Tuesday, June 4, 2013

‘Powerful Actor, Superfine Painter’ - Iftekhar



Powerful Actor, Superfine Painter’ - Iftekhar
                  ………..Shishir Krishna Sharma   
English translation edited by : Maitri Manthan
http://maitrimanthan.wordpress.com/
Posters provided by : Shri S.M.M.Ausaja 
Some of the important inputs by : Shri Harish Raghuwanshi (Surat)
                                                                        &
                                                       Shri Iqbal Rizvi (IBN7-N.Delhi) 

Sayyadana Iftekhar Ahmed Shareef ! ….A one of a kind actor is better known as Iftekhar. For cinema lovers this name is synonymous with Police Officer, a role he often played on the silver screen. However many may not be aware that Iftekhar was not only a wonderful singer and painter but he also played the leading man in a few of his initial films. Recently we met Iftekhar Saheb’s daughter Salma who spoke about her father in detail.

Originally from Jalandhar, Iftekhar’s father was working at a high ranking position in a company based in Kanpur. Eldest among 4 brothers and one sister, Iftekhar was born on 26th February 1922 in Jalandhar and brought up in Kanpur. After completing his matriculation he did a diploma course in painting from Lucknow College Of Arts. He had a passion for singing and was so impressed with Sehgal that he dreamt to become a singer of Sehgal’s stature. Since all the big music companies then were based in Kolkata, Iftekhar came down to the city at the age of 20.

kamal dasgupta
In those days, renowned composer Kamal Dasgupta was serving for HMV (Kolkata). He had already composed for Kolkata based “M.P.Production’s” 1942 release, “Jawaab”. The song “toofan mail…duniya ye duniya toofan mail” sung by Kanan Devi for the same film is famous till date. Iftekhar passed the audition taken by Kamal Dasgupta for HMV. The company released a private album featuring 2 songs sung by Iftekhar, who then returned to Kanpur. Few days later he received a telegram from “M.P.Production” in which he was asked to immediately return to Kolkata. Actually Kamal Dasgupta was so impressed with Iftekhar’s elite personality and sophisticated language that he recommended his name to “M.P.Production” and asked the banner to give Iftekhar the job of an actor. By then Iftekhar was already engaged with a girl named Sayeeda in Kanpur.

salma ji
On receiving the telegram he immediately left for Kolkata and joined the company. But for a long time no film featuring him could take off under the banner of “M.P.Production”. During that time in Kolkata, he fell in love with Hannah Joseph, a Jewish girl living in his building. He severed ties with Sayeeda and married Hannah. After marriage Hannah Joseph was rechristened as Rehana Ahmed.

Iftekhar’s debut film was 1944 releaseTaqraarwhich was made under the banner of Art Films-Kolkata. Heroine of this film was that time star actress Jamuna. The year 1945, saw two releases “Ghar” and “Rajlaxmi” with Jamuna and Kanan Devi in the main lead, respectively. “Rajlaxmi”, which was made under the banner of “M.P.Production”, was also Talat Mehmood’s debut movie of as a singer and actor. Iftekhar was then seen in the 1947 releases “Aisa kyon” and “Tum Aur Mai”. Meanwhile his elder daughter Salma was born in the year 1946 and the younger one, Sayeeda in 1947.

 Many of Iftekhar’s close relative including his parents and siblings migrated to Pakistan during partition. Iftekhar preferred to stay in India though due to riots he was forced to leave Kolkata. He, along with his wife and daughters came down to Mumbai in the year 1948 and stayed in Hotel Evergreen in Khar. Life had taken another turn and his struggle for survival began because it was very difficult to find work. Salma ji says, “We (me and my sister) were still very young and would often be without food. Ultimately our mother had to work as secretary to a gentleman named Mr. Patanwala to fulfill the basic household needs while dad continued with whatever small or big work he got but our financial conditions remained the same”.
his creation
While in Kolkata, Iftekhar was once introduced to Ashok Kumar by Kanan Devi. After reaching Mumbai, Iftekhar met Ashok Kumar at Bombay Talkies. Ashok Kumar not only recognized Iftekhar but also gave him an important role in “Bombay Talkie’s” 1950 release “Muqaddar”. Ashok Kumar later learnt painting from Iftekhar. 
snap shots by maitri manthan
Though he was senior to Iftekhar, Ashok Kumar always considered him as his painting “guru”. Iftekhar’s stature as painter can be seen in the paintings he especially made for the 1964 release “door gagan ki chhaon me”. These paintings appear in the background during the opening credits of the film.

All through 1950’ and 60’s Iftekhar played varied big and small characters in approximately 70 movies including “Sagai”, “Saaqi”, “Aabshaar”, “Aagosh”, “Biraj Bahu”, “Mirza Ghalib”, “Devdas”, “Shri 420”, “Samandari Daku”, “Ab Dilli Door Nahin”, “Dilli Ka Thug”, “Raagini”, “Bedard Zamana Kya Jaane”, “Kangan”, “Naachghar”, “Chhabili”, “Kalpana”, “Kanoon”, “Professor”, “Rangoli”, “Bandini”, “Meri Soorat Teri Ankhein”, “Door Gagan Ki Chhaon Me”, “Sangam”, “Shaheed”, “Phool Aur Patthar”, “Teesri Kasam”, “Teesri Manzil”, “Hamraz”, “Sangharsh”, “Aadmi Aur Insaan” and “Inteqaam” but recognition remained a distant dream. Life seemed like a never ending struggle. And then came, “Ittefaaq”.


ittefaq
Iftekhar played a cop in this “B.R.Films” 1969 release. Salma ji says, “The movie “Ittefaaq” changed our lives completely. The cop’s uniform suited daddy’s personality so well, that he instantly became a very busy man. He soon bought his own flat in Khar. The credit of all this goes to Ashok Kumar uncle on whose recommendation daddy was given an entry into “B.R.Films”. Prior to “Ittefaaq”, he had worked in “Kanoon”, “Hamraz” and “Aadmi Aur Insaan” made under the same banner. By then I had already left Mumbai due to my marriage”.

Salma ji got married in the year 1964 to Dehradoon based Mr. Vipin Chandra Jain who belonged to a very rich family. His grandfather, renowned entrepreneur Raibahadur Ugrasen Jain was a former chairman of Dehradoon Municipal Corporation. Vipin Chandra Jain had come to Mumbai to join Hindi movies as an actor. It was a love marriage and Salma ji shifted to Dehradoon with her husband. She spent 15 years in Dehradoon where she taught English in a college. Meanwhile she gave birth to a son and daughter but in 1979 she had to come back to Mumbai due to some household problems. For the next 20 years she worked for producer N.C.Sippi as his secretary and manager.

1970’s and 80’s were the busiest decades in Iftekhar’s career. During this period he acted in hundreds of movies like “Sharmili”, “Mehboob Ki Mehndi”, “Gambler”, “Kal Aaj Aur Kal”, “Hare Rama Hare Krishna”, “Jawani Deewani”, “Achanak”, “Zanjeer”, “Majboor”, “Deewar”, “Dharmatma”, “Sholey”, “Kabhi Kabhi”, “Dulhan Wohi Jo Piya Mann Bhaaye”, “Don”, “Trishool”, “Noorie”, “Kaala Patthar”, “Karz”, “Dostana”, “Rocky”, “Saath Saath”, “Rajpoot”, “Sadma”, “Inqalaab”, “Jageer”, “Tawaif”, “Angaare” and “Awaam”. He approximately acted in 300 movies in his career spanning 5 decades. “Bekhudi” (1992) and “Kaala Coat” (1993) are among the last films.

Salma ji says, “Even though all our close family members shifted to Pakistan, we remained in touch. My eldest chachaji, (late) Mr.Imtiaz Ahmed was a famous actor on Pakistan T.V. and was honored with the National Award by Pakistan Government. Second chacha, Mushtaq Ahmed was a pilot with Pakistan International Airlines and is now settled in the US. Daddy’s step brother and the youngest Iqbal Ahmed chacha, and his wife are doctors and they also reside in the US. Daddy’s only sister Shamim aunty lived in Karachi but she is no more now. During one of my Pakistan journey I met Sayeeda in Rawalpindi, the same girl who was once engaged to daddy in Kanpur. I still remember the warmth with which she met me. It was really heartbreaking to know that she had decided to remain unmarried forever. Yes, she never married”.

Iftekhar’s younger daughter Sayeeda’s husband M.I.Sheikh lives in Juhu-Mumbai. He was a manager with CEAT tyres. They have two kids. In the late 80s Sayeeda was detected with cancer. She bravely fought with the ailment for 5 years but lost the battle on 7th February 1995. It was really hard for Iftekhar to cope with daughter’s demise and it started affecting his own health. He was diabetic and his condition was going from bad to worse. He was admitted in the “Suchak Hospital” in Malad (East) but his condition kept on deteriorating and he passed away on 1st March 1995, exactly 24 days after his daughter’s death.

We met Salma ji on 15th April 2013 at her Seven Bungalows residence. Mr. Gajendra Verma, a renowned and very senior theatre person from Dehradoon accompanied me for this meeting. Salma ji’s daughter is married and settled in London. Salma ji’s son Vishal Jain resides in Mumbai but he was out of town that day. Salma ji introduced us to her mother Smt. Rehana Ahmed (Hanna Joseph). At 90 years she was not keeping too well. Recently Salma ji informed us that her mom passed away on the 27th May.


salma ji with her mother
Team “Beete Hue Din” pays heartfelt homage to (Late) Smt. Rehana Ahmed w/o (Late) Iftekhar’s on her sad demise!!!



Acknowledgements : We are thankful to Shri Harmandir Singh ‘Hamraz’, Shri Harish Raghuvanshi, Shri Biren Kothari,  Ms. Aksher Apoorva  and Shri S.M.M.Ausaja for their valuable suggestions, guidance and help.
Special thanks to Maitri Manthan for the editing of English translation.
..........................................................................................


Few links :
duniya ye duniya toofan mail/jawaab/1941

title song/door gagan ki chhaon mein/1964
http://youtu.be/BUstUNSEvdU .......................................................................................... 
दमदार अभिनेता, बेहतरीन चित्रकार’ – इफ़्तेख़ार
                    ...............शिशिर कृष्ण शर्मा


सैयदाना इफ़्तेख़ार अहमद शरीफ़ !...एक बेमिसाल अभिनेता जिन्हें हम इफ़्तेख़ार के नाम से जानते हैं। इस नाम का ज़िक्र होते ही हमारे जहन में सिनेमा के परदे पर नज़र आने वाले एक पुलिस ऑफ़िसर की छवि उभरती है। लेकिन आम दर्शक शायद इस बात से वाक़िफ़ नहीं हैं कि वोही इफ़्तेख़ार सिर्फ़ एक बेहतरीन गायक और चित्रकार थे, बल्कि अभिनय के शुरूआती दौर में कुछ फ़िल्मों में बतौर हीरो भी नज़र आए थे। हाल ही में हमारी मुलाक़ात इफ़्तेख़ार साहब की बेटी सलमा से हुई और उस मुलाक़ात के दौरान सलमा जी ने अपने पिता के बारे में हमारे साथ विस्तार से बातचीत की।

मूलत: जालंधर के रहने वाले इफ़्तेख़ार के पिता कानपुर में एक कंपनी में ऊंचे ओहदे पर थे। चार भाई और एक बहन में सबसे बड़े इफ़्तेख़ार का जन्म 26 फ़रवरी 1922 को जालंधर में हुआ था लेकिन उनका बचपन कानपुर में गुज़रा। मैट्रिक के बाद उन्होंने लखनऊ कॉलेज ऑफ़ आर्ट्स से चित्रकला में डिप्लोमा लिया। गाने का उन्हें बेहद शौक़ था। वो सहगल के दीवाने थे और उन्हीं जैसा मशहूर गायक बनना चाहते थे। चूंकि उस ज़माने में तमाम बड़ी म्यूज़िक कंपनियां कोलकाता में थीं इसलिए क़रीब 20 साल की उम्र में इफ़्तेख़ार कोलकाता चले आए।


उस दौर के मशहूर संगीतकार कमल दासगुप्ता एच.एम.वी. (कोलकाता) में नौकरी करते थे। कोलकाता केएम.पी.प्रोडक्शनकी साल 1942 में बनी हिट फ़िल्मजवाबका संगीत कमल दासगुप्ता ने ही तैयार किया था। उस फ़िल्म का, काननदेवी का गाया गीततूफ़ानमेल...दुनिया ये दुनिया तूफ़ान मेलआज भी उतना ही लोकप्रिय है। कमल दासगुप्ता ने एच.एम.वी.कंपनी में इफ़्तेख़ार का ऑडिशन लिया। एच.एम.वी. ने इफ़्तेख़ार के गाए दो गीतों का एक प्राईवेट अलबम जारी किया, जिसके बाद वो वापस कानपुर लौट गए। लेकिन कुछ ही दिनों बाद उन्हेंएम.पी,प्रोडक्शनकी तरफ़ से एक टेलिग्राम मिला जिसमें उनसे तुरंत कोलकाता आने को कहा गया था। दरअसल इफ़्तेख़ार के बेहद संभ्रांत व्यक्तित्व और साफ़ ज़ुबान से कमल दासगुप्ता इतने प्रभावित हुए, कि उन्होंनेएम.पी.प्रोडक्शनसे इफ़्तेख़ार को बतौर अभिनेता नौकरी देने की सिफ़ारिश कर डाली थी।


कानपुर में सईदा नाम की लड़की के साथ इफ़्तेख़ार का रिश्ता तय हो चुका था। एम.पी.प्रोडक्शनसे बुलावा आया तो वो कोलकाता आकर कंपनी में नौकरी करने लगे थे। लेकिनएम.पी.प्रोडक्शनके बैनर में लंबे समय तक इफ़्तेख़ार की फ़िल्म शुरू ही नहीं हो पाई। उसी दौरान कोलकाता में अपनी ही बिल्डिंग में रहने वाली यहूदी लड़की हना जोसेफ़ से उन्हें इश्क़ हो गया और सईदा के साथ हुआ रिश्ता तोड़कर इफ़्तेख़ार ने हना से शादी कर ली। शादी के बाद हना जोसेफ को नया नाम मिला, रेहाना अहमद।


इफ़्तेख़ार की पहली फ़िल्मआर्ट फ़िल्म्स-कोलकाताके बैनर में बनीतक़रारथी जो साल 1944 में रिलीज़ हुई थी। इस फ़िल्म की नायिका उस जमाने की स्टार अभिनेत्री जमुना थीं। साल 1945 में इफ़्तेख़ार की दो फ़िल्मेंघरऔरराजलक्ष्मीरिलीज़ हुईं।घरकी नायिका जमुना औरराजलक्ष्मीकी नायिका कानन देवी थीं। एम.पी.प्रोडक्शनके बैनर में बनी फ़िल्मराजलक्ष्मीसे ही तलत महमूद ने भी बतौर गायक और अभिनेता अपना करियर शुरू किया था। साल 1947 में इफ़्तेख़ारऐसा क्योंऔरतुम और मैंफ़िल्मों में नज़र आए। उसी दौरान साल 1946 में उनकी बड़ी बेटी सलमा का जन्म हुआ और 1947 में उनकी पत्नी ने छोटी बेटी को जन्म दिया, जिसका नाम सईदा रखा गया।


बंटवारे के दौरान इफ़्तेख़ार के माता-पिता, भाई-बहन सहित सभी क़रीबी रिश्तेदार पाकिस्तान चले गए। इफ़्तेख़ार ने भारत में ही रहना बेहतर समझा, हालांकि दंगे-फ़साद की वजह से उन्हें कोलकाता छोड़ना पड़ा। साल 1948 में वो पत्नी और दोनों बेटियों को साथ लेकर मुंबई चले आए और खार स्थित एवरग्रीन होटल को उन्होंने अपना ठिकाना बना लिया। संघर्ष का दौर एक बार फिर से शुरू हुआ।  लेकिन काम मिलना आसान नहीं था। सलमा जी कहती हैं, “हम दोनों बहनें बहुत छोटी थीं और अक्सर हमारे खाने तक के लिए घर में कुछ नहीं होता था। घर की बुनियादी ज़रूरतों को पूरा करने के लिए मम्मी को किन्हीं मिस्टर पाटनवाला के ऑफ़िस में सेक्रेट्री की नौकरी करनी पड़ी। उधर छोटा-मोटा जैसा भी काम मिलता रहा डैडी करते रहे। लेकिन हमारे माली हालात में कोई बदलाव नहीं आया


कोलकाता में एक बार कानन देवी ने इफ़्तेख़ार का परिचय अशोक कुमार से कराया था। मुंबई आने पर इफ़्तेख़ारबॉम्बे टॉकीज़में अशोक कुमार से मिले। अशोक कुमार ने सिर्फ़ इफ़्तेख़ार को पहचाना बल्कि साल 1950 में बनी बॉम्बे टॉकीज़ की फ़िल्ममुक़द्दरमें उन्हें एक अहम भूमिका भी दी। आगे चलकर अशोक कुमार ने इफ़्तेख़ार से पेंटिंग भी सीखी और उम्र में उनसे काफ़ी बड़ा होने के बावजूद वो इफ़्तेख़ार को हमेशा पेंटिंग का अपना गुरू मानते रहे। इफ़्तेख़ार कितने बेहतरीन चित्रकार थे, इसका पता उन पेंटिंग्स से चलता है जो उन्होंने ख़ासतौर से फ़िल्मदूर गगन की छांव मेंके शीर्षक गीत की बैकग्राऊंड के लिए बनाई थीं।


1950 और 60 के दशकों में इफ़्तेख़ार नेसगाई” “साक़ी”, “आबशार”, “आगोश”, “बिराज बहू”, “मिर्ज़ा ग़ालिब”, “देवदास”, “श्री 420”, “समंदरी डाकू”, “अब दिल्ली दूर नहीं”, “दिल्ली का ठग”, “रागिनी”, “बेदर्द ज़माना क्या जाने”, “कंगन”, “नाचघर”, “छबीली”, “कल्पना”, “कानून”, “प्रोफेसर”, “रंगोली”, “बंदिनी”, “मेरी सूरत तेरी आंखें”, “दूर गगन की छांव में”, “संगम”, “शहीद”, “फूल और पत्थर”, “तीसरी क़सम”, “तीसरी मंज़िल”, “हमराज़”, “संघर्ष”, “आदमी और इंसानऔरइंतकामजैसी क़रीब 70 फ़िल्मों में छोटी-बड़ी सभी तरह की भूमिकाएं कीं लेकिन उनकी कोई ख़ास पहचान नहीं बन पायी। संघर्ष बदस्तूर जारी रहा। और फिर आयी फ़िल्मइत्तेफ़ाक़



साल 1969 में बनीबी.आर.फ़िल्म्सकी फ़िल्मइत्तेफ़ाक़में इफ़्तेख़ार पुलिस इंस्पेक्टर की अहम भूमिका में नज़र आए थे। सलमा जी कहती हैंफ़िल्मइत्तेफ़ाक़ने हमारी ज़िंदगी ही बदल डाली। पुलिस की वर्दी डैडी पर इतनी जमी कि उसके बाद उन्हें काम की कमी नहीं रही। बहुत जल्द उन्होंने ख़ार में अपना फ़्लैट भी ख़रीद लिया। इसका श्रेय मैं अशोक कुमार अंकल को देना चाहूंगी जिनकी सिफ़ारिश पर डैडी कोबी.आर.फ़िल्म्समें एंट्री मिली थी औरइत्तेफ़ाक़से पहले वो उस बैनर कीकानून”, “हमराज़औरआदमी और इंसानजैसी फ़िल्मों में भी काम कर चुके थे। हालांकि मैं तब तक शादी करके मुंबई छोड़ चुकी थी


सलमा जी की शादी साल 1964 में देहरादून के एक रईस ख़ानदान से ताल्लुक़ रखने वाले विपिनचन्द्र जैन से हुई थी। विपिनचन्द्र जैन एक्टर बनने मुंबई आए थे और सलमा जी से उनका ये प्रेमविवाह था। विपिनचन्द्र जैन के दादा रायबहादुर उग्रसेन जैन देहरादून के मशहूर कारोबारी थे जो नगरपालिका के चेयरमैन भी रह चुके थे। शादी के बाद सलमा जी पति के साथ देहरादून चली गयीं। क़रीब 15 साल उन्होंने देहरादून में गुज़ारे जहां वो एक कॉलेज में अंग्रेज़ी पढ़ाती थीं। उस दौरान उन्होंने एक बेटे और एक बेटी को जन्म दिया लेकिन कुछ ख़ास घरेलू वजहों से उन्हें साल 1979 में वापस मुंबई लौट आना पड़ा। फिर क़रीब 20 सालों तक उन्होंने सेक्रेट्री और मैनेजर के तौर पर निर्माता एन.सी.सिप्पी का ऑफ़िस संभाला।


उधर इफ़्तेख़ार के लिए 1970 और 80 के दशक बेहद व्यस्तताओं भरे रहे। कामयाबी के उस दौर में उन्होंनेशर्मीली”, “महबूब की मेहंदी”, “गैंबलर”, “कल आज और कल”, “हरे रामा हरे कृष्णा”, “जवानी दीवानी”, “अचानक”, “ज़ंजीर”, “मजबूर”, “दीवार”, “धर्मात्मा”, “शोले”, “कभी कभी”, “दुल्हन वोही जो पिया मन भाए”, “डॉन”, “त्रिशूल”, “नूरी”, “काला पत्थर”, “कर्ज़”, “दोस्ताना”, “रॉकी”, “साथ साथ”, “राजपूत”, “सदमा”, “इंक़लाब”, “जागीर”, “तवायफ़”, “अंगारेऔरआवामजैसी कई फ़िल्मों में अभिनय किया। 50 साल के अपने करियर के दौरान उन्होंने क़रीब 300 फ़िल्मों में अभिनय किया औरबेख़ुदी” (1992) औरकाला कोट” (1993) उनकी आख़िरी फ़िल्मों में से थीं।  


सलमा जी बताती हैं, “परिवार के तमाम सदस्यों के पाकिस्तान चले जाने के बाद भी उनके साथ हमारा संपर्क बना रहा। मेरे बड़े चाचा (स्वर्गीय) इम्तियाज़ अहमद पाकिस्तान टीवी के मशहूर अभिनेता थे और उन्हें पाकिस्तान सरकार ने नेशनल अवॉर्ड से नवाज़ा था। उनसे छोटे मुश्ताक अहमद पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाईंस में पायलट थे और अब वो अमेरिका में रहते हैं। इकलौती बुआ शमीम कराची में रहती थीं लेकिन अब वो ज़िंदा नहीं हैं। डैडी के सौतेले भाई और सबसे छोटे इक़बाल अहमद चाचा और उनकी पत्नी डॉक्टर हैं और वो भी अमेरिका में रहते हैं। पाकिस्तान की यात्रा के दौरान एक बार रावलपिंडी में मेरी मुलाक़ात उन सईदा से भी हुई थी जिनका रिश्ता कानपुर में डैडी के साथ हुआ था। वो मुझसे बेहद गर्मजोशी से मिलीं। तब मुझे पता चला कि उन्होंने ज़िंदगी भर शादी ही नहीं की


इफ़्तेख़ार की छोटी बेटी सईदा के पति एम.आई.शेख जुहू-मुंबई में रहते हैं। वो सिएट टायर्स में मैनेजर के ओहदे पर थे और सईदा से उनके दो बच्चे हैं। एक रोज़ पता चला कि सईदा को कैंसर है। क़रीब 5 सालों तक वो अपनी बीमारी से लड़ती रहीं। और फिर 7 फ़रवरी 1995 को वो अपनी लड़ाई हार गयीं। बेटी की मौत के सदमे को इफ़्तेख़ार बर्दाश्त नहीं कर पाए और अचानक ही उनकी डायबिटीज़ बहुत ज़्यादा बढ़ गयी। उन्हें मुंबई के उपनगर मालाड (पूर्व) स्थितसूचक अस्पतालमें भरती कराया गया लेकिन उनकी हालत बिगड़ती चली गयी। आख़िरकार बेटी की मौत के महज़ 24 दिनों बाद, 1 मार्च 1995 को इफ़्तेख़ार भी चल बसे।


सलमा जी से हमारी मुलाक़ात 15 अप्रैल 2013 की शाम अंधेरी (पश्चिम) के सात बंगला इलाक़े में स्थित उनके फ़्लैट पर हुई थी। उस मुलाक़ात के दौरान हमारे साथ देहरादून के वरिष्ठ रंगकर्मी गजेन्द्र वर्मा भी मौजूद थे जो उन दिनों निजी काम के सिलसिले में मुंबई आए हुए थे। सलमा जी ने बताया कि उनकी बेटी की शादी हो चुकी है और वो लंदन में रहती हैं। उनके बेटे विशाल जैन मुंबई में रहते हैं लेकिन उन दिनों वो पारिवारिक काम के सिलसिले में देहरादून में थे। सलमा जी ने हमें अपनी अम्मी श्रीमती हना जोसेफ उर्फ़ रेहाना अहमद से भी मिलवाया। 90 साल की श्रीमती रेहाना अहमद उन दिनों बेहद बीमार चल रही थीं।


हाल ही में सलमा जी ने हमें फ़ोन करके बेहद दुखद सूचना दी कि बीते 27 मई को उनकी अम्मी का इंतकाल हो गया है।  स्वर्गीय श्री इफ़्तेख़ार की पत्नी (स्वर्गीया) श्रीमती रेहाना अहमद (हना जोसेफ) को टीमबीते हुए दिनकी ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि !!!
आभार : बहुमूल्य मार्गदर्शन और सहायता के लिए हम श्री हरमंदिर सिंह हमराज़’, श्री हरीश रघुवंशी, श्री बिरेन कोठारी,  सुश्री अक्षर अपूर्वा और श्री एस.एम.एम.औसजा के आभारी हैं।
अंग्रेज़ी अनुवाद के संपादन हेतु हम मैत्रीमंथन के विशेष रूप से आभारी हैं।
..........................................................................................             

7 comments:

  1. Very rare information. Some of them was never known. Thanx for this.

    ReplyDelete
  2. Lekh bahut sundar ban padaa hai. Bahut si jaankaari mili. Iftekhar Sahab aur Jagdish Raj - Ye dono kabhi bhi police officer ke roop mein acting karte naheen deekhe, ekdam Naisargik abhinay hotaa thaa unka. Aawaz to maano police officer ke liye hi banee thee Iftekhar sahab ki. Bahut hi badhiya lagaa yeh lekh. Mujhe afsos hota hai ki jis samay unki mrityu hui, main filmi duniya ke halchal se apne aapko ekdam kaat chukaa thaa........pataa hi naheen chal paayaa thaa. Dukh ki baat ki Mrs. bhi chal baseen. Bhagwaan un dono ki aatmaa ko jannat bakshe. Thank you Shishir Krishna Sharma bhai, itna badhiya lekh dene ke liye.

    ReplyDelete
  3. Just stumbled upon this blog,was bowled over by all the detailed information. Great job.

    ReplyDelete
  4. Wow !! Such a detailed and informative article ..

    ReplyDelete
  5. I heard that actor Iftekhar was the elder brother of actress Veena ( Toujour Sultana ) who played the role of Nawab Jaan in the film Pakeezah ... Is this information correct ?

    ReplyDelete
  6. What an exquisite area ! it's clean and recent wanting. I particularly love the colors and also the mirrors. One will ne'er have too several mirrors in an exceedingly home Please visit Shop Online

    ReplyDelete
  7. Salma jee aajkal dehradun mai hai. achanak vo bimar ho gai tee ab teek hai aaj hee vo Basera house mai ahi hai unki dost Smt. Shakuntal Singh Kai Ghar Baser House Mohabewal Dehradun mai phale sai kuch achi tabiyat hai.

    ReplyDelete