Sunday, April 22, 2012

Kalam ke ‘Sikandar’ - Pandit Sudarshan


Kalam ke ‘Sikandar’ - Pandit Sudarshan
.....................................Shishir Krishna Sharma Translated from original Hindi to English by Ms. Akhsher Apoorva)    
‘Haar Ki Jeet’!... a novella which revolves around characters like Baba Bharti and his beloved horse Sultaan and the Daku Khadag Singh whose greedy eyes are glued onto sultan, this novella ‘Haar Ki Jeet’ has the same place in Hindi literature as that classical compositions as of the likes of Munshi Premchand’s Idgah’ or Chandradhar Sharma ‘Guleri’s Usne Kaha Tha. But unfortunately unlike well-known writers like Munshi PremchandChandradhar Sharma ‘Guleri’ and many others; the common man does not know much about Pandit Sudarshan or his creations like those of ‘Haar Ki Jeet’. While the fact is that just like Munshi Premchand, Pandit Sudarshan had also changed courses from Urdu writing to Hindi writing. In fact another similarity between the two literary giants was that at one point in their careers they both had tried their hands at cinematic writing. The only difference being that while Munshi Premchand gave up on the charm and fascination of the cinematic world after his 1934 movie Mill Mazdoor, Pandit Sudarshan successfully and completely reigned over the magic that is movie making. Many a time fanatic historians of Hindi cinema are also baffled to learn that the song that marked the beginning of playback in Indian cinemas was penned by none other than Pandit Sudarshan himself. In a career spanning almost two decades, Pandit Sudarshan delivered numerous hit films and songs one after the other and then ultimately bid goodbye to the glitz and glamour of Bollywood to once again completely immersed himself into the literature world of writing.

Pandit Sudarshan with his wife  
                Born of a rich family on 1896 in Sialkot (now Pakistan) Pandit Sudarshan’s real name was Badrinath Sharma. The second child among one sister and four brothers, Badrinath was only 10-12 years old when both his parents passed away. In spite of all the struggles he faced, he managed to complete his B.A. from Sialkot and went on to Lahore in search of work.  Fond of writing since a very young age, he started writing for an Urdu magazine Hazaar Dastaan’ in Lahore. At the tender age of 20-21 he married a girl from Batala-Gurdaspur who was a metric pass out, a very big achievement for girls in those days.  In view of his increasing marital responsibilities, Pandit Sudarshan started his own Urdu newspaper which captured a big portion of the market fairly quickly. Resulting in growing envy and jealousy among his peers who used money as a pawn to hinder the newspaper supply before it could even reach its eager readers. Consequentially the situation deteriorated to such an extent that it could not be controlled again and Pandit Sudarshan was forced to leave Lahore behind. At the same time in 1920 his first Hindi story ‘Haar Ki Jeet’ which had appeared in Saraswati, a magazine published from Allahabad, gained much fame and was much appreciated by its readers.
              In a recent meeting with Pandit Sudarshan's daughter Smt. Prabha Ramdev Kanagat it was revealed that in 1932 Pandit Sudarshan and his family migrated to Kolkata. During those days in Kolkata there were many upcoming companies like ‘New Theatres’, ‘Madan Theatres’, ‘East India Film Co.’, ‘Pioneera Films’, ‘Barua Pictures’, ‘Radha Film Co., ‘Durga International Films’, B.I.Quality Films’‘Kali Films’ and ‘Bharat Laxmi Pictures’ which were continuously involved in making Hindi films. The era of Talkie films had just started and good writers were in big demand. And in no time Pandit Sudarshan was showered with work. ‘Ramayan’ was the debut film of his career which was screened in the year 1934. Produced under the banner of ‘Bharat Laxmi Pictures’ Master Nagardass Nayak was the music composer of this mythological film and the cast comprised of Prithviraj Kapoor, Vitthaldass Panchotia, Dadabhai Sarkari, Devbala, Indubala, Rajkumari Nayak and Shehzadi. Apart from writing the story, screenplay and dialogues Pandit Sudarshan also directed the film along with Prafull Roy. In 1935 Pandit Sudarshan scripted his next ‘Kunwai Ya Vidhwa’ which was screened under the banner of ‘Bharat Laxmi Pictures’ where Prafull Roy and Pandit Sudarshan once again teamed up for this directorial venture. Master Nagardass Nayak gave music for this film and the cast comprised of Abdulla Kabuli, Zarina Khatoon, Shehzadi, Master Fida Hussain, Indubala, Kamla, R.P.kapoor and Durlabhram.  After this Pandit Sudarshan and ‘Bharat Laxmi Pictures’ parted ways and he joined ‘New Theatres’.
Smt.Prabha Ramdev Kanagat
               
               ‘New Theatres’ was a well-known company in that period which was famous for making musical social dramas based on literary works. Famed personalities like Pankaj MallikRaichand Boral, Kundanlal Sehgal, Mijjan Kumar, Devki Bose, K.C.Dey, Ratanbai, Pahadi Sanyal, Premankur Atorthy, Umashashi, Nitin Bose, Prathamesh Barua and Kedar Sharma were its in house artists. At this time playback recording hadn’t been introduced and all the artists would sing live in front of the camera to record their songs. In 1935 ‘New Theatres’ introduced the technique of playback recording in their film ‘Dhoop Chhaon’ making it the first film in India to use playback. This song ‘mai khush hona chahoon khush ho na sakoon’ was composed by Raichand Boral and Parul Ghosh, Suprova Sarkar, Harimati and Chorus lend their voices for the same. All the 10 songs of the film ‘Dhoop Chhaon’ were composed by Raichand Boral and Pankaj Mallik and all these songs were penned by Pandit Sudarshan out of which two songs sung by K.C.Dey, ‘baba mann ki ankhein khol’ and ‘teri gathri me laga chor musafir jaag zara’ are just as famous and popular till date.
               Pandit Sudarshan’s next ‘Dhartimata’ was also produced under the banners of ‘New Theatres’. Released in the year 1938 this film was a big hit of its time. Pandit Sudarshan wrote all the nine songs of this film. Composed by Pankaj Mallik and sung by Sehgal, Umashashi and Pankaj Mallik, the film boosted of a impressive song collection including famous hits like ‘duniya rang-rangili baba’, ‘mai mann ki baat bataoon’, ‘kisne ye sab khel rachaaya’ and ‘ab mai kya karoon kit jaoon’. But in spite of giving hits like ‘Dhartimata’, Pandit Sudarshan had to leave Kolkata.        
  
                 According to Smt. Prabha Ramdev Kanagat, many people could not digest Pandit Sudarshan’s success and many intrigues were made against him. In the lurch he shifted his base from Kolkata to Mumbai along with his family and joined ‘Sagar Movietone’ where he got a change to write the story-screenplay of the film ‘Gramophone Singer’ which was screened in the year 1938. In 1940 he wrote six songs for Sagar Movietone’s ‘Kumkum The Dancer’ and the music for these songs was composed by ‘Timir Baran’

                In 1940 Pandit Sudarshan got the opportunity to work with music composer ‘Khemchand Prakash’ for Ranjit Movietone’s film ‘Diwali’, although some songs of the film were also penned by Dinanath madhok and Pyarelal Santoshi. Pandit Sudarshan got recognition while his stay in Kolkata, in Mumbai as well his social circle began to expand. Sohrab Modi, Producer-Director-Actor and owner of ‘Minerva Movietone’ was well recognized name in those days.  He was so taken in by Pandit Sudarshan’s body of work that when he decided to make the big budget Historical film ‘Sikandar’, he asked Pandit Sudarshan to write the story, screenplay, dialogues as well as handed him the responsibility to oversee all the research for the film. Released in 1941 the movie ‘Sikandar’ was a big hit and the music and the songs of the film became very popular amongst the people. There were total 7 songs in the film composed by Mir Sahib and Rafiq Gaznavi. The main leads of the film were Sohrab ModiPrithviraj Kapoor, Vanmala, K.N.Singh and Jillobai. This was actress Vanmala’s Hindi debut who had already started her career with a Marathi film ‘Lapandaav’ in 1940. In 1941 Pandit Sudarshan wrote all the 11 songs for the film ‘Padosi’ as well, which was directed by V.Shantaram under the banners of ‘Prabhat Film Co. Pune’. The music was composed by Master Krishna Rao. After the phenomenal success of ‘Sikandar’, Pandit Sudarshan scripted 3 more films for ‘Minerva Movietone’ called ‘Phir Milenge’ (1942), ‘Prithvi Vallabh’ (1943) and ‘Pattharon Ka Saudagar’ (1944). He also wrote songs for Central Studios’s ‘Parakh’ (1944), ‘Prafull Pictures’s  ‘Subhadra’ (1946), ‘Kuldeep Pictures Ltd.'s ‘Jaltarang’ (1949) and on producer M.Somasundaram's invitation he went on to Madras. He spent the next 2 years in Madras where he worked with M.Somasundaram’s company ‘Jupitar Pictures’. He enthralled the audiences with ‘Ek Tha Raja’ (1951) and ‘Rani’ (1952) after which he bid adieu to movies and returned to Mumbai. And just like that ‘Rani’ became his cinematic careers last film.


                Smt. Prabha Ramdev Kanagat says on Pandit Sudarshan’s return to Mumbai he devoted himself completely to literature. He put to paper many plays and his stories like ‘Sach Ka Sauda’, ‘Athanni Ka Chor’, ‘Cycle Ki Sawari’ and ‘Teerth Yatra’ received much acclaim like his ‘Haar Ki Jeet’. And the story goes that once Mahatma Gandhi especially invited him to Vardha and requested him to write books in Hindi to popularize the language and now as Pandit Sudarshan got time he obeyed Mahatma Gandhi’s wishes and did the same. And accordingly Pandit Sudarshan’s creation ‘Sabki Boli’ was included in the school syllabus and was taught in 4th standard for many years. This gifted author Pandit Sudarshan passed away at the age of 72 on 16th December 1967 in Mumbai.
               Pandit Sudarshan was survived by 4 sons and a daughter. His eldest Vidyabhushan Sharma was a Co-Director with Sohrab Modi and his younger son Shashibhushan earned fame as a writer on movies like Professor, Mohabbat Zindagi hai, Anamika, Pocketmaar, Jalmahal, Lawaris and Premgeet. Unfortunately his sons are no more. The lineage is carried forward by his daughter Prabha who is now 86 years old and stays at Mumbai’s Juhu-Versova Link Road with her son Ashok Kanagat. Ashok is an Ad-film maker.  

Ashok Kanagat with his wife and son
              Pandit Sudarshan might have passed away 45 years ago and his name might not be familiar to the new generation but his writing was inspirational and awe stirring to the extent that his name will always be taken among with the legends of Hindi Cinema and Indian literature.

Acknowledgements : Shri Harish Raghuvanshi (Surat), Shri Harmandir Singh ‘Hamraz’ (Kanpur), Shri D.B.Samant (Mumbai), Shri Gajendra Khanna (Banglore), Shri Ajay Kanagat (Banglore), Shri Ashok Kanagat (Mumbai), Shri S.M.M.Ausaja (Mumbai)  

Special thanks to Shri Prashant Kumar and Ms.Akhsher Apoorva who respectively 'helped to form the blog' and 'translated the write up from original Hindi to English'.  
...............................................................................................................
Few Links (stories and songs) :




athanni ka chor : 

teri gathri me laga chor : http://youtu.be/Wq8_L-fWG_k

baba mann ki ankhein khol : http://youtu.be/GhH0tj75FhM

duniya rang rangili baba : http://youtu.be/i1I0IbmHpmw

ab mai ka karoon : http://youtu.be/HVsmFeXDAWA

mai mann ki baat : http://youtu.be/rHs6rFwFun0

kisne ye sabb khel rachaya : http://youtu.be/6LOzsBjcDCI

sikandar dialogues : http://youtu.be/-Vc3Q3v6G1w

sawan ke din aaye re : http://youtu.be/TOZQR_STClU


utth jag jawani aati hai : http://youtu.be/fHQLiGif7eo



aaj aai sajanwa : http://youtu.be/21XuYVjAwYU



ye hai desh hamara : http://youtu.be/S5BYKFQWL0k



lo sawan ke din aayo re : http://youtu.be/M2sjVRRdc24



zindagi hai pyar se : http://youtu.be/94p7_NtWmm4
…..……………………………………………………………………
कलम केसिकंदर’ - पंडित सुदर्शन


..................शिशिर कृष्ण शर्मा

हार की जीत’!...बाबा भारती और उनके चहेते घोड़े सुल्तान पर लालची नज़रें गड़ाए बैठे डाकू खड़गसिंह के किरदारों के गिर्द घूमती कहानीहार की जीतका हिंदी साहित्य में वोही स्थान है जो मुंशी प्रेमचंद कीईदगाहऔर चन्द्रधर शर्मागुलेरीकीउसने कहा थाजैसी कालजयी रचनाओं का है। लेकिन अफ़सोस, कि मुंशी प्रेमचंद, चन्द्रधर शर्मा गुलेरी और उन जैसे कई अन्य कहानीकारों के विपरीतहार की जीतके रचनाकार पंडित सुदर्शन के बारे में आम पाठकों को ज़्यादा जानकारी नहीं है। दरअसल मुंशी प्रेमचंद की ही तरह पंडित सुदर्शन भी उर्दू से हिंदी लेखन की तरफ़ आए थे। इन दोनों साहित्यकारों में एक समानता ये भी थी कि दोनों ने ही सिनेमा के क्षेत्र में क़िस्मत आज़माने की कोशिश की थी। फर्क सिर्फ़ इतना है कि मुंशी प्रेमचंद को फ़िल्मी दुनिया रास नहीं आयी और 1934 में बनी फ़िल्ममिल मज़दूरलिखने के बाद वो वापस लौट गए तो वहीं दूसरी तरफ़ पंडित सुदर्शन हिंदी सिनेमा में धाक जमाने में पूरी तरह से कामयाब रहे। हिंदी सिनेमा के इतिहास में गहरी दिलचस्पी रखने वालों को भी शायद पता हो कि जिस गीत से फ़िल्मों में प्लेबैक की शुरूआत हुई थी वो पंडित सुदर्शन की ही कलम से निकला था। क़रीब दो दशकों के करियर के दौरान पंडित सुदर्शन ने एक से बढ़कर एक फ़िल्में और गीत लिखे और फिर चमक-दमक भरी फ़िल्मी दुनिया को अलविदा कहकर ख़ुद को पूरी तरह से साहित्य के प्रति समर्पित कर दिया था।  

साल 1896 में स्यालकोट (अब पाकिस्तान) के एक सम्पन्न परिवार में जन्मे पंडित सुदर्शन का असली नाम बद्रीनाथ शर्मा था। एक बेटी और चार बेटों के बीच माता-पिता की दूसरी संतान बद्रीनाथ महज़ 10-12 साल के थे जब उनके माता-पिता गुज़र गए थे। तमाम मुश्किलों के बीच उन्होंने स्यालकोट से बी.. किया और फिर काम की तलाश में लाहौर चले आए। लिखने का शौक़ बचपन से ही था इसलिए लाहौर से निकलने वाली उर्दू पत्रिकाहज़ार दास्तांमें लिखने लगे। 20-21 साल की उम्र में उनकी शादी हुई, पत्नी बटाला-गुरदासपुर से थीं और मैट्रिक पास थीं जो कि उस जमाने में लड़कियों के लिए बहुत बड़ी बात थी। शादी के बाद ज़िम्मेदारियां बढ़ीं तो उर्दू में अपना ख़ुद का अख़बार निकालना शुरू किया जिसने जल्द ही बाज़ार के एक बहुत बड़े हिस्से पर कब्ज़ा जमा लिया। ऐसे में ईर्ष्या-द्वेष और साज़िशों का दौर शुरू हो गया। पैसे के ज़ोर पर अख़बार को पाठकों तक पहुंचने से रोका जाने लगा। नतीजतन कुछ ही सालों में हालात बिगड़ने शुरू हुए तो फिर सम्भल ही नहीं पाए। मजबूरन पंडित सुदर्शन को लाहौर छोड़ देना पड़ा। उधर साल 1920 में इलाहाबाद से छपने वाली पत्रिकासरस्वतीमें उनकी लिखी पहली हिंदी कहानीहार की जीतप्रकाशित हुई थी जिसे पाठकों ने बेहद पसंद किया था।

पंडित सुदर्शन की बेटी श्रीमती प्रभा रामदेव कनागत ने हाल ही में हुई मुलाक़ात के दौरान बताया कि साल 1932 में पंडित सुदर्शन परिवार के साथ कोलकाता चले आए। कोलकाता में उन दिनोंन्यू थिएटर्स’, ‘माडन थिएटर्स’, ‘ईस्ट इंडिया फ़िल्म कंपनी’, ‘पायोनियर फ़िल्म्स’, ‘बरुआ पिक्चर्स’, ‘राधा फ़िल्म कंपनी’ ‘दुर्गा इंटरनेशनल फ़िल्म्स’, ‘बी.आई.क्वालिटी फ़िल्म्स’, ‘काली फ़िल्म्सऔरभारत लक्ष्मी पिक्चर्सजैसी कई छोटी-बड़ी कंपनियां लगातार हिंदी फ़िल्में बनाने में जुटी हुई थीं। टॉकी फिल्मों का वो शुरूआती दौर था और अच्छा लिखने वालों की ज़बर्दस्त मांग थी। ऐसे में पंडित सुदर्शन को काम मिलते देर नहीं लगी। उनके करियर की पहली फ़िल्मरामायणथी जो साल 1934 में प्रदर्शित हुई थी। भारत लक्ष्मी पिक्चर्सकी इस पौराणिक फ़िल्म के संगीतकार थे मास्टर नागरदास नायक और कलाकार थे पृथ्वीराज कपूर, विट्ठलदास पंचोटिया, दादाभाई सरकारी, देवबाला, इंदुबाला, राजकुमारी नायक और शहज़ादी। पंडित सुदर्शन ने कथा-पटकथा और संवाद लिखने के अलावा प्रफुल्ल रॉय के साथ मिलकर इस फ़िल्म का निर्देशन भी किया था। साल 1935 में भारत लक्ष्मी पिक्चर्सके बैनर में ही पंडित सुदर्शन की लिखी अगली फ़िल्मकुवांरी या विधवाप्रदर्शित हुई जिसका निर्देशन एक बार फिर से पंडित सुदर्शन और प्रफुल्ल रॉय की जोड़ी ने किया। इसके संगीतकार भी मास्टर नागरदास नायक और कलाकार अब्दुल्ला काबुली, ज़रीना ख़ातून, शहजादी, मास्टर फ़िदा हुसैन, इंदुबाला, कमला, आर.पी.कपूर और दुर्लभराम थे। इसके बाद पंडित सुदर्शन भारत लक्ष्मी पिक्चर्सछोड़कर न्यू थिएटर्समें चले गए।
 

न्यू थिएटर्सउस दौर की जानी-मानी कंपनी थी जो साहित्यिक कृतियों पर बनी संगीतमय और उत्कृष्ट सामाजिक फ़िल्मों के लिए जानी जाती थी। पंकज मल्लिक, रायचंद बोराल, कुंदनलाल सहगल, मिज्जन कुमार, देवकी बोस, के.सी.डे, रतनबाई, पहाड़ी सान्याल, प्रेमांकुर अटार्थी, उमा शशि, नितिन बोस, प्रथमेश बरुआ और केदार शर्मा जैसे दिग्गज इसी कंपनी में रहकर काम कर रहे थे। उस वक़्त तक प्लेबैक की शुरूआत नहीं हुई थी और कलाकारों को कैमरे के सामने ख़ुद ही गाना पड़ता था। भारत में प्लेबैक का पहली बार इस्तेमाल साल 1935 में बनीन्यू थिएटर्सकी फ़िल्मधूपछांवमें हुआ था। रायचंद बोराल द्वारा संगीतबद्ध वो एक समूहगीत था, ‘मैं ख़ुश होना चाहूं ख़ुश हो सकूंजिसे पारूल घोष, सुप्रोवा सरकार, हरिमति और साथियों ने गाया था। फ़िल्म धूपछांवकेरायचंद बोरालऔरपंकज मल्लिकद्वारा संगीतबद्ध किए सभी 10 गीत पंडित सुदर्शन ने लिखे थे जिनमें के.सी.डे के गाए दो गीतबाबा मन की आंखें खोलऔरतेरी गठरी में लागा चोर मुसाफ़िरआज भी उतने ही लोकप्रिय हैं। 
   

 पंडित सुदर्शन की अगली फ़िल्मधरतीमाताका निर्माण भी न्यू थिएटर्सके बैनर में हुआ था। साल 1938 में प्रदर्शित हुई ये फ़िल्म अपने वक़्त की बहुत बड़ी हिट साबित हुई। इस फ़िल्म के सभी 9 गीत पंडित सुदर्शन ने ही लिखे थे। पंकज मल्लिक द्वारा संगीतबद्ध किए और सहगल, उमाशशि और पंकज मल्लिक के गाए इन गीतों मेंदुनिया रंगरंगीली बाबा’, ‘मैं मन की बात बताऊं’, ‘किसने ये सब खेल रचायाऔरअब मैं का करूं कित जाऊंजैसे मशहूर गीत शामिल हैं। लेकिनधरतीमाताजैसी हिट फ़िल्म देने के बावजूद पंडित सुदर्शन को कोलकाता छोड़ना पड़ा।
 

श्रीमती प्रभा रामदेव कनागत के मुताबिक़ पंडित सुदर्शन की सफलता कुछ लोगों को रास नहीं आयी और उनके ख़िलाफ़ साज़िशें रची जाने लगीं। मजबूरन उन्हें कोलकाता छोड़कर परिवार सहित मुंबई चले आना पड़ा, जहां उन्हेंसागर मूवीटोनकी फ़िल्मग्रामोफ़ोन सिंगरकी कथा-पटकथा लिखने का मौक़ा मिला। ये फ़िल्म साल 1938 में प्रदर्शित हुई थी।सागर मूवीटोनकी ही 1940 में बनी फ़िल्मकुमकुम डांसरमें उन्होंने सभी 6 गीत लिखे जिन्हें संगीतकारतिमिर बरनने संगीतबद्ध किया था। 1940 में ही पंडित सुदर्शन कोरणजीत मूवीटोनकी फ़िल्मदीवालीमें संगीतकारखेमचंद प्रकाशके साथ काम करने का मौक़ा मिला, हालांकि उस फ़िल्म के कुछ गीत दीनानाथ मधोक और प्यारेलाल संतोषी ने भी लिखे थे।   
      

पंडित सुदर्शन की पहचान तो कोलकाता में रहते ही बन चुकी थी, मुंबई आने पर उनकी जान-पहचान का दायरा भी बढ़ने लगा था। निर्माता-निर्देशक-अभिनेता औरमिनर्वा मूवीटोनके मालिक सोहराब मोदी उस दौर का एक बड़ा नाम थे। पंडित सुदर्शन के लेखन से वो इतने प्रभावित थे कि जब उन्होंने भारी-भरकम बजट की ऐतिहासिक फ़िल्मसिकंदरबनाने का फ़ैसला किया तो उसकी कथा-पटकथा-संवाद और गीतों के अलावा तमाम रिसर्च की ज़िम्मेदारी भी पंडित सुदर्शन को सौंप दी। साल 1941 में बनी फ़िल्मसिकंदरबहुत बड़ी हिट साबित हुई। इस फ़िल्म का गीत-संगीत भी बेहद लोकप्रिय हुआ था। मीर साहब और रफ़ीक़ गज़नवी द्वारा संगीतबद्ध इस फ़िल्म में कुल सात गीत थे। मुख्य भूमिकाओं में थे सोहराब मोदी, पृथ्वीराज कपूर, वनमाला, के.एन.सिंह, और जिल्लोबाई। साल 1940 में मराठी फ़िल्मलपंडावसे करियर की शुरूआत करने वाली अभिनेत्री वनमाला की ये पहली हिंदी फ़िल्म थी। साल 1941 की ही, पुणे की प्रभात फ़िल्म कंपनीकी वी.शांताराम द्वारा निर्देशित हिट फ़िल्म पड़ोसी के भी सभी 11 गीत पंडित सुदर्शन ने ही लिखे थे, जिसके संगीतकार थे मास्टर कृष्ण राव। उधरसिकंदरकी कामयाबी के बाद पंडित सुदर्शन नेमिनर्वाकी 3 और फ़िल्मेंफिर मिलेंगे’ (1942) ‘पृथ्वीवल्लभ’ (1943) औरपत्थरों का सौदागर’ (1944) लिखीं। इसके अलावा उन्होंनेसेंट्रल स्टूडियोजकीपरख’ (1944), ‘प्रफुल्ल पिक्चर्सकीसुभद्रा’ (1946), ‘कुलदीप पिक्चर्स लिमिटेडकीजलतरंग” (1949) में भी गीत लिखे और फिर वो निर्माता एम.सोमसुंदरम के बुलावे पर मद्रास चले गए। क़रीब 2 साल मद्रास में रहकर उन्होंने एम.सोमसुंदरम की कंपनीजुपिटर पिक्चर्सकी दो फ़िल्मोंएक था राजा’ (1951) औररानी’ (1952) में अपनी कलम का जादू बिखेरा और फिर फ़िल्मों से हमेशा के लिए किनारा करके वापस मुंबई लौट आए। इस तरह सेरानीउनके करियर की आख़िरी फ़िल्म साबित हुई।
 

श्रीमती प्रभा रामदेव कनागत बताती हैं कि मुंबई लौटने के बाद पंडित सुदर्शन पूरी तरह से साहित्य साधना में जुट गए। उन्होंने कई नाटक लिखे औरहार की जीतके अलावा उनकी लिखीसच का सौदा’, ‘अठन्नी का चोर’, ‘साईकिल की सवारी’ और तीर्थयात्रा' जैसी कहानियां भी काफ़ी सराही गयीं। और जैसा कि एक बार महात्मा गांधी ने उन्हें ख़ासतौर से वर्धा बुलाकर कहा था कि आप हिंदी के प्रचार के लिए क़िताबें लिखिए तो समय मिलते ही उन्होंने महात्मा गांधी की आज्ञा का पालन भी किया। इस दिशा में पंडित सुदर्शन की लिखी क़िताबसबकी बोलीकई सालों तक चौथी कक्षा तक सभी स्कूलों में पढ़ाई जाती रही। कलम के धनी पंडित सुदर्शन का निधन 16 दिसम्बर 1967 को 72 साल की उम्र में मुंबई में हुआ।

4 बेटों और 1 बेटी के पिता पंडित सुदर्शन के बड़े बेटे विद्याभूषण शर्मा सोहराब मोदी के साथ बतौर सह-निर्देशक काम करते रहे तो छोटे बेटे शशिभूषण ने प्रोफ़ेसर, मोहब्बत ज़िंदगी है, अनामिका, पॉकेटमार, जलमहल, लावारिस और प्रेमगीत जैसी फ़िल्मों के लेखक के तौर पर नाम कमाया। उनके चारों बेटे अब इस दुनिया में नहीं हैं। सिर्फ़ एक बेटी हैं जो 86 साल की हो चुकी हैं और मुंबई के जुहू-वर्सोवा लिंक रोड पर अपने बेटे अशोक कनागत के साथ रहती हैं। अशोक विज्ञापन फिल्मों के निर्माता हैं।
 

पंडित सुदर्शन का देहांत हुए भले ही 45 साल गुजर चुके हों और भले ही उनका नाम आज की पीढ़ी के लिए अनजाना सा हो लेकिन उनकी लेखनी ऐसी चमत्कृत कर देने वाली थी कि सिनेमा और साहित्य की दुनिया में उनका नाम हमेशा अमर रहेगा।


आभार : श्री हरीश रघुवंशी (सूरत), श्री हरमंदिर सिंहहमराज़(कानपुर), श्री डी.बी.सामंत (मुंबई), श्री गजेन्द्र खन्ना (बंगलौर), श्री अजय कनागत (बंगलौर), श्री अशोक कनागत (मुंबई), श्री एस.एम.एम.औसजा (मुंबई)
श्री प्रशांत कुमार और सुश्री अक्षर अपूर्वा के हम विशेष रूप से आभारी हैं जिन्होंने क्रमश: ब्लॉग के निर्माणऔर मूल हिंदी आलेख के अंग्रेज़ी रूपांतरण के लिए समय दिया।  

…..……………………………………………………………………………………………

5 comments:

नीलम अंशु said...

बहुत-बहुत आभार शिशिर कृष्ण शर्मा जी। स्कूल में 'हार की जीत' पढ़ी थी, उस वक्त बालमन पर इसने गहरी छाप भी छोड़ी थी, परंतु अब लेखक का नाम स्मृतियों से धूमिल हो चुका था। पं. सुदर्शन जी पर इतनी विस्तृत जानकारियां पढ़कर सचमुच मन अभिभूत हो गया। हार की जीत को दुबारा पढ़ूंगी। तह-ए-दिल से पुन: आभार। - नीलम शर्मा 'अंशु'

shishir krishna sharma said...

धन्यवाद नीलमजी, कहानी 'हार की जीत' के दो लिंक (प्रकाशित और पठित) अंग्रेज़ी रूपांतरण के नी चे दिए गए हैं, कृपया देखें !!!

नीलम अंशु said...

जी शुक्रिया, मैंने उसी वक्त लगे हाथों वह कहानी पढ़ ली। और एक बार फिर से स्कूली दिनों की याद ताज़ा हो आई।

Unknown said...

I agree with you that ‘Haar Ki Jeet’ has the same place in Hindi literature as that of classics of Munshi Premchand’s ‘Idgah’ or Chandradhar Sharma ‘Guleri’s ‘Usne Kaha tha '' Its a paradox a writer of this stature has been forgotten, iam sure lovers of hindi literature/ goverments and intellectuals would make a note of this and undo the injustice done to this great writer. The translation from hindi to english was very good .

Unknown said...

Writers are the back bone of a film, [ woh reed ki hadi hote hain] without good writers its next to impossible to make good films. Its indeed strange a writer of the calibre of pandit sudarshan has been forgotten by the literary world as well as the film industry whera's lesser mortals have been given padmashiri's and padmabhushan's . Your painstaking research has highlighted his achievements and his journey from pakistan to calcutta and then to mumbai. Iam sure this article will triger a debate in film as well as literary circles about his talent and achievements. The translation from hindi to english by Akhsher Apoorva has been very appropriate. Iam sure you would be writing more articles about the golden era.[ Ajay kanagat bangalore]