Tuesday, November 27, 2012

‘Ritu Aaye Ritu Jaaye Sakhi Ri’- Nimmi




Ritu Aaye Ritu Jaaye Sakhi Ri’- Nimmi
............Shishir Krishna Sharma
Translated from original Hindi to English by : Aksher Apoorva
Nimmi’s filmography provided by : Shri Harish raghuwanshi
Posters & photos provided by : Shri S.M.M.Ausaja
G.M.Durrani’s photo provided by : Maitri Manthan

With Raj Kapoor’s film ‘Barsaat’ made in 1949 an actress extraordinaire along with music composer duo Shankar Jaikishan and prominent songwriters Shailendraand Hasrat jaipuri were introduced in Hindi cinema. That actresse’s name is still fresh in the mind of the audience and that name is ‘Nimmi’. That’s another thing that while after Barsaats’ huge success Shankar Jaikishan, Shailendra and Hasrat jaipuri became an integral part of R.K.’s team, it proved to be Nimmi’s first and last film with this banner. But despite this, because of her appealing beauty and effortless acting, Nimmi was soon enough able to create an identity for herself.

Born on 18th February 1933, Nimmi’s father hailed from Meerut. During one of our meetings Nimmi told me that her grandfather used to be a very rich government contractor after whose death Nimmi’s father couldn’t handle the business too well and eventually lost everything. Nimmi says, “My mother’s maternal hometown Fatehabad was 24 miles (40 kilometers) away from Agra and I was born at my maternal grandfather’s house. After the business had taken a bad hit my father was in search of employment and had to move the entire family to Kolkata where we became very close to A.R.Kardar who used to reside in our neighborhood. Taking pity on our condition, A.R.Kardar gave my father a small role of a judge but as soon as he saw the camera and lights my father got scared and ran away.”

wahidan
In that era playback hadn’t become a trend yet and actors had to sing their own songs in front of the camera. According to Nimmi, on his wife’s insistence, A.R.Kardar gave Nimmi’s mother Wahidan the role of a jogan and a chance to sing a song which proved to be a turning point in their lives. After seeing that film the owner of Ranjit Movietone, Sardar Chandulal Shah, called Wahidan to Mumbai on a salary of 500 rupees per month.

jyoti
Wahidan worked in films like ‘Ranjit Movietone’s’ Prithvi Putra’, ‘Professor Woman M.Sc.’, ‘Richshawwala’, ‘Secretary’ (all 1938), ‘Thokar’ (1939) and Sagar Film Companys’ Alibaba’ (1940) which was directed by Mehboob. But due to sudden health troubles she had to go back to her maternal hometown Fatehabad where in just a matter of days she passed away. Nimmi was 7 years old at that time.

g.m.durrani
Nimmi says, “My maternal grandfather was a landlord and after my mother’s death I was raised at my maternal grandparents’ house. By that time my aunt (mother’s younger sister) Sitara had also stepped in the film world and was known as Jyoti. Jyoti had worked in films like Sagar Movietone’s’ ‘Comrades’, ‘Ek Hi Rasta’ (both 1939), ‘National Studios’s’ ‘Aurat’ which was directed by Mehboob, and ‘Sanskaar’ (both 1940) and Vijay Bhatt’s Darshan(1941). She was married to singer-actor G.M.Durrani.”

(Despite our best efforts, we couldn’t verify the name of the A.R.Kardar film which was made in Kolkata where Wahidan had faced the camera for the first time. On the other hand as per the famous Kathak dancer Sitara Devi, Wahidan was a famous singer in Agra and Mehboob had heard her singing at Ajmer Sharif’s Khwaja Moinuddin Chishti’s Dargah’s yearly Urs and had called her to Mumbai. According to Sitara Devi she herself had given the name Jyoti to Wahidan’s younger sister Sitara)


As per Nimmi, after the country gained its independence she had to go to her aunt and uncle’s place in Mumbai in fear of the ensuing riots. She was around 15 years old at that time. Mehboob knew Nimmi from before because of Wahidan and Jyoti and hence one day he called her to see the shoot of his film Andazat Tardeo’s Central Studios. One of the two male leads of the film ‘Andaz’, Raj Kapoor was also producing and directing the film ‘Barsaat’ at that time.

Raj Kapoor saw Nimmi on the sets of Andazand offered her an important role in his film Barsaat. And so began Nimmi’s film career. Prem Nath was paired opposite Nimmi in ‘Barsaat’ and the famous songs jiya beqaraar hai’, ‘Barsaat me hum se mile tum sajanand patli kamar hai tirchhi nazar hai were shot on Nimmi. Raj kapoor had given Nimmi, whose real name is ‘Nawab Bano’, her screen name ‘Nimmi’ in the film ‘Barsaat’.

In a career spanning almost 17 years, Nimmi worked in a total of 46 movies. After Barsaat’ (1949), she didn’t get a chance to work in any of R.K.s’ films again but she was paired opposite Raj Kapoor in Durga Picturess’ Baawra’ (1950). After films like Jalte Deep’, ‘Raj Mukut’, ‘Wafa’ (all 1950), ‘Badi Bahu’, ‘Bedardi’, ‘Buzdil’, ‘Saza’, ‘Sabzbaag’ (1951) her next big success was the film Deedar(1951). She got the chance to work with Dilip Kumar for the first time in this film.

Nimmi did a total of 5 films with Dilip Kumar, viz. Deedar’ (1951), ‘Aan’ (1952), ‘Daag’ (1952), ‘Amar’ (1954) and Uran Khatola’ (1955). Except Amar all these films were very successful, although, ‘Amar’ did gain a lot of critical acclaim. Where Dev Anand was paired opposite Nimmi in Saza’ (1951) and Andhiyaan’ (1952), she did 5 films - Badi Bahu’, ‘Sabzbaag’ (both 1951), ‘Humdard’ (1953), ‘Shikaar’ (1955) and Chhote Babu’ (1957) opposite Shekhar.

Nimmi had also sung a song nanadiya jaane de na, mori janam janam ki preet ricomposed by Roshan in film Bedardi’ (1951), whereas Aan’ (1952) was India’s first Technicolor Movie and was actress Nadira’s first film. According to Nimmi her character in the film ‘Aan’ called Mangala had become so famous that the films Tamil and English versions were released as ‘Mangala’ in many places.

Nimmi’s films Basant Bahaar’ (1956), ‘Sohni Mahiwal’ (1958) and Angulimal’ (1960) with Bharat Bhushan were much liked as well. Her career was at its peak in the 1950’s decade. During the 1960’s decade she worked as the main lead, parallel lead and character artist in movies like Shama’ (1961), ‘Mere Mehboob’ (1963), ‘Daal Me Kaala’ and ‘Pooja Ke Phool’ (both 1964)  and then sensing the changing tides of time after the 1965 film Akshdeep she married Ali Raza who was the dialogue writer for films like ‘Aan’, ‘Andaaz’, ‘Amar’, ‘Mother India’ and was the writer-director of ‘Pran Jaaye Par Vachan Na Jaaye’ and retired from her filmi career.

During the beginning of the 1960 decade, producer-director K.Asif had started making a film with Guru Dutt  and Nimmi called Love and God based on the story of Laila Majnu, but had to stop its shooting due to the demise of Guru Dutt in 1964. After some time K.Asif casted Sanjeev Kumar in place of Guru Dutt and started the shooting of the movie once again. But due to the sudden demise of K.Asif in 1971, the film ‘Love and God’ remained incomplete. After the efforts of producer-director K.C.Bokadia the film was released 15 years later in 1986 and subsequently this proved to be Nimmi’s last film.

ali raza
Nimmi used to live in Worli but had shifted to Juhu Tara Road a few years back. She remains all alone after Ali Raza’s decease in 2007. Nimmi might have broken her ties with the cinematic world but, even today, she enthusiastically participates in a number of functions associated to Hindi cinema. 


Acknowledgements : We are thankful to Shri Harmandir Singh ‘Hamraz’, Shri Harish Raghuvanshi, Shri Biren Kothari and Shri S.M.M.Ausaja for their valuable suggestions, guidance and help. 
Special thanks to Ms.Aksher Apoorva for the English translation of the write up.
............................................................................................................ 
Few links :
Jiya beqaraar hai/barsaat/1949

rote rote guzar gayi raat re/buzdil/1951

tu kaun hai mera/deedar/1951

aaj mere mann me sakhi/aan/1952

preet ye kaisi bol ri duniya/daag/1952

ritu aaye ritu jaaye sakhi ri/humdard/1953 

na milta gham/amar/1954

mera salaam le ja/uran khatola/1955

nain mile chain kahan/basant bahar/1956

kadar jaane na mora baalam/bhai bhai/1956

tumhare sang mai bhi chaloongi/sohni mahiwal/1958 

dheere dheere dhal re chanda/angulimal/1960

dharakte dil ki tamanna ho/shama/1961 

alla bachaye naujawano se/mere mehboob/1963 

meow meow meri sakhi/pooja ke phool/1964 

dil ka diya jala ke gaya/akashdeep/1965 

tumhare dar tak to/love & god/1986 
http://youtu.be/Q1Go6FnN1mU
........................................................................................................... 
ऋतु आए ऋतु जाए सखी री’- निम्मी
............शिशिर कृष्ण शर्मा

साल 1949 में बनी राजकपूर की फिल्मबरसातसे संगीतकार जोड़ीशंकर जयकिशनऔर उत्कृष्ट गीतकारोंशैलेन्द्रऔरहसरत जयपुरीके साथ ही एक बेमिसाल अभिनेत्री ने भी हिंदी सिनेमा में कदम रखा था, जिसका नाम आज भी दर्शकों के ज़हन में ताज़ा है। और वो नाम हैनिम्मीका। ये अलग बात है किबरसातकी ज़बर्दस्त कामयाबी ने जहां शंकर जयकिशन, शैलेन्द्र और हसरत जयपुरी कोआर.के.’ की टीम का अटूट हिस्सा बना डाला वहीं निम्मी के लिए ये इस बैनर की पहली और आख़िरी फ़िल्म साबित हुई। इसके बावजूद बेपनाह ख़ूबसूरती और सहज अभिनय के दम पर निम्मी बहुत जल्द अपनी एक अलग पहचान बनाने में कामयाब रहीं।

18 फ़रवरी 1933 को जन्मीं निम्मी के अब्बा मेरठ के रहने वाले थे। एक मुलाक़ात के दौरान निम्मी ने बताया था कि उनके दादा एक रईस सरकारी ठेकेदार थे जिनके गुज़रने के बाद निम्मी के अब्बा कारोबार को ठीक से संभाल नहीं पाए और धीरे धीरे सब कुछ लुटा बैठे। निम्मी कहती हैं, ‘मेरी मां आगरा से 24 मील (40 किलोमीटर) दूर फ़तेहाबाद क़स्बे की रहने वाली थीं और मेरा जन्म अपने ननिहाल में हुआ था। कारोबार डूबने के बाद अब्बा को रोज़ी-रोटी की तलाश में परिवार को साथ लेकर मजबूरन कोलकाता जाना पड़ा जहां पड़ोस में रहने वाले .आर.कारदार से हमारे पारिवारिक रिश्ते बन गए। हमारे हालात पर तरस खाकर .आर.कारदार ने अब्बा को जज का एक छोटा सा रोल दिया लेकिन कैमरा और लाईटें देखकर अब्बा घबराकर भाग खड़े हुए

उस ज़माने में प्लेबैक का चलन नहीं था और अभिनेताओं को कैमरे के सामने ख़ुद ही गाना पड़ता था। निम्मी के मुताबिक़ अपनी पत्नी के दबाव पर कारदार ने उसी फ़िल्म में निम्मी की मां वहीदन को जोगन के रोल में एक गीत गाने का मौक़ा दिया जो उनकी ज़िंदगी का अहम मोड़ साबित हुआ। उस फ़िल्म को देखकररणजीत मूवीटोनके मालिक सरदार चंदूलाल शाह ने 500 रूपए महिने के वेतन पर वहीदन को मुंबई बुलवा लिया।

वहीदन नेरणजीत मूवीटोन कीपृथ्वीपुत्र’, ‘प्रोफ़ेसर वूमन एम.एस.सी.’, ‘रिक्शावाला’, ‘सेक्रेट्री’ (सभी 1938), ‘ठोकर’ (1939) औरसागर फ़िल्म कंपनीकी महबूब द्वारा निर्देशितअलीबाबा’ (1940) जैसी फ़िल्मों में काम किया। लेकिन अचानक तबीयत बिगड़ जाने की वजह से उन्हें वापस अपने मायके फ़तेहाबाद जाना पड़ा जहां कुछ ही दिनों बाद उनका निधन हो गया। उस वक़्त निम्मी की उम्र महज़ 7 साल थी।

निम्मी कहती हैं, ‘मेरे नाना ज़मींदार थे और मां के गुज़रने के बाद मैं ननिहाल में ही रहने लगी थी। उस वक़्त तक मेरी मौसी सितारा भी ज्योति के नाम से फ़िल्मों में कदम रख चुकी थीं। ज्योति ने सागर मूवीटोनकी कॉमरेड्स’, ‘एक ही रास्ता’ (दोनों 1939), ‘नेशनल स्टूडियोज़की महबूब निर्देशित औरत’, ‘संस्कार’ (दोनों 1940) और विजय भट्ट कीदर्शन’ (1941) जैसी फ़िल्मों में काम किया था। उनकी शादी गायक-अभिनेता जी.एम.दुर्रानी से हुई थी

(तमाम कोशिशों के बावजूद इस बात की पुष्टि नहीं हो पायी कि कोलकाता में .आर.कारदार की वो कौन सी फ़िल्म थी जिसमें वहीदन ने पहली बार अभिनय किया था। उधर मशहूर कथक-डांसर सितारा देवी के मुताबिक़ वहीदन आगरा की मशहूर गाने वाली थीं और अजमेर शरीफ़ में, ख़्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर होने वाले सालाना उर्स में उनका गाना सुनकर उन्हें मुंबई, महबूब ने बुलाया था। सितारा देवी के मुताबिक़ वहीदन की छोटी बहन सितारा को नया नामज्योतिसितारा देवी ने ही दिया था।)

http://beetehuedin.blogspot.in/search/label/actress-dancer%20%3ASitara%20Devi

निम्मी के मुताबिक़ देश आज़ाद हुआ तो दंगे-फ़साद से बचने के लिए उन्हें अपने मौसी-मौसा के पास मुंबई आना पड़ा। उस वक़्त उनकी उम्र क़रीब 15 साल थी। वहीदन और ज्योति की वजह से महबूब निम्मी को भी पहले से जानते थे इसलिए एक रोज़ उन्होंने निम्मी को ताड़देव केसेंट्रल स्टूडियोजमें चल रही अपनी फ़िल्मअंदाज़की शूटिंग देखने के लिए बुलाया। फ़िल्मअंदाज़के दो नायकों में से एक राजकपूर उन दिनों बतौर निर्माता-निर्देशक फ़िल्मबरसातबना रहे थे।

राजकपूर नेअंदाज़के सेट पर मौजूद निम्मी को देखा तो उन्हें फ़िल्मबरसातका एक अहम रोल ऑफर कर दिया। इस तरह निम्मी के फ़िल्मी सफ़र की शुरूआत हुई। फ़िल्मबरसातमें निम्मी के हीरो प्रेमनाथ थे और इस फ़िल्म के मशहूर गीतजिया बेक़रार है’, ‘बरसात में हमसे मिले तुम सजनऔरपतली कमर है, तिरछी नज़र हैनिम्मी पर फ़िल्माए गए थे। निम्मी को, जिनका असली नामनवाब बानोहै, राजकपूर ने ही फ़िल्मबरसातमें ये फ़िल्मी नामनिम्मीदिया था।  

क़रीब 17 सालों के करियर के दौरान निम्मी ने कुल 46 फ़िल्मों में काम किया। फ़िल्मबरसात’ (1949) के बाद उन्हेंआर.के.’ की किसी और फ़िल्म में काम करने का तो मौक़ा नहीं मिला लेकिनदुर्गा पिक्चर्सकी फ़िल्मबावरा’ (1950) में ज़रूर वो राजकपूर की नायिका के तौर पर नज़र आयीं।जलते दीप’, ‘राजमुकुट’, ‘वफ़ा’ (सभी 1950), ‘बड़ी बहू’, ‘बेदर्दी’, ‘बुज़दिल’, ‘सज़ा’, ‘सब्ज़बाग़’ (1951) जैसी फिल्मों के बाद दूसरी बड़ी कामयाबी उन्हें फ़िल्मदीदार’ (1951) में मिली। इस फ़िल्म में उन्हें पहली बार दिलीप कुमार के साथ काम करने का मौक़ा मिला था।

दिलीप कुमार के साथ निम्मी ने कुल 5 फ़िल्मेंदीदार’ (1951), ‘आन’ (1952), ‘दाग़’ (1952), ‘अमर’ (1954) औरउड़नखटोला’ (1955) कीं। इनमेंअमरके अलावा बाक़ी सभी फ़िल्में बेहद कामयाब रहीं, हालांकिअमरने भी समालोचकों की ख़ूब तारीफ़ें बटोरीं।सज़ा’ (1951) औरआंधियां’ (1952) में निम्मी के हीरो देव आनंद थे तो शेखर के साथ उन्होंने 5 फ़िल्मों, ‘बड़ी बहू’, ‘सब्ज़बाग़’ (दोनों 1951), ‘हमदर्द’ (1953), ‘शिकार’ (1955) औरछोटे बाबू’ (1957) में काम किया।

फ़िल्मबेदर्दी’ (1951) में निम्मी ने रोशन के संगीत में एक गीतननदिया जाने दे , मोरी जनम जनम की प्रीत रीभी गाया था। उधरआन’ (1952) भारत में बनी पहली टेक्नीकलर फ़िल्म थी, और अभिनेत्री नादिरा की भी ये पहली फ़िल्म थी। निम्मी के मुताबिक़ फ़िल्मआनमें निभाया मंगला नाम का उनका चरित्र इतना मशहूर हुआ था कि इस फ़िल्म के तमिल और अंग्रेज़ी संस्करण कई जगहों परमंगलानाम से रिलीज़ किए गए थे।

भारतभूषण के साथ निम्मी की तीनों फ़िल्मेंबसंत बहार’ (1956), ‘सोहनी महिवाल’ (1958) औरअंगुलीमाल’ (1960) भी बेहद पसंद की गयीं। 1950 के दशक में उनका करियर अपनी बुलंदियों पर रहा। 1960 के दशक में उन्होंनेशमा’ (1961), ‘मेरे महबूब’ (1963), ‘दाल में काला और पूजा के फूल’ (दोनों 1964) जैसी फ़िल्मों में नायिका, सहनायिका और चरित्र भूमिकाएं कीं और फिर बदलते वक़्त के रूख़ को भांपकर साल 1965 में बनी फ़िल्मआकाशदीपके बाद,आन’, अंदाज़’, ‘अमर’, ‘मदर इंडियाजैसी फ़िल्मों के संवाद लेखक औरप्राण जाए पर वचन जाएके निर्देशक अलीरज़ा के साथ शादी करके अभिनय से सन्यास ले लिया।

1960 के दशक की शुरूआत में निर्माता-निर्देशक के.आसिफ़ ने गुरूदत्त और निम्मी को लेकर लैला-मजनूं की कहानी पर फ़िल्मलव एंड गॉडका निर्माण शुरू किया था जो साल 1964 में गुरूदत्त के गुज़रने की वजह से अटक गयी थी। कुछ समय बाद गुरूदत्त की जगह संजीवकुमार को लेकर के.आसिफ़ ने दोबारा शूटिंग शुरू की। लेकिन साल 1971 में अचानक ही के.आसिफ़ के गुज़र जाने से फ़िल्मलव एंड गॉडअधूरी रह गयी थी। निर्माता-निर्देशक के.सी.बोकाड़िया की कोशिशों से ये फ़िल्म क़रीब 15 सालों बाद 1986 में रिलीज़ हुई थी, और ये निम्मी की आख़िरी फ़िल्म साबित हुई।

निम्मी जो पहले वर्ली में रहती थीं, कुछ साल पहले जुहूतारा रोड पर शिफ़्ट हो चुकी हैं 2007 में अलीरज़ा सा गुज़रने के बाद से वो अब बिल्कुल अकेली हैं। सिनेमा से निम्मी का रिश्ता भले ही टूट चुका हो लेकिन हिंदी सिनेमा से जुड़े सार्वजनिक कार्यक्रमों में हिस्सा लेने से वो आज भी पीछे नहीं रहतीं।  

आभार : बहुमूल्य मार्गदर्शन और सहायता के लिए हम श्री हरमंदिर सिंह हमराज़’, श्री हरीश रघुवंशी, श्री बिरेन कोठारी और श्री एस.एम.एम.औसजा के आभारी हैं।
अंग्रेज़ी अनुवाद हेतु हम सुश्री अक्षर अपूर्वा के विशेष रूप से आभारी हैं। 
...........................................................................................................      

4 comments:

  1. For the first time I got so much information on Nimmi! Thanks for this biography!

    ReplyDelete
  2. उत्कृष्ट आर्टिकल, बहुत सी नयी जानकारी मिली , खास कर के उनके निजी जीवन के बारे में .

    एक बात, वह अकेली क्यूं रहती हैं ,क्यां उनके परिवार में और कोई नहीं है ?

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद जनाब Pat an Jelly और नरेश जी...!!!

    @नरेश जी : कृपया ध्यान दें, मैंने '...अकेली रहती हैं' नहीं लिखा, बल्कि मैंने लिखा है - '2007 में अलीरज़ा साहब गुज़रने के बाद से वो अब बिल्कुल अकेली हैं।'...और इसकी वजह (ख़ासतौर से) महिलाओं के लिए 'नि:संतान' शब्द का प्रयोग करने की मेरी झिझक है। जहां तक प्रश्न है 'अकेलेपन' का, तो निम्मी जी अकेली नहीं रहतीं, बल्कि उनके साथ उनकी भतीजी और शायद भतीजा वगैरा भी रहते हैं। अपने घर पर मौजूद जिन महिला से निम्मी जी ने मुझे अपनी भतीजी के तौर पर मिलवाया था वो नौशाद साहब की बरसी पर, उनके घर पर भी निम्मी जी के साथ मुझे मिली थीं। नौशाद साहब पर आलेख में दी गयी उस अवसर की तस्वीर में उन्हें देखा जा सकता है -

    http://beetehuedin.blogspot.in/search/label/composer%20%3A%20Naushad

    ReplyDelete
  4. निम्मीजी उन गिनी चुनी अभिनेत्रियों में से है जिन्होने अपनी खूबसुरत आँखों से भी अभिनय किया, याद कीजिए भाई -भाई का गीत "शराबी जा" की शुरुआत में जब वे आलाप गाती हैं और फिर कदर जाने ना। हमदर्द का ऋतु आये ऋतु जाए सखी री..
    हमेशा की तरह बहुत ही बढ़िया लेख और जानकारी।

    ReplyDelete