Wednesday, May 13, 2015

“Pehle To Ho Gai Namaste Namaste” – Mohana

Pehle To Ho Gai Namaste Namaste” 
                                            – Mohana 
               
          ...........Shishir Krishna Sharma

Translated from original Hindi to English by : 
                                        Ms. Aksher Apoorva
Posters & photos provided by : 
                                        Shri S.M.M.Ausaja

picture courtesy : 'LIFE'
Goa’s Konkani speaking artistes have always had a close association with Hindi cinema. From star Sudhabala (Ermeline Cardoze) of the silent era of cinema to star actresses Minaxi Shirodkar, Jayshri Shantaram, Varsha Usgaonkar, actor Sachin, directors N.Chandra, Dinesh  Bhonsle, singers Lata, Asha, Hema Sardesai, Remo Fernandez, composers & arrangers N.Datta, Dattaram, Chic Chocolate, Anthony Gonsalves, film editors D.N.Pai, Bhanudas Divkar, Waman Bhonsle, Virendra Gharse and art directors Ratnakar Phadke, V.R.Karekar, Sushant Tari and many more such artistes & technicians have had roots that belong to Goa. Of these artistes there was one more well-known actress & dancer Mohana, who entered Hindi films towards the end of the 1940 decade. In a short career of 10 years, Mohana was seen acting and dancing in almost 2 dozen films and then she bid adieu to not only films but also to India.

ophilia
The yearning to learn more about Mohana came about when out of the blue I saw some very beautiful photographs of her online from a photo-shoot done for LIFE magazine. I ventured out to learn more about her but the exercise seemed futile as there was not much that I could learn about her and whatever information I did receive was not completely reliable. But this much was sure that Mohana was not with us anymore. It is a known fact among our readers that the interviews & write-ups published by Beete Hue Dinare based on one-on-one interviews with the celebrity and / or their kin and since we couldn’t even find any close acquaintances of Mohana, we had to drop this write-up. But then one day, suddenly without any effort, we came to know Mohana’s sisters whereabouts.

ophilia & mohna 
The story goes that in November, 2014, the International Film Festival of IndiaIFFI was organised in Goa. The event’s art director, Sushant Tari wanted to pay a tribute to the long forgotten artists from the early era of Indian cinema. On his request I provided him with pictures and short write-ups of about 3 dozen prominent artists and technicians all from the silent era of cinema to the golden era of Hindi cinema which were displayed at the IFFI venue.
'IFFI' 2014 - GOA
 

mohana & ophilia with their parents,
younger brother, cousin sister &
mohana's son Mark (sitting)
Also, the artists hailing from Goa were kept in a separate category and the responsibility for the same fell mainly on my close friend Dinesh  Bhonsle, who is from Goa itself and also is the director of the awarded Marathi Movie Marmbandh’, Hindi film ‘Calapore and upcoming Konkani film Enemy. During the course of this event, Dinesh met with Mohana’s sister Ophilia and then through him I met Ophilia as well. On the eve of 9th March 2015 when I met with Ophilia at her house, through our conversations, I received a lot of information about Mohana.

The eldest of 2 sisters and 2 brothers Mohana was born on 3rd February, 1929 to a Christian family in Goa’s Socorro-Porvorim. Her given name was Mona Blasia Cabral. Mohana’s father Robert Cabral had a job in Srilanka but in the second half of 1930’s decade he came back to Goa. At that time he got a job at Hindustan Construction Company as a cashier and so along with his wife Lina and the kids, he came to Mumbai. Mohana’s formative education was done in Porvorim and Mumbai. After a while she was sent to a boarding school in Pune where she completed her school education and got a job as a telephone operator in a telephone company. Essentially the job became a route to films for Mohana.

Ophilia recalls, “There was no direct telephone service in those days like what we have presently. The desired number would be connected by the Telephone operator. As such Mohana would keep coming in contact with the prominent personalities of the time including film personalities. Because of her job, Mohana had become good friends with actresses Begumpara, Nargis & producer/director Protima Dasgupta. She was given her break in the film Sawan Aya Re by producer-director-actor Kishore Sahu. The film saw her new identity emerging and her name Mona was changed to her screen name ‘Mohana’.”

picture courtesy : 'LIFE'
Film Sawan Aya Re was made in 1949 which was, according to Ophilia, Mohana’s first film. But Mohana was first seen onscreen with actor Vishwa Mehra in 1948 in a song raat ko ji chamke taare from R.K. banner’s first film ‘Aag– although, her name is not there in the film credits. It seems that she signed for film ‘Aag after the film Sawan Aya Re but the film was released before her debut film.

sansar
AfterAag and Sawan Aya Re, for the next decade, Mohana did films like Char Din’, ‘Kamal’, ‘Patanga’, 'Rimjhim' (all 1949), ‘Ada’, ‘Nadan’, ‘Sagai’, ‘Sansar’ (all 1951), ‘Chham Chhama Chham’, ‘Nazaria’, ‘Saqi’, ‘Saloni’ (all 1952), ‘Shole’ (1953), ‘Danka’, ‘Dost’, ‘Shart’ (1954), ‘Insaniyat’, ‘Marine Drive’, ‘Sau Ka Note’, ‘Teerandaz’ (all 1955), ‘Suvarn Sundariand Baghi Sipahi’ (1958) where she did comic and villainous roles and she also danced on many hit songs (see the youtube links below) and then she got married and left not only the film industry but India as well.

{As per the information and links provided by Shri Gajendra Khanna of 'anmolfankaar.com', Mohana also sang 2 songs for the movie 'Rimjhim' (1949), thanks to Shri Gajendra Khanna. (Please see the links below).

Mohana was married twice. Her first marriage took place in 1951 in a very dramatic fashion. She was rehearsing for a song for the film ‘Sansar’ in a rehearsal room of Mumbai’s famous Ambassador Hotel. There was a young English man who was staying in a room directly opposite to the Rehearsal room. That young man was very upset because of the constant racket made by the rehearsal. After 3-4 days when his tolerance levels reached their peak he, in a fit of anger, went straight to the rehearsal room. But the second he saw Mohana his anger vanished into thin air and he apologised and went back to his room. Mohana’s beauty had enchanted him. That young man was Edward Dawning, a pilot in the Indian Royal Air Force. He became friends with Mohana, both fell in love and very soon they were married. Mohana and Edward had a son who they named Mark. But after merely 1 – 1½ years of marriage Edward died in an air crash at the Kolkata airport.

saqi
Ophilia tells us, “In June 1952, Mohana ventured into Konkani theatre with C. Alvares under his banner ‘Alvares Production’ with the play Kortub Avoichem and very soon she became a star actress of the Konkani stage. She was a steady heroine for the plays of Alvares Production. Mohana was a good singer as well. Konkani songs sung by her were regularly played on air on Akashwani Panjim and there were even records made on her songs.”

During the mid 1950’s, Mohana’s second marriage took place with the general manager of Hindustan Leavers Company, John DeFrates. The company had an objection on his union with an Indian woman and so John resigned from Hindustan Leavers and took a job with United Nations. According to Ophelia Mohana left the film industry for good after the 1955 film ‘Insaniyat’, however, according to her filmography she was seen in two more films ‘Suvarn Sundari’ and ‘Baghi Sipahi’ in 1958.

In the second half of the 1950’s decade John DeFrates was posted in Beirut and Mohana went with him. Mohana had a daughter ‘Clare’ with John. While in Beirut Mohana learnt Arabic and acted in some Arabic plays for Beirut T.V. In 1957 Mohana was also seen in an episode of the famous T.V. show To Tell the Truth. Ophilia says, “Mohana was very attached to India. She would visit every 1 - 2 years. She was always attached with Konkani plays.”

ophilia
After almost 25 years in Beirut, John DeFrates was posted to Vienna-Austria. In 1986, after retirement, John DeFrates’s with wife Mohana and their Daughter settled in France where on 11th September, 1990 Mohana passed away because of a heart attack. She was just 61 years old at the time.

Mohana’s husband John DeFrates passed away on 12th September 1998 in Montelimar, France. Mohana’s son Mark from her first husband lives in California, America and is a big jewellery entrepreneur. Her daughter Clare, from her second marriage, is married and lives in France.

ophilia & bob peter with their daughter
9 years younger, Mohana’s sister Ophilia D’souza and her husband Bob Peter were very big stars of Konkani theatre. Bob was not only an actor but was also a singer, composer and writer. He wrote many Konkani plays. Famous as the ‘Tragedy Queen’, Ophilia was also a very good singer along with being a great actor. Just like Mohana, Ophilia’s Konkani songs were also regularly played on Akashwani. Ophilia was active on Konkani stage from 1954 to 1997. In 43 years, Ophilia acted in almost 300 plays and then because of age and health issues she said farewell to the stage.


Ophilia’s husband Bob Peter passed away in 2005. Now 77 years old, Ophilia D’souza stays with her daughter and son-in-law in Mumbai’s Mahim (West). Because of old age and ill health she didn’t remember many important facts associated with Mohana’s career. And so Meerut’s Shri Mool Narayan (M.N.) Sardana ji, who is a wealth of information on artists from the golden age of Hindi cinema, came to the rescue. He provided Beete Hue Din with a list of Mohana’s many films and of the songs that were filmed on her and for this we are utterly grateful to him. 

picture courtesy : 'LIFE'
We also got a lot of information from our conversations with Surat’s Senior Film Historian Shri Harish Raghuwanshi ji and through the Hindi Film Geet Kosh which has been tediously compiled by Kanpur’s Shri Harmandir SinghHamraz which helped this write-up tremendously. I now humbly present this write-up to my ardent readers. 

Acknowledgements : We are thankful to Shri Mool Narayan (M.N.) Sardana, Shri Harmandir Singh ‘Hamraz’, Shri Harish Raghuvanshi and Shri S.M.M.Ausaja for their valuable suggestions, guidance and help.
Special thanks to Ms. Aksher Apoorva for the English translation of the write up.
......................................................................................
Links :

raat ko ji chamke taare / Aag /1948

bhini bhini chandni raat / Rimjhim /1949

mere ghar ke aage hain do do galiyan / Rimjhim /1949

pehle to ho gayi namaste namaste / Patanga /1949

pyar ke jahan ki nirali Sarkar hai / Patanga /1949

my my my dear / Nagina /1951

o babu o babu / Sagai /1951

lucknow chalo ab rani / Sansaar /1951

o hasina sambhal sambhal ke chal / Saqi / 1952

aisi nanwa ki laagi kataar / Insaniyat / 1955

mohabbat yun bhi hoti hai / Marine drive /1955
https://youtu.be/KnMumgH7y9M
......................................................................................

पहले तो हो गयी नमस्ते नमस्ते” – मोहना

                     ...........शिशिर कृष्ण शर्मा

गोवा के कोंकणी भाषी कलाकारों का हिंदी सिनेमा के साथ हमेशा से ही गहरा रिश्ता रहा है। मूक फ़िल्मों के दौर की स्टार सुधाबाला (एर्मेलीन कार्दोज़) से लेकर बोलती फ़िल्मों की स्टार अभिनेत्रियां मीनाक्षी शिरोडकर, जयश्री शांताराम, वर्षा उसगांवकर, अभिनेता सचिन, निर्देशक एन. चन्द्रा, दिनेश भोंसले, गायिकाएं लता, आशा, हेमा सरदेसाई, गायक रेमो फ़र्नांडिस, संगीतकार और अरेंजर एन.दत्ता, दत्ताराम, चिकचॉकलेट, एंथोनी गोंसाल्विस, फ़िल्म सम्पादक डी.एन.पै, भानुदास दिवकर, वामन भोंसले, वीरेन्द्र घरसे और कला निर्देशक रत्नाकर फड़के, वी.आर.कारेकर, सुशांत तारी जैसे तमाम कलाकारों और तकनीशियनों की जड़ें गोवा से ही जुड़ी हुई थीं और हैं। इन्हीं कलाकारों में शामिल थीं जानी-मानी अभिनेत्री और डांसर मोहना, जिन्होंने 1940 के दशक के अंत में हिंदी फ़िल्मों में कदम रखा था। महज़ 10 साल के करियर में मोहना क़रीब दो दर्जन फिल्मों में अभिनय और डांस करती नज़र आयीं और फिर फ़िल्मों को ही नहीं बल्कि भारत को भी अलविदा कह गयीं।

मोहना के बारे में जानने की उत्सुकता मन में तब पैदा हुई जब अचानक ही एक रोज़ नेट पर लाईफ़ मैगज़ीनके लिए किए गए उनके फ़ोटोशूट की बेहद खूबसूरत तस्वीरें नज़र आयीं। उनके बारे में जानकारी हासिल करने की कोशिश की लेकिन कहीं भी कुछ ख़ास नहीं मिला और जो मिला, उस पर पूरी तरह से यक़ीन नहीं किया जा सकता था। लेकिन इतना तय हो चुका था कि मोहना अब जीवित नहीं हैं। चूंकि बीते हुए दिनमें प्रकाशित साक्षात्कार और आलेख सम्बन्धित कलाकार अथवा उनके परिजनों से व्यक्तिगत बातचीत के आधार पर तैयार किए जाते हैं और मोहना के परिजनों के बारे में हमें कोई जानकारी नहीं थी इसलिए हमें इस विषय को टाल देना पड़ा। लेकिन अचानक ही एक रोज़ बिना किसी कोशिश के हमें मोहना की बहन का पता मिल गया।

दरअसल साल 2014 के नवम्बर माह में गोवा में अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म समारोह इफ़ीका आयोजन किया गया था। समारोह के कला-निर्देशक सुशांत तारी चाहते थे कि इस अवसर पर श्रद्धांजलिस्वरूप भारतीय सिनेमा के शुरूआती दौर से जुड़े भूले-बिसरे कलाकारों की यादों को ताज़ा किया जाए। उनके आग्रह पर मैंने मूक फ़िल्मों के ज़माने से लेकर हिंदी सिनेमा के स्वर्णिम दौर तक के 3 दर्जन से ज़्यादा प्रमुख कलाकारों और तकनीशियनों की तस्वीरें और संक्षिप्त परिचय उन्हें उपलब्ध कराया जिन्हें 'इफ़ी' के आयोजन स्थल पर प्रदर्शित किया गया। लेकिन गोवा से जुड़े हुए कलाकारों को एक अलग वर्ग में रखा गया था जिसकी ज़िम्मेदारी मूलत: गोवा के ही रहने वाले मेरे क़रीबी मित्र और पुरस्कृत मराठी फ़िल्म मर्मबंध’, हिंदी फ़िल्म कालापुरऔर आने वाली कोंकणी फ़िल्म एनिमीके निर्देशक दिनेश भोंसले ने ली। इस सिलसिले में दिनेश की मुलाक़ात मोहना की बहन ओफेलिया से हुई और फिर उनके ज़रिए मैं भी ओफेलिया तक जा पहुंचा। 9 मार्च 2015 की शाम ओफेलिया के घर पर हुई मुलाक़ात के दौरान उनसे मोहना के बारे में काफ़ी जानकारी हासिल हुई।

दो बहनों और दो भाईयों में सबसे बड़ी मोहना का जन्म 3 फ़रवरी 1929 को गोवा के सुकुर-पोर्वोरिम में, एक ईसाई परिवार में हुआ था। उनका नाम रखा गया, मोना ब्लासिया कब्राल। मोहना के पिता रॉबर्ट कब्राल श्रीलंका में नौकरी करते थे लेकिन 1930 के दशक के उत्तरार्ध में वो गोवा लौट आए थे। उन्हीं दिनों उन्हें हिंदुस्तान कंस्ट्रक्शन कम्पनी में कैशियर की नौकरी मिली तो वो पत्नी लीना और बच्चों को साथ लेकर मुम्बई चले आए। मोहना की शुरूआती पढ़ाई पोर्वोरिम और मुम्बई में हुई थी। कुछ समय बाद उन्हें पुणे के एक बोर्डिंग स्कूल में दाख़िला दिला दिया गया जहां से उन्होंने अपनी स्कूली पढ़ाई पूरी की और फिर उन्हें एक टेलिफोन कम्पनी में टेलिफोन ऑपरेटर की नौकरी मिल गयी। दरअसल ये नौकरी ही मोहना के फ़िल्मों में आने की वजह बनी।

ओफेलिया बताती हैं, “उन दिनों आज की तरह सीधी टेलिफ़ोन सुविधा नहीं थी। इच्छित नम्बर टेलिफोन ऑपरेटर के ज़रिए मिलाया जाता था। ऐसे में रोज़ाना ही मोहना का सम्पर्क उस दौर की नामी-गिरामी हस्तियों से होता रहता था जिनमें फिल्मों से जुड़े लोग भी शामिल थे। नौकरी की वजह से ही अभिनेत्री बेगमपारा, नरगिस और निर्मात्री-निर्देशिका प्रोतिमा दासगुप्ता  से मोहना की अच्छी दोस्ती हो गयी थी। निर्माता-निर्देशक-अभिनेता किशोर साहू ने फ़िल्म सावन आया रेमें उन्हें ब्रेक दिया था। मोना की जगह फ़िल्मी नाम मोहनाभी उन्हें फ़िल्म सावन आया रे’ में ही दिया गया था

फ़िल्म सावन आया रेसाल 1949 में बनी थी जो ओफेलिया के अनुसार मोहना की पहली फ़िल्म थी। लेकिन सबसे पहले मोहना साल 1948 में बनी आर.के.बैनर की पहली फ़िल्म आगके गीत रात को जी चमके तारेमें अभिनेता विश्वा मेहरा के साथ परदे पर नज़र आयी थीं, हालांकि इस फ़िल्म के क्रेडिट्स में उनका नाम नहीं था। ऐसा प्रतीत होता है कि फ़िल्म आगउन्हें सावन आया रेके बाद मिली होगी लेकिन प्रदर्शित वो सावन आया रेसे पहले हुई।

आगऔर सावन आया रेके बाद अगले एक दशक में मोहना ने चार दिन’, ‘कमल’, ‘पतंगा’, 'रिमझिम' (सभी 1949), ‘अदा’, ‘नादान’, ‘सगाई’, ‘संसार’ (सभी 1951), ‘छम छमा छम’, ‘नज़रिया’, ‘साक़ी’, ‘सलोनी’ (सभी 1952), ‘शोले’ (1953), ‘डंका’, ‘दोस्त’, ‘शर्त’ (1954), ‘इंसानियत’, ‘मैरीन ड्राईव’, ‘सौ का नोट’, ‘तीरन्दाज़’ (सभी 1955), ‘स्वर्णसुन्दरीऔर बाग़ी सिपाही’ (1958) में हास्य और खल भूमिकाएं कीं और साथ ही कई हिट गीतों पर डांस भी किया (कृपया संलग्न यूट्यूब लिंक देखें) और फिर शादी करके फ़िल्मों को ही नहीं बल्कि भारत को भी अलविदा कह दिया। 

{'अनमोलफनकार.कॉम' के संचालक श्री गजेन्द्र खन्ना द्वारा दी गयी जानकारी और गीतों के लिंक्स के अनुसार मोहना ने फ़िल्म 'रिमझिम' (1949) में 2 गीत भी गाए थे। इसके लिए हम श्री गजेन्द्र खन्ना के आभारी हैं।(कृपया संलग्न यूट्यूब लिंक देखें)।}

मोहना ने दो शादियां की थीं। उनकी पहली शादी साल 1951 में बेहद नाटकीय अंदाज़ में हुई थी। दरअसल वो मुम्बई के मशहूर अम्बेसडर होटल के रिहर्सल रूम में फ़िल्म संसारके गीत की रिहर्सल कर रही थीं। रिहर्सल रूम के ठीक सामने वाले कमरे में एक अंग्रेज़ युवक ठहरा हुआ था जो रिहर्सल के लगातार शोरशराबे से बेहद परेशान था। 3-4 दिन बाद जब हालात बर्दाश्त से बाहर हो गए तो वो ग़ुस्से में सीधा रिहर्सल रूम में घुस आया। लेकिन मोहना पर नज़र पड़ते ही उसका ग़ुस्सा ग़ायब हो गया और वो माफ़ी मांग कर वापस लौट गया। मोहना की ख़ूबसूरती ने उस पर जादू सा कर दिया था। वो अंग्रेज़ युवक इंडियन रॉयल एयर फ़ोर्स में पायलट था और उसका नाम एडवर्ड डॉऊनिंग था। एडवर्ड ने मोहना से दोस्ती की, दोनों में प्यार हुआ और बहुत जल्द उनकी शादी भी हो गयी। एडवर्ड से मोहना को एक बेटा हुआ जिसका नाम उन्होंने मार्क रखा। लेकिन शादी के एक-डेढ़ साल के भीतर ही कोलकाता हवाईअड्डे पर हुए विमान हादसे में एडवर्ड की मौत हो गयी।

ओफेलिया बताती हैं, “जून 1952 में मोहना ने मशहूर कोंकणी रंगकर्मी सी.अल्वेयर्स के बैनर अल्वेयर्स प्रोडक्शनके नाटक कुर्तूब अवॉईकेसे कोंकणी रंगमंच पर कदम रखा और बहुत जल्द वो कोंकणी नाटकों की स्टार अभिनेत्री बन गयीं। अल्वेयर्स प्रोडक्शनके नाटकों की वो स्थायी हिरोईन थीं। इसके अलावा मोहना एक बेहतरीन गायिका भी थीं। उनके गाए कोंकणी गीत आकाशवाणी पणजी से नियमित तौर पर प्रसारित होते थे और उनके गीतों के कई रेकॉर्ड्स भी बने थे

1950 के दशक के मध्य में मोहना की दूसरी शादी हिन्दुस्तान लीवर्स कम्पनी के अंग्रेज़ जनरल मैनेजर जॉन डीफ़्रेट्स से हुई। कम्पनी ने जॉन के एक भारतीय महिला से शादी करने पर आपत्ति की तो जॉन ने हिन्दुस्तान लीवर्स से इस्तीफ़ा देकर संयुक्त राष्ट्र संघ में नौकरी कर ली। ओफेलिया के मुताबिक़ साल 1955 में बनी फ़िल्म इंसानियतके बाद मोहना ने फ़िल्मों को अलविदा कह दिया, हालांकि उनकी फ़िल्मोग्राफ़ी के मुताबिक़ साल 1958 में भी उनकी दो फ़िल्में स्वर्णसुंदरीऔर बाग़ी सिपाहीप्रदर्शित हुई थीं।

1950 के दशक के उत्तरार्ध में मोहना के पति जॉन डीफ़्रेट्स की पोस्टिंग बेरूत में हुई तो मोहना भी बेरूत चली गयीं। जॉन से मोहना को एक बेटी क्लेयरहुई। बेरूत में रहते हुए मोहना ने अरबी भाषा सीखी और बेरूत टीवी के कुछ अरबी नाटकों में अभिनय भी किया। साल 1957 में मोहना मशहूर टीवी शो टु टैल ट्रुथके एक एपिसोड में भी नज़र आयी थीं। ओफेलिया बताती हैं, “भारत से मोहना को बेहद लगाव था। वो साल-दो साल में भारत ज़रूर आती थीं। कोंकणी नाटकों से उनका जुड़ाव हमेशा ही बना रहा

क़रीब 25 साल बेरूत में गुज़ारने के बाद जॉन डीफ़्रेट्स को पोस्टिंग पर विएना-ऑस्ट्रिया भेज दिया गया। साल 1986 में रिटायरमेंट के बाद जॉन डीफ़्रेट्स पत्नी मोहना और बेटी के साथ फ़्रांस में बस गए जहां 11 सितम्बर 1990 को दिल का दौरा पड़ने से मोहना का निधन हो गया। उस वक़्त उनकी उम्र 61 साल थी।

मोहना के पति जॉन डीफ़्रेट्स का निधन 12 सितम्बर 1998 को मॉण्टेलिमार, फ़्रांस में हुआ। मोहना का पहले पति से बेटा मार्क अमेरिका के केलिफ़ोर्निया शहर में ज्वैलरी का कारोबार करते हैं। दूसरे पति से हुई उनकी बेटी क्लेयर विवाहित हैं और फ़्रांस में रहती हैं।मोहना से 9 साल छोटी उनकी बहन ओफेलिया डीसूज़ा और ओफेलिया के पति बाब पीटर भी कोंकणी नाटकों के बहुत बड़े स्टार थे। बाब एक अभिनेता होने के साथ साथ गायक, संगीतकार और लेखक भी थे। उन्होंने कई कोंकणी नाटक लिखे। उधर ट्रेजेडी क्वीनके नाम से मशहूर ओफेलिया अभिनेत्री होने के साथ साथ एक बेहतरीन गायिका भी थीं। मोहना की तरह उनके गाए कोंकणी गीत भी अक्सर आकाशवाणी से प्रसारित होते थे। ओफेलिया साल 1954 से 1997 तक कोंकणी रंगमंच पर सक्रिय रहीं। इन 43 सालों में ओफेलिया ने क़रीब 300 नाटकों में अभिनय किया और फिर बढ़ती उम्र और अस्वस्थता की वजह से रंगमंच को अलविदा कह दिया।

ओफेलिया के पति बाब पीटर साल 2005 में गुज़रे। 77 वर्षीय ओफेलिया डीसूज़ा अब अपनी बेटी-दामाद के साथ मुम्बई के माहिम (पश्चिम) में रहती हैं। बढ़ती उम्र और गिरते स्वास्थ्य की वजह से मोहना के करियर से सम्बन्धित कई महत्वपूर्ण बातें उन्हें याद नहीं थीं। ऐसे में हिंदी सिनेमा के सुनहरी दौर के कलाकारों के बारे में बेहतरीन जानकारी रखने वाले मेरठ निवासी श्री मूलनारायण (एम.एन.) सरदाना जी मदद के लिए आगे आए। उन्होंने मोहना की कई फ़िल्मों और उन पर फ़िल्माए गए गीतों की सूची बीते हुए दिनको उपलब्ध कराई जिसके लिए हम उनके आभारी हैं। उधर हमेशा की तरह सूरत निवासी वरिष्ठ फ़िल्म इतिहासकार श्री हरीश रघुवंशी जी से हुई बातचीत और कानपुर के श्री हरमंदिर सिंह हमराज़द्वारा संकलित हिंदी फ़िल्म गीतकोशके गहन अध्ययन से भी मोहना पर आलेख तैयार करने में हमें काफ़ी मदद मिली। आलेख अब पाठकों के सामने है। 

आभार : बहुमूल्य मार्गदर्शन और सहायता के लिए हम श्री मूलनारायण (एम.एन.) सरदाना, श्री हरमंदिर सिंह हमराज़’, श्री हरीश रघुवंशी और श्री एस.एम.एम.औसजा के आभारी हैं।
अंग्रेज़ी अनुवाद हेतु हम सुश्री अक्षर अपूर्वा के विशेष रूप से आभारी हैं।
......................................................................................

3 comments:

  1. कहते हैँ कि जहाँ चाह,वहाँ राह होती है,और मेहनती इँसान के साथ ईश्वर भी रहते हैँ. आप की इच्छशक्ति और हमारे भाग्य से आपको मोहना जी के बारे में सही सम्पर्क और जानकारी मिल गयी जिसे आपने हमारे लिये प्रस्तुत किया जिसके लिये हम आप के आभारी हैं. ऐसे भूले-बिसरे लोगोँ के बारे मेँ पढ कर जो आनंद प्राप्त होता है, उसका शब्दोँ मे वर्णन नहीँ किया जा सकता................ईश्वर आप की ऐसी ही सहायता करते रहेँ और आप हमारी जानकारी मे यूँ ही वृद्धि करते रहेँ यही कामना और प्रार्थना है.

    ReplyDelete
  2. Sharma ji,

    Thanks for a very informative article on Mohna,a forgotten artiste.
    I wish you such successes in finding many more artistes who have left no info easily available on their career.
    You are an asset for students of HF and Music,like me.
    I look forward to many more write ups in future to enrich the History.
    We are infamous for not keeping tracks of our valued contributors of yore to the Hindi Cinema,but thank God,for people like you,we are very hopeful of a brighter future for the History.
    Thanks once again.
    You are a Gem yourself.
    -Arunkumar Deshmukh

    ReplyDelete
  3. great site. I am a fan. simply love each and every article esp the vintage photos...Please give where abouts of Indira Billi looking at her Raj Kumar had said in Mere Huzoor " Lucknow ki kaun si aisi firdaus hai..."

    also i will love to translate fron English to hindi and vice versa

    Regards

    Ravinder Kumar

    http://vyangduniya.blogspot.in/

    ReplyDelete