Wednesday, May 29, 2013

“Kashti Ka Khamosh Safar Hai” - Sudha Malhotra

Kashti Ka Khamosh Safar Hai” - Sudha Malhotra

                                                 ......Shishir Krishna Sharma 


English translation edited by : Maitri Manthan
Posters & photos provided by : Shri S.M.M.Ausaja

There have been many playback singers like Lalita Deulkar, Sulochna Kadam, Mubarak Begum, Meena Kapoor, Jagjit Kaur, Madhubala Zaveri and Kamal Barot in the field of Hindi film music, their contribution is significant even in the limited work they did. With their talent they made a mark but soon they left this glittering world due to various reasons. Among such highly talented singers is the sweet voiced singer, Sudha Malhotra, who was active for just about 10 years but the songs she sang are fresh even today.



Sudha Malhotra was born in Delhi on 30th November 1936 and raised in Lahore, her hometown. She was the eldest among 4 siblings with 3 younger brothers. Sudha Malhotra says, “All of us at home had an inclination towards music. My parents encouraged me to learn singing after they saw my passion for music. At the age of 6, I got a chance to sing in a program in front of Master Ghulam Hyder, that too with his orchestra. I sang Noorjehan’s “tu kaun si badli me mere chaand hai aa ja” from the film “Khandaan” which impressed Master Ghulam Hyader to such an extent that he immediately said that I’ll earn lot of name and fame in forthcoming years. I started taking lessons from Deshbandhu Sethi ji in classical vocal while in Lahore and also started singing on All India radio. After the partition we shifted to Delhi where I started learning from Pandit Amar Nath”.



Sudha Malhotra’s father was an academician. He shifted to Bhopal after he got the Principal’s job there. According to Sudha Malhotra, all her maternal relatives were based in Mumbai thus she often visited the city since childhood. Composer Anil Biswas was her maternal uncle’s family friend. Anil Biswas once heard Sudha Malhotra sing and he was so impressed that he gave her a chance to sing in his film “Aarzoo”. Her debut song in the film “Aarzoo”, a 1950 release was a solo “mila gaye nain” which was picturised on Shashikala. Sudha Malhotra was just 14 at that time.
dil-e-nadan

After recording the song she returned to Bhopal. “Mila gaye nain” was highly appreciated by the masses. According to Sudha Malhotra, she was offered many songs after the grand success of her debut song. She used to come all the way from Bhopal to Mumbai for the recordings and after finishing the job returned to Bhopal. This continued for 2-3 years but due to increasing work pressure, eventually she had to permanently shift from Bhopal to Mumbai.


Sudha Malhotra says, “I got an opportunity to sing under the baton of all the big-small composers of that era. In a career spanning around 10 years I sang approximately 250 songs in 135 movies. Many of my songs like “mohabbat ki dhun beqararon se poochho” (dil-e-nadan / 1953), “awaaz de raha hai koi aasmaan se” (gauhar / 1953), “ganga ki reti pe bangla uthwai de” (mirza ghalib / 1954), “ghoonghat hataai ke nazrein milai ke” (rangeen raatein / 1956), “maalik tere jahaan me” (ab dilli door nahin / 1957), 
solva saal

“mera jala raat bhar diya” (chamak chandni / 1957), “sapnon ka chanda aaya” (Mr.X / 1957), “hum tumhaare hain zara ghar se nikal ke dekh lo” (chalti ka naam gaadi / 1958), “jaane kaisa jadoo kiya re” (parvarish / 1958), “dekho ji mera haal, badal gayi chaal” (solva saal / 1958), “hat hat hat ja re natkhat piya” (swarn sundari / 1958), “kaase kahoon mann ki baat” (dhool ka phool / 1959), “san san san wo hawa chali (kagaz ke phool / 1959) and “gham ki badli me chamakta…kal hamara hai” (kal hamara hai / 1959) were greatly appreciated by the masses.
didi

1950’s was a very busy decade in Sudha Malhotra’s career. Then she got married into the Motwani family, the owners of famed “Chicago Radio”. Sudha Malhotra says, “At that time, people connected with films were not looked up to and working in films was a taboo in respectable families. It was not easy for a newly wed daughter-in-law like me to continue with my singing career but there was one more big reason behind this denial from my in-laws. However out of respect towards the wishes of the elders in the family, I bid adieu to the film world. My last recorded song was a duet with Mukesh, “tum mujhe bhool bhi jao to ye haq hai tumko” for the 1959 release “Didi”. Though the composer for this film was N.Dutta, this particular song was composed by me. Thus my singing career which started at the age of 14 ultimately came to an end at the age of 23”.


Even after the release of the film “Didi”, many of Sudha Malhotra’s earlier recorded songs came in market and were applauded by the audience. Among such songs were “kashti ka khamosh safar hai” (girlfriend / 1960), “salaam-e-hasrat qubool kar lo” (babar / 1960), “na mai dhan chahoon” (kala bazar / 1960), “assalaam aalekum babu kaho kaisa haal hai” (kalpana / 1960), 
razia sultan
“alif zabar aa” (love in simla / 1960), “ye haath hi apni daulat hai” (masoom / 1960), “jaane waale dekh le” (dekhi teri bambai / 1960), “jao ji jao badi shaan ke dikhaane waale” (razia sultan / 1961), “sachche ka hai bolbala” (sachche moti / 1962), “kadmon me shama ke parwaane” (kinare kinare / 1963) and “hum bhi anjaan they” (mai suhagan hoon / 1964), and the famous qawwalis “ye ishq ishq hai”, “na to kaarwaan ki talaasha hai” and “ji chahta hai choom loon” from the film “barsaat ki raat” (1960).

Sudha Malhotra says, “Composed by Naushad Saheb, all the songs from the film “Uran Khatola” were initially recorded in my voice. But my voice disappeared from the songs when the movie and the gramophone records released. I also recorded a duet with Geeta Dutt, which was composed by Khayyam for a Chetan Anand movie. As the movie remained incomplete, the said song was later used by Yash Chopra in one of his films with the same tune and lyrics but with different voices. And, that song was, “kabhi kabhi mere dil me khyaal aata hai”. During those days I was a very busy singer and had gained a lot of recognition from the qawwalis in “barsaat ki raat”, thus started a lot of conspiracies against me. I can’t say if there was any pressure on the company, but HMV which had a monopoly in the field of film music then didn’t release a single gramophone record of mine during that period.

According to Sudha Malhotra, apart from Anil Biswas, Sahir Ludhiyanvi also played an important role for the shaping up her singing career. In a recorded interview, the recording of which is still in our possession, Sudha Malhotra says, “Sahir saheb wrote some very beautiful lyrics especially for me. After I got engaged, some of my pictures with Sahir Ludhiyanvi were published in the Blitz. I don’t know who was behind that all and what he or she intended to, but even though the Blitz later apologized, the publication of the pictures was one of the main reasons behind why I wasn’t permitted to sing after my marriage. Had this not happened, maybe I would continue with my singing career after marriage as well”.

(While preparing this write up we again spoke to Sudha ji for the updates and she also supported us. But she flatly refused to talk on the Blitz controversy this time. Out of respect towards her feelings, we also didn’t insist on this issue.)

prem rog
Even after leaving the film world, Sudha Malhotra kept her passion for music alive. She continued her “riyaaz”, gave stage performances and taught music. After a gap of 24 years, on the behest of Raj Kapoor, she sang a duet “ye pyaar tha ya kuchh aur tha” with the singer Anwar in Raj Kapoor’s 1982 release “Prem Rog” which is her last recorded playback song as on today.

77 years old Sudha Malhotra resides in her bunglow on the 15th Road of Khar (West) with her son, daughter-in-law and grandchildren. It’s been 4 years since her husband Mr. Girdhar Motwani passed away. Her son looks after the family business whereas daughter-in-law is busy with the editing and publication of renowned fashion magazines “L Official” and “Seventeen”. Taking an account of singer Sudha Malhotra’s contribution into the field of Hindi Film Music, the Government of India has recently felicitated her with the Padm Shri Award – 2013.
  
Acknowledgements : We are thankful to Shri Harmandir Singh ‘Hamraz’, Shri Harish Raghuvanshi, Shri Biren Kothari,  Ms. Aksher Apoorva  and Shri S.M.M.Ausaja for their valuable suggestions, guidance and help.

Special thanks to Maitri Manthan for the editing of English translation.


..............................................................................................
Few links :
mila gaye nain/aarzoo/1950

mohabbat ki dhun/dil-e-nadan /1953

awaaz de raha hai koi/gauhar/1953

ganga ki reti pe/mirza ghalib/1954

ghoonghat hataai ke/rangeen raatein/1956

maalik tere jahaan me/ab dilli door nahin/1957

mera jala raat bhar diya/chamak chandni/1957

sapnon ka chanda aaya/Mr.X/1957

hum tumhaare hain/chalti ka naam gaadi/1958

jaane kaisa jadoo kiya re/parvarish/1958

dekho ji mera haal/solva saal/1958

kaase kahoon mann ki baat/dhool ka phool/1959

san san san wo hawa chali/kagaz ke phool/1959

tum mujhe bhool bhi jao/didi/1959

KASHTI KA KHAMOSH SAFAR HAI/girlfriend/1960

salaam-e-hasrat qubool kar lo/babar/1960

na mai dhan chahoon/kala bazar/1960

assalaam aalekum babu/kalpana/1960

ye haath hi apni daulat hai/masoom/1960

o topi waale babu/dekhi teri bambai/1960

na to kaarwaan ki talaash hai/barsaat ki raat/1960

ye pyaar tha ya kuchh aur tha/prem rog/1982

.............................................................................................. 
कश्ती का ख़ामोश सफ़र हैसुधा मल्होत्रा
                                                ......शिशिर कृष्ण शर्मा           
हिंदी फ़िल्म संगीत के क्षेत्र में ललिता देऊलकर, सुलोचना कदम, मुबारक बेगम, मीना कपूर, जगजीत कौर, मधुबाला ज़वेरी और कमल बारोट जैसी कई पार्श्वगायिकाएं हुईं जिन्होंने काम तो भले ही बहुत ज़्यादा नहीं किया, लेकिन जितना भी किया, उसे नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता। अपनी दमदार गायकी के दम पर इन सभी ने हिंदी सिनेमा के क्षेत्र में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई और फिर चाही-अनचाही वजहों से वो इस जगमगाती दुनिया को अलविदा कह गयीं। ऐसी ही गायिकाओं में एक चमकता हुआ नाम है सुधा मल्होत्रा का, जिनके करियर की अवधि तो महज़ 10 साल रही लेकिन उनके गाए गीतों की ताज़गी आज भी बरकरार है।

मूल रूप से लाहौर की रहने वालीं सुधा मल्होत्रा का जन्म 30 नवम्बर 1936 को दिल्ली में हुआ था, लेकिन उनका बचपन लाहौर में बीता। चार भाई-बहनों में सबसे बड़ी सुधा मल्होत्रा और उनसे छोटे 3 भाई थे। सुधा मल्होत्रा कहती हैं, “हमारे घर में सभी को संगीत का शौक़ था। गायन में मेरी गहरी दिलचस्पी को देखकर माता पिता ने मुझे संगीत सीखने के लिए प्रेरित किया। मैं 6 बरस की थी जब एक प्रोग्राम में मुझे मास्टर ग़ुलाम हैदर के सामने उनके ऑर्केस्ट्रा के साथ गाने का मौक़ा मिला। मैंने फ़िल्मख़ानदानका, नूरजहां का गाया मशहूर गीततू कौन सी बदली में मेरे चांद है जागाया जिसे सुनकर मास्टर ग़ुलाम हैदर ने कहा था कि मैं बड़ी होकर बहुत नाम कमाऊंगी। लाहौर में ही मैंने देशबंधु सेठी जी से शास्त्रीय गायन सीखना शुरू किया। उसी दौरान ऑल इण्डिया रेडियो पर भी गाने लगी। बंटवारा हुआ तो हम लोग दिल्ली चले आए जहां मैं पंडित अमरनाथ से संगीत सीखने लगी

सुधा मल्होत्रा के पिता शिक्षक थे। उन्हें प्रिंसिपल की नौकरी मिली तो परिवार को साथ लेकर वो भोपाल चले आए। सुधा मल्होत्रा के मुताबिक उनका ननिहाल मुंबई में था जहां बचपन से ही उनका आनाजाना होता रहता था। संगीतकार अनिल बिस्वास उनके मामा के पारिवारिक मित्र थे। एक रोज़ अनिल बिस्वास ने सुधा मल्होत्रा को गाते सुना तो वो बेहद प्रभावित हुए। उन्होंने सुधा मल्होत्रा को फ़िल्मआरज़ूमें एक गीत गाने का मौक़ा दिया। साल 1950 में बनी फ़िल्मआरज़ूमें उनका गाया वो पहला गीत थामिला गए नैन”, जो शशिकला पर फ़िल्माया गया था।

सुधा मल्होत्रा की उम्र उस वक़्त करीब 14 साल थी। गीत रेकॉर्ड कराकर वो वापस भोपाल चली गयी थीं।मिला गए नैनको लोगों ने बेहद पसंद किया। सुधा मल्होत्रा के मुताबिक़ उस गीत की ज़बर्दस्त कामयाबी के बाद उन्हें लगातार गाने के प्रस्ताव मिलने लगे। वो मुंबई आकर गाना रेकॉर्ड करातीं, और फिर वापस भोपाल लौट जाती थीं। क़रीब 2-3 साल तक यही सिलसिला चलता रहा। लेकिन धीरे धीरे काम बढ़ता चला गया तो उन्हें स्थायी रूप से भोपाल से मुंबई जाना पड़ा।

सुधा मल्होत्रा कहती हैं, “मुझे उस दौर के तकरीबन सभी छोटे-बड़े संगीतकारों के साथ काम करने का मौक़ा मिला। क़रीब 10 सालों के अपने करियर के दौरान मैंने 135 फ़िल्मों में क़रीब 250 गीत गाए।मोहब्बत की धुन बेक़रारों से पूछो” (दिले नादान / 1953), “आवाज़ दे रहा है कोई आसमान से” (गौहर / 1953), “गंगा की रेती पे बंगला उठवाई दे” (मिर्ज़ा ग़ालिब / 1954), “घूंघट हटाय के नज़रें मिलाय के” (रंगीन रातें / 1956) “मालिक तेरे जहां में” (अब दिल्ली दूर नहीं / 1957), “मेरा जला रात भर दिया” (चमक चांदनी / 1957), “सपनों का चंदा आया” (मिस्टर एक्स / 1957), “हम तुम्हारे हैं ज़रा घर से निकल कर देख लो” (चलती का नाम गाड़ी / 1958), “जाने कैसा जादू किया रे” (परवरिश / 1958), “देखो जी मेरा हाल, बदल गयी चाल” (सोलहवां साल / 1958), “हट हट हट जा रे नटखट पिया” (स्वर्ण सुंदरी / 1958), “कासे कहूं मन की बात” (धूल का फूल / 1959) ”, “सन सन सन वो चली हवा” (काग़ज़ के फूल / 1959), और  ग़म की बदली में चमकता...कल हमारा है” (कल हमारा है / 1959) जैसे मेरे गाए कई गीत बेहद पसंद किए गए

1950 के दशक में सुधा मल्होत्रा पार्श्वगायन में बेहद व्यस्त रहीं। फिर मशहूरशिकागो रेडियोके मालिक मोटवानी परिवार में उनकी शादी हो गयी। सुधा मल्होत्रा कहती हैं, “फ़िल्मों में काम करना उस जमाने में अच्छा नहीं माना जाता था। एक इज़्ज़तदार घराने की नयी बहू को इसकी इजाज़त मिलना स्वाभाविक ही था, हालांकि इजाज़त मिलने के पीछे एक बड़ी वजह और भी थी। बहरहाल मैंने घर के बड़े-बुज़ुर्गों की इच्छा का सम्मान करते हुए फ़िल्मों को अलविदा कह दिया। 1959 में रिलीज़ हुई फ़िल्मदीदीका मुकेश के साथ गाया दोगानातुम मुझे भूल भी जाओ तो ये हक़ है तुमकोमेरा आख़िरी रेकॉर्डेड गीत था। यों तो फ़िल्मदीदीके संगीतकार एन.दत्ता थे, लेकिन ख़ासतौर से इस गीत की धुन मैंने ही बनाई थी। इस तरह महज़ 14 साल की उम्र में शुरू हुआ मेरा करियर 23 साल की उम्र में ख़त्म भी हो गया

फ़िल्मदीदीके बाद भी काफ़ी समय तक सुधा मल्होत्रा के पहले से रेकॉर्ड हुए गीत बाज़ार में आते रहे और पसंद भी किए गए। इनमेंकश्ती का ख़ामोश सफर है” (गर्ल फ्रेंड / 1960), “सलामे हसरत कुबूल कर लो” (बाबर / 1960), “ना मैं धन चाहूं” (काला बाज़ार / 1960), “अस्सलाम आलेकुम बाबू कहो कैसा हाल है” (कल्पना / 1960), “अलिफ़ जबर ” (लव इन शिमला / 1960), “ये हाथ ही अपनी दौलत है” (मासूम/ 1960), “जाने वाले देख ले” (देखी तेरी बंबई / 1960), “जाओ जी जाओ बड़ी शान के दिखाने वाले” (रज़िया सुल्तान / 1961), “सच्चे का है बोलबाला” (सच्चे मोती / 1962), “कदमों में शमां के परवाने” (किनारे किनारे / 1963) औरहम भी थे अनजान” (मैं सुहागन हूं / 1964)  जैसे गीतों के अलावा फिल्मबरसात की रात” (1960) की मशहूर क़व्वालियांये इश्क़ इश्क़ है”, “ना तो कारवां की तलाश हैऔरजी चाहता है चूम लूंभी शामिल हैं। 

सुधा मल्होत्रा बताती हैं, “नौशाद साहब के संगीत निर्देशन में फ़िल्म उड़न खटोला के सभी गीत पहले मेरी आवाज़ में रेकॉर्ड किए गए थे। लेकिन जब फ़िल्म और रेकॉर्ड रिलीज़ हुए तो उन गीतों में से मेरी आवाज़ नदारद थी। उधर चेतन आनंद ने भी अपनी फ़िल्म के लिए मेरी और गीता दत्त की आवाज़ों में साहिर लुधियानवी का लिखा एक गीत ख़ैयाम के संगीत निर्देशन में रेकॉर्ड कराया था। वो फ़िल्म नहीं बनी तो आगे चलकर उस गीत को यश चोपड़ा की फ़िल्म में इस्तेमाल कर लिया गया। धुन और बोल वोही थे लेकिन अब आवाज़ें बदल चुकी थीं। वो गीत था, “कभी कभी मेरे दिल में ख़्याल आता है फ़िल्मबरसात की रातकी क़व्वालियों में मुख्य स्वर मेरा होने और पार्श्वगायन में बढ़ती मेरी व्यस्तताओं की वजह से मेरे ख़िलाफ़ भी उठापटक शुरू हो गयी थी। उस ज़माने में संगीत के क्षेत्र में एच.एम.वी. कम्पनी का एकाधिकार था। ये तो मैं नहीं कह सकती कि कम्पनी पर किसी तरह का कोई दबाव था, लेकिन उस दौर में कम्पनी ने मेरे गाए गीतों का एक भी रेकॉर्ड जारी नहीं किया

सुधा मल्होत्रा के मुताबिक़ उनके करियर को बनाने में अनिल बिस्वास के अलावा साहिर लुधियानवी का भी बहुत बड़ा योगदान था। एक रेकॉर्डेड इंटरव्यू में, जिसकी रेकॉर्डिंग आज भी हमारे पास मौजूद है, सुधा मल्होत्रा ने बताया था, “ख़ासतौर से मेरे लिए साहिर लुधियानवी ने बहुत से ख़ूबसूरत गीत लिखे थे। मेरा रिश्ता तय हुआ तो साहिर लुधियानवी के साथ मेरी कुछ तस्वीरें ब्लिट्ज़ में छपवा दी गयीं। मुझे नहीं पता कि इस सब के पीछे कौन था और उसकी मंशा क्या थी। ब्लिट्ज़ ने भले ही बाद में इसके लिए माफ़ी मांग ली थी, लेकिन शादी के बाद मुझे गाने की इजाज़त मिल पाने की एक बड़ी वजह ये भी थी। अगर वो तस्वीरें छपी होतीं तो हो सकता है शादी के बाद भी मेरा पार्श्वगायन जारी रहता

(इस आलेख को तैयार करते समय हमने अपडेट्स लेने के लिए सुधा जी से एक बार फिर से बातचीत की और हमें उनका पूरा सहयोग भी मिला। लेकिन इस बार ब्लिट्ज़ में छपी तस्वीरों से संबंधित विवाद पर बात करने से उन्होंने साफ़ इंकार कर दिया। उनकी इच्छा का पूरा सम्मान करते हुए हमने भी ज़्यादा आग्रह करना उचित नहीं समझा।)

फ़िल्मों से अलग होने के बाद भी सुधा मल्होत्रा संगीत से जुड़ी रहीं। उन्होंने रियाज़ जारी रखा, संगीत की कक्षाएं लेती रहीं और कभी-कभार मंच पर भी गाती रहीं। क़रीब 24 साल के अंतराल के बाद उन्होंने राज कपूर के कहने पर साल 1982 में बनी फ़िल्मप्रेमरोगमें अनवर के साथ एक दोगानाये प्यार था या कुछ और थागाया जो उनका अभी तक का आख़िरी पार्श्वगीत है।

77 वर्षीया सुधा मल्होत्रा ख़ार (पश्चिम) के 15वें रास्ते पर स्थित अपने बंगले में बेटे-बहू और पोते-पोती के साथ रहती हैं। उनके पति गिरधर मोटवानी का निधन करीब चार साल पहले हुआ था। बेटा पारिवारिक व्यवसाय सम्भालता है और बहू ऑफ़िशियलऔरसेवेंटीननाम की फ़ैशन पत्रिकाओं का संपादन और प्रकाशन देखती है।  हिंदी फ़िल्म संगीत के क्षेत्र में गायिका सुधा मल्होत्रा के योगदान को देखते हुए भारत सरकार ने हाल ही में उन्हें साल 2013 के पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया है।  

आभार : बहुमूल्य मार्गदर्शन और सहायता के लिए हम श्री हरमंदिर सिंह हमराज़’, श्री हरीश रघुवंशी, श्री बिरेन कोठारी,  सुश्री अक्षर अपूर्वा और श्री एस.एम.एम.औसजा के आभारी हैं।
अंग्रेज़ी अनुवाद के संपादन हेतु हम मैत्रीमंथन के विशेष रूप से आभारी हैं।
...............................................................................................

3 comments:

  1. Very interesting account of Sudha ji! Many thanx for the valuable information.

    ReplyDelete
  2. Makes a very interesting read. The Biltz article was about the so called alleged relationship of Sahir Ludianvi and Sudha Malhotra

    ReplyDelete
  3. sudha,congratulations for getting padamshri.bitton rabindrabhatnagar60 the promenade melbourne 3805

    ReplyDelete