’, ‘Aap Beeti’(1948) under the banner of Kumar Studios Ltd.’ and ‘Badal aur Bijli’ (1956) andJungle King’ (1959) under the banner of  ‘Artistes United’. Of these films, ‘Aap Beeti’, ‘Dhun’ and ‘Bahana’ were directed by Kumar and film ‘Badal aur Bijli’ was directed by Pramila and Kumar’s son Maurice Abraham. While Raj Kapoor and Nargis were the main leads of the film ‘Dhun’, Sajjan and Meena Kumari were seen essaying the main roles in ‘Bahana’. Composed by Madan Mohan, the songs of both the films were very popular in that eras.

Even though Pramila had turned producer, she continued to act in films made under other banners. Other than acting for her own banner, she was also seen working in other banners such as ‘Saheli’ (1942 / Star Productions), ‘Ulti Ganga’ (1942 / Minerva Movietone), ‘Saal Girah’ (1946 / B.Krishin Movietone), ‘Shalimar’ (1946 / Shourie Pictures-Lahore), ‘Doosri Shadi’ (1947 / B.Krishin Movietone), ‘Bequsoor’ (1950 / Madhukar Pictures), ‘Hamari Beti’ (1950 / Shobhna Pictures), ‘Majboori’ (1954 / Murli Movietone), Fighting Queen’ (1956 / N.K.G.Productions) and ‘Murad’ (1961 / N.K.G.Productions). She won the first Miss India award started by a journalist association in 1947 and it is a record that exactly 20 years later i.e. in the year 1967 her daughter Naqi Jehaan won the same award. Naqi Jehaan was seen playing an important role in 1966’s film ‘Aakhri Khat’.

Pramila was taken aback by Kumar’s decision to migrate to Pakistan in the early 60’s. But despite all the pressures to leave India, she did not succumb to the same. Kumar’s departure not only affected Pramila’s personal life but her professional life was affected as well, and subsequently it broke her association with films completely. Film ‘Bahana’ of 1960 was her last film as a producer and 1961’s ‘Murad’ became her last movie as an actress. She faced many difficulties in life but never gave up, she didn't let her kids miss a father figure, she took on the responsibilities of a father and a mother both and in such a way, she imparted good ethics to them and provided them with a bright future.

Pramila spent her last 45 years in her bungalow ‘Pramila Niwas’ at ‘Shivaji Park-Dadar-West with her bustling family comprising of sons-daughters in law and grandchildren. Her younger son Hyder Ali is a well-known actor who made a mark for himself with Doordarshan’s serial ‘Nukkad’. Hyder Ali wrote the story-screenplay for Ashutosh Govarikar’s ‘Jodha Akbar’ in 2008 and the famous ‘Khwaja mere Khwaja’ song was filmed on him as well.  Pramila’s daughter Naqi Jehaan alias Nandini Kamdar is married into the renowned business tycoon ‘Kamdar’ family of Mumbai.

Actress-Producer Pramila who has carved herself a special place in the history of Hindi Cinema, passed away on 6th August 2006 at the age of 90 in Mumbai.

Acknowledgements : We are thankful to Shri D.B.Samant, Shri Harmandir Singh ‘Hamraz’, Shri Surjit Singh, and Shri harish Raghuvanshi for their valuable suggestions and guidance.
………………………………………………………………


Few links :

hua kya kusoor / basant / 1942

badi barbariyaan lekar / dhun / 1953

tum bin piya nindiya na aaye / dhun / 1953

hum pyar karenge / dhun / 1953

tare gin gin beeti saari raat / dhun / 1953

sitaron se poochho nazaron se poochho / dhun / 1953

nazar mila le o dilruba / dhun / 1953

guzre hain iss tarah se / bahana / 1960

ja re badra bairi ja / bahana / 1960

teri nigahon me teri hi bahon me / bahana / 1960

beraham aasmaan meri manzil / bahana / 1960

bol mere nandlala / bahana / 1960
.......................................................................................................
मदर इंडिया’ – प्रमिला
...............................शिशिर कृष्ण शर्मा

आज की हाईटेक पीढ़ी के लिए प्रमिला का नाम भले ही अनसुना सा हो लेकिन 30 से 50 के दशक के हिंदी सिनेमा के चाहने वालों के लिए ये नाम उन्हें उस दौर की सुनहरी यादों में ले जाने के लिए काफ़ी है। प्रमिला अपने दौर की जानी-मानी अभिनेत्री और निर्मात्री तो थीं ही, उन्हें पहलीमिस इंडियाहोने का गौरव भी हासिल था। 30 दिसम्बर 1916 को कोलकाता के एक अमीर यहूदी परिवार में जन्मीं और पली-बढ़ीं प्रमिला के फ़िल्मी करियर की शुरूआत महज़ इत्तेफ़ाक़ से साल 1935 में आर्देशीर ईरानी कीइंपीरियल फ़िल्म कंपनीकी फ़िल्मरिटर्न ऑफ़ तूफ़ान मेलसे हुई थी। दरअसल वो कोलकाता में एक स्कूल में पढ़ाती थीं और छुट्टियों में अपनी अभिनेत्री बहन रोमिला और चचेरे भाई अभिनेता रोज़ से मिलने मुंबई आयी थीं। एक रोज़ आर्देशीर ईरानी और निर्देशक आर.एस.चौधरी की नज़र उन पर पड़ी और उन्होंने प्रमिला को फ़िल्म रिटर्न ऑफ़ तूफ़ान मेल की मुख्य भूमिका के लिए मना लिया। 

निधन से कुछ समय पहले अपने निवास पर हुई मुलाक़ात के दौरान प्रमिला ने बताया था कि उस फ़िल्म में काम करने का उनका तजुर्बा अच्छा नहीं रहा था। उनका कहना था, ‘मैं भले ही खुले और आधुनिक माहौल में पली-बढ़ी थी लेकिन थी तो एक हिंदुस्तानी औरत ही। अपने संस्कारों, आत्मसम्मान और पवित्रता के साथ किसी तरह का समझौता करना मेरे लिए मुमक़िन नहीं था। यही वजह है कि निर्देशक की ग़ैर-जरूरी बातें सुनकर मुझे उनसे दो-टूक कह देना पड़ा था कि बतौर अभिनेत्री आपके निर्देशों का पालन करना मेरा फर्ज़ है लेकिन शूटिंग से अलग हटकर मैं आपकी कोई भी बात नहीं सुनना चाहूंगी। मेरे इस कड़े रूख को देखकर वो इतने चिढ़ गए थे कि पहले ही दिन शूटिंग के बहाने उन्होंने मुझे लगातार तीन बार कुतुब मीनार पर चढ़ने-उतरने के लिए मजबूर किया। बाद में पता चला, तो स्क्रिप्ट में ऐसा कोई सीन था और ही उस दौरान कैमरे में रील मौजूद थी। कई वजहों से वो फ़िल्म भी पूरी नहीं बन पायी थी निराश होकर प्रमिला कोलकाता वापस लौटने वाली थीं कि निर्माता आर्देशीर ईरानी ने फ़ैसला बदलने के लिए मनाते हुए उनके साथ 5 फ़िल्मों का कांट्रेक्ट कर लिया, हालांकि प्रमिला की सबसे पहले प्रदर्शित होने वाली फ़िल्मकोल्हापुर सिनेटोनकीभिखारन’ (1935) थी।

प्रेमांकुर अटॉर्थी द्वारा निर्देशित और हरिश्चन्द्र बाली द्वारा संगीतबद्ध फ़िल्मभिखारनके नायक-नायिका थे मास्टर विनायक और रतनबाई।  प्रमिला ने इसमेंचन्द्रानाम का एक अहम किरदार निभाया था। प्रमिला का असली नामएस्थर विक्टोरिया अब्राहमथा। फ़िल्म भिखारनमें उनपर एक हास्यगीततिलचट्टा हाए तिलचट्टा छिपकली ने पकड़ लियाफ़िल्माया गया था।कोल्हापुर सिनेटोनसे मास्टर विनायक, बाबूराव पेण्ढारकर और भालजी पेण्ढारकर जैसे बड़े नाम जुड़े हुए थे और एस्थर को फ़िल्मी नामप्रमिलाबाबूराव पेण्ढारकर ने दिया था।

प्रमिला के मुताबिक़इम्पीरियलकी जिन फ़िल्मों के लिए आर्देशीर ईरानी ने उन्हें साईन किया था वो थीं, ‘महामाया’, ‘अवर डार्लिंग डॉटर्स’(हमारी बेटियां) औरसरला’ (तीनों 1936), ‘मेरे लाल’ (1937) औरमदर इंडिया’ (1938) महिलाओं के हित में काम करने वाली वर्सोवा, मुंबई स्थित संस्थास्पैरोद्वारा प्रकाशित प्रमिला की आत्मकथा में भीमदर इंडियाके निर्माता के तौर परइम्पीरियल फ़िल्म कंपनीका नाम दर्ज है लेकिन श्री हरमंदिर सिंहहमराजद्वारा संकलितहिंदी फ़िल्म गीतकोशऔर श्री जावेद मोहम्मद ज़ैदी द्वारा संकलित टु ज़ेड फ़िल्म डायरेक्टरीके मुताबिक़ इस फ़िल्म का निर्माणइंडिया सिने पिक्चर्सद्वारा किया गया था। वहीं श्री बद्रीप्रसाद जोशी लिखितहिंदी सिनेमा का सुनहरा सफरके मुताबिक़मदर इंडियाका निर्माणसिने कलरद्वारा किया गया था। महामाया’, ‘अवर डार्लिंग डॉटर्स’(हमारी बेटियां) और सरलाके नायक थे मिज्जन कुमार।महामायाका निर्देशन गुंजाल ने किया था और संगीतकार थे अन्ना साहिब माईनकर, जिन्होंनेअवर डार्लिंग डॉटर्समें भी संगीत दिया था। अवर डार्लिंग डॉटर्सके निर्देशक आर.एस.चौधरी थे तोसरलाके निर्देशक प्रेमांकुर अटॉर्थी और संगीतकार हरिश्चन्द्र बाली थे। फ़िल्ममेरे लालके नायक राम मराठे, निर्देशक गुंजाल और संगीतकार थे हरिश्चन्द्र बाली और राम गोपाल।

साल 1938 में बनी फ़िल्ममदर इंडियाका नाम भारतीय सिनेमा के इतिहास में सफलतापूर्वक बनी पहली रंगीन फ़िल्म के तौर पर दर्ज है। इस फ़िल्म का निर्देशन गुंजाल का था और संगीतकार थे रामगोपाल। प्रमिला के अलावा इसमें शरीफ़ा, वज़ीर मुहम्मद ख़ान, ग़ुलाम मोहम्मद, ग़ुलाम रसूल और आशिक़ हुसैन ने अहम भूमिकाएं निभायी थीं। फ़िल्ममदर इंडियासे पहले भारत में रंगीन फ़िल्म बनाने की तीन कोशिशें तकनीकी वजहों से पूरी तरह सफल नहीं हो पायी थीं। वो फ़िल्में थीं, ‘माडन थिएटर्स-कोलकाताकीबिल्वमंगल’ (1932), ‘प्रभात फ़िल्म कंपनी-पुणेकीसैरंध्री’ (1933) औरइम्पीरियल फ़िल्म कंपनी-मुंबईकीकिसान कन्या’ (1937)

साल 1939 में प्रमिला की चार फ़िल्में प्रदर्शित हुईं, जिनमें सेबिजलीऔरहुक़ुम का इक्काका निर्माण प्रकाश पिक्चर्स के तोजंगल किंगऔरकहां है मंज़िल तेरी का निर्माणवाडिया मूवीटोनके बैनर में हुआ था। प्रकाश पिक्चर्स की दोनों फ़िल्मों के संगीतकार थे शंकरराव व्यास और लल्लूभाई नायक। बलवंत भट्ट द्वारा निर्देशित फ़िल्मबिजलीके अहम किरदार जयराज, प्रमिला, ग़ुलाब, श्यामसुंदर और शीरीन ने निभाए थे। निर्माता-निर्देशक महेश भट्ट अभिनेत्री शीरीन के बेटे हैं। फ़िल्महुक़ुम का इक्काका निर्देशन शांति जे.दवे ने किया था जिसमें प्रमिला के साथ उमाकांत, एम.ज़हूर, कुमुदिनी और श्यामसुंदर नजर आए थे।जंगल किंगमें प्रमिला ने पहली बार स्टंट भूमिका की थी।वाडिया मूवीटोनकी भी ये ऐसी पहली फ़िल्म थी जिसमें उस बैनर की स्थायी अभिनेत्रीनाडियाकी जगह किसी और अभिनेत्री को लिया गया था। निर्देशक नारी घड़ियाली ने इसी फ़िल्म से अपने करियर की शुरूआत की थी और इसके नायक थे जॉन कावस। मुंशी श्याम के लिखे और मधुलाल दामोदर मास्टर के संगीतबद्ध किए इस फ़िल्म के 6 में से 3 गीतमेरे साजन अब तक नहीं जागे देखो हो गयी भोर’, ‘प्रेम नदी लहराती है, मधुर स्वरों में गाती हैऔरहूक उठत है मेरा जिया घबराएप्रमिला पर फ़िल्माए गए थे। फ़िल्मकहां है तेरी मंज़िलका संगीत भी मधुलाल दामोदर मास्टर ने तैयार किया था, गीतकार थे वाहिद क़ुरैशी और प्रमिला के साथ मुख्य भूमिकाओं में नज़र आए थे इलादेवी, हरिश्चन्द्र, आग़ा, दलपत और मीनू मिस्टिक। साल 1940 में एक बार फिर प्रमिलाप्रकाश पिक्चर्सकी फ़िल्मसरदारमें नज़र आयीं जिसमें उनके नायक थे जयंत। अन्य कलाकार थे एम.नज़ीर, निर्मला और अमीरबाई कर्नाटकी। संगीत शंकरराव व्यास का था, गीत लिखे थेबालमऔरअनुजने और निर्देशक थे द्वारका खोसला। 

उधर साल 1939 में महामाया’, ‘अवर डार्लिंग डॉटर्स और सरलाके नायक मिज्जन कुमार के साथ उनकी शादी हो चुकी थी। ये वोही मिज्जन कुमार थे जिन्होंने आगे चलकर फिल्ममुग़ल--आजममें मूर्तिकार की भूमिका की थी और जिनपर मशहूर गीत मोहब्बत ज़िंदाबादफ़िल्माया गया था। मूलत: लखनऊ के रहने वाले कुमार का असली नामसैयद हसन अली ज़ैदीथा। उनकेकुमारबनने का क़िस्सा भी कम दिलचस्प नहीं है। प्रमिला के मुताबिक़ सैयद हसन अली ज़ैदी, जो शुरूआती दौर में कोलकाता केन्यू थिएटर्सकी फ़िल्मों में काम करते थे, साल 1933 में बनी इसी बैनर की फ़िल्मपूरण भगतमें नायक की भूमिका निभा रहे थे। फ़िल्म प्रदर्शन के लिए तैयार थी कि बंगाल में क़ौमी दंगे भड़क उठे। ऐसे नाज़ुक मौक़े पर धार्मिक फ़िल्म के पोस्टरों पर गैर हिंदू नायक का असली नाम छपवाने से वितरकों को हिचकिचाता देख राजसी परिवार से आए निर्देशककुमार देवकी बोसने कहा, ‘आज से अपने नाम का अहम हिस्सा मैं तुम्हें देता हूं और वास्तव में उसके बाद उन्होंने अपने नाम के आगेकुमारशब्द का इस्तेमाल कभी नहीं किया।

40 का दशक प्रमिला के लिए जबर्दस्त बदलाव का दौर लेकर आया। साल 1941 में उन्होंनेचित्रा प्रोडक्शंसकी फ़िल्मकंचनऔरमोहन पिक्चर्सकीशहज़ादीमें अहम भूमिकाएं निभाईं। ज्ञानदत्त के संगीत से सजी फ़िल्मकंचनसंगीतकार नौशाद के करियर की पहली फ़िल्म थी जिसमें उन्हें सिर्फ़ एक गीत, डी.एन.मधोक का लिखा और लीला चिटणिस का गायाबता दो कोई कौन गली मोरे श्यामसंगीतबद्ध करने का मौक़ा मिला था, हालांकि उनकी बतौर स्वतंत्र संगीतकार पहली फ़िल्मप्रेमनगरसाल 1940 में ही प्रदर्शित हो चुकी थी। निर्देशक जे.पी.आडवाणी और संगीतकार राम गोपाल की फ़िल्मशहज़ादीमें प्रमिला के नायक थे त्रिलोक कपूर। बॉम्बे टॉकीज़ की फ़िल्मबसंत’ (1942) में उन पर फ़िल्माया गया गीतहुआ क्या क़ुसूर जो हमसे हो दूरउस जमाने में बेहद मशहूर हुआ था। फ़िल्मबसंतसेबेबी मुमताजने अभिनय के क्षेत्र में कदम रखा था जो आगे चलकर मधुबाला के नाम से जानी गयीं।]

कुमार उन दिनोंरणजीत स्टूडियोमें नौकरी कर रहे थे और इस बैनर कीनदी किनारेऔरठोकरजैसी कुछ फ़िल्मों में काम कर चुके थे। अचानक एक रोज़ उन्हें नौकरी से निकले जाने का नोटिस थमा दिया गया। अभिनेता चन्द्रमोहन उनके क़रीबी दोस्त थे और वो भी फ़िल्मपुकार’ (1939) की ज़बर्दस्त कामयाबी के बावजूद वादे के मुताबिक वेतन बढ़ाए जाने को लेकर अपनी कंपनीमिनर्वा मूवीटोनसे नाराज थे। ऐसे में दोनों दोस्तों ने ख़ुद ही निर्माता बनने का फैसला करते हुए 16 मार्च 1942 कोसिल्वर फ़िल्म्सकी स्थापना कर ली। कुमार की पत्नी होने के नाते प्रमिला इस बैनर का अहम हिस्सा थीं। इस बैनर की पहली फ़िल्मझंकारका मुहुर्त देविका रानी के हाथों हुआ था। निर्देशक थे एस.खलील, संगीतकार बशीर देहलवी और मुख्य भूमिकाएं निभाई थीं चन्द्रमोहन, कुमार, प्रमिला, अजूरी, शहज़ादी और गोप ने। प्रमिला ने इस फ़िल्म में तीन गीत गाए थे, डी.एन.मधोक के लिखेरात हनेरी माही वे वच चमकन तारेजो पंजाबी भाषा में था, कुमार के साथ दोगानाइस दिल का ठिकाना कौन, जीने का बहाना कौनऔर सालिक़ लखनवी का लिखाहम तो दो बोल कह के हारे हैं लेकिन ये फ़िल्म बुरी तरह से असफल रही थी।

अगले दो दशकों में प्रमिला और कुमार ने मिलकरसिल्वर फ़िल्म्सके बैनर मेंभलाई’ (1943), ‘बड़े नवाब साहब’ (1944), ‘नसीब’ (1945), ‘देवर’ (1946), ‘धुन’ (1953) औरबहाना’ (1960), ‘शमा प्रोडक्शंसके बैनर मेंनहले पे दहला’ (1946), ‘धूमधाम’ (1949) औरदिलबर’ (1951), ‘कुमार स्टूडियोज़ लिमिटेडके बैनर मेंआपबीती’(1948) औरआर्टिस्ट्स युनाईटेडके बैनर मेंबादल और बिजली’ (1956) औरजंगल किंग’ (1959) जैसी फ़िल्मों का निर्माण किया। इनमेंआपबीती’, ‘धुनऔरबहानाका निर्देशन कुमार ने और फ़िल्मबादल और बिजलीका निर्देशन प्रमिला और कुमार के बेटे मॉरिस अब्राहम ने किया था। फ़िल्मधुनके नायक-नायिका राज कपूर और नरगिस थे तोबहानाकी मुख्य भूमिकाओं में सज्जन और मीना कुमारी नज़र आए थे। मदनमोहन द्वारा संगीतबद्ध किए इन दोनों ही फ़िल्मों के गीत अपने दौर में बेहद मशहूर हुए थे।

निर्मात्री बन जाने के बावजूद प्रमिला बाहर के बैनर की फ़िल्मों में भी अभिनय करती रहीं। अपने बैनर की तमाम फ़िल्मों के अलावा वोसहेली’ (1942 / स्टार प्रोडक्शंस), ‘उल्टी गंगा’ (1942 / मिनर्वा मूवीटोन), ‘सालगिरह’ (1946 / बी.कृषिन मूवीटोन), ‘शालीमार’ (1946 / शोरी पिक्चर्स-लाहौर), ‘दूसरी शादी’ (1947 / बी.कृषिन मूवीटोन),बेक़ुसूर’ (1950 / मधुकर पिक्चर्स), ‘हमारी बेटी’ (1950 / शोभना पिक्चर्स), ‘मजबूरी’ (1954 / मुरली मूवीटोन), ‘फ़ाईटिंग क्वीन’ (1956 / एन.के.जी.प्रोडक्शंस) औरमुराद’ (1961 / एन.के.जी.प्रोडक्शंस) जैसी बाहरी बैनर की फ़िल्मों में भी नज़र आयीं। साल 1947 में उन्होंने एक जर्नलिस्ट एसोसिएशन द्वारा शुरू किया गया पहलामिस इंडियाका ख़िताब जीता और ये एक रेकॉर्ड ही है कि ठीक बीस साल बाद साल 1967 में उनकी बेटी नक़ीजहां ये ताज हासिल करने में कामयाब हुईं। नक़ीजहां साल 1966 में बनी फ़िल्मआख़िरी ख़तकी एक अहम भूमिका में नज़र आयी थीं।

60 के दशक की शुरूआत में कुमार के पाकिस्तान चले जाने के फ़ैसले से प्रमिला को ज़बर्दस्त धक्का लगा। लेकिन तमाम दबावों के बावजूद वो ख़ुद भारत छोड़ने को तैयार नहीं हुईं। कुमार के चले जाने का असर उनकी निजी ही नहीं व्यावसायिक ज़िंदगी पर भी पड़ा और फिल्मों से भी उनका रिश्ता पूरी तरह से टूट गया। साल 1960 में बनीबहानाबतौर निर्मात्री और साल 1961 में बनीमुरादबतौर अभिनेत्री उनकी आख़िरी फ़िल्में साबित हुईं। अकेली रह जाने के बावजूद उन्होंने तमाम मुश्किल हालात का डटकर सामना किया, एक अच्छी मां और बाप, दोनों का फर्ज़ निभाते हुए अपने बच्चों को अच्छे संस्कार दिए और उनके भविष्य को संवारा।

प्रमिला ने ज़िंदगी के आख़िरी 45 साल शिवाजी पार्क-दादर पश्चिमके अपने बंगले प्रमिला निवासमें बेटे-बहुओं और पोते-पोतियों से भरे-पूरे परिवार के साथ ग़ुज़ारे। उनके छोटे बेटे हैदर अली जाने-माने अभिनेता हैं जो दूरदर्शन धारावाहिकनुक्कड़की अपनी भूमिका से चर्चा में आए थे। हैदर अली ने आशुतोष गवारीकर की साल 2008 में बनी फ़िल्मजोधा अकबरकी कथा-पटकथा तो लिखी ही थी, फ़िल्म का मशहूर गीतख़्वाजा मेरे ख़्वाजाभी उन्हीं पर फ़िल्माया गया था। उधर प्रमिला की बेटी नक़ीजहां उर्फ़ नंदिनी कामदार आज मुंबई के मशहूर व्यवसायीकामदारपरिवार की बहू हैं।  

हिंदी सिनेमा के इतिहास में अपनी एक ख़ास जगह बनाने वाली अभिनेत्री-निर्मात्री प्रमिला का निधन 6 अगस्त 2006 को 90 साल की उम्र में मुंबई में हुआ।

आभार : बहुमूल्य मार्गदर्शन और सहायता के लिए हम श्री डी.बी.सामंत, श्री हरमंदिरसिंह हमराज़’, श्री सुरजीत सिंह और श्री हरीश रघुवंशी के आभारी हैं।     
.................................................................................................  

6 comments:

  1. Sir,
    It is an excellent article on Pramila.However few facts are missing.
    1.Her name was not mentioned anywhere.Pramila was her film name.Her real name was Esther Victoria Abraham.
    2.As a teenager she had eloped with a Marwari Theatre Director,mr.Maneklal Dangi.
    3.After kumar left for Pakistan in 1963,she started living with a Parsi Filmmaker,Mr.Nari Ghadiali,for the next 4 decades,till she died.
    -Arunkumar Deshmukh.

    ReplyDelete
  2. thanks for the information arun ji...her real name is very much there in the write up, please check 2nd paragraph, thanks.
    so far other facts are concerned, though i know lots of such things about almost all the artistes yet my conscience doesn't allow me to include them into my writings until n unless they themselves reveal the same. gossips n spicy writings might be a part of 'cine-journalists' write-ups but not of 'film historians'...i would always like to be recognised as a sincere n serious film historian sir.
    Regards....!!!

    ReplyDelete
  3. Sir,
    I am sorry that I missed her name in the 2nd para.
    I entirely agree with your thoughts about the 'other' info and appreciate your stand too.
    I found this information given on a site run by Jews of India.
    Henceforth,I will make it a point to ignore such info and ensure that I donot quote such matters in any comments anywhere.This is my firm resolution hereafter.
    Thanks for making me realise.
    My respect for you has increased manifolds after reading your views.
    Thank you sir,
    -AD

    ReplyDelete
  4. thanks for appreciation sir...bass aise hi himmat badhaate rahiye, hamaari koshishein jaari rahengi...waise filhaal bahut kuchh aur bhi add hona baaqi hai iss write up me, was out of station, returned today only...shall give finishing touch to the write up in a day or 2...regards!!!

    ReplyDelete
  5. Very useful and important information about Pramila. And congrats for showing an exemplary clarity.

    ReplyDelete
  6. सर मझे आपका ब्लॉग बेहद पसंद आया सर ,आप अपने इस ब्लॉग में १९७३ में आयी मूवी प्रेम पर्वत के बारे में जानकारी और फोटो देने की कोशिश करें इस फिल्म के हीरो सतीश कौल को फेसबुक पर मिला जा सकता है जो कि S.S.SCHOOL OF PERFORMING ARTS AN ACTING/DANCE/ACTION/DUBBING/SINGING. ETC. FOR MORE DETAIL CALL MR. SATISH KAUL 9920696633 & SUSHMA KAUL 9821323147 चला रहे हैं आप सोहराब मोदी की फिल्म भरोसा के बारे में भी अधिक जानकारी और फोटो देने की कोशिश करें

    ReplyDelete